अब बुंदेलों के घर-घर पहुंचेगा साफ पानी, सीएम योगी आज करेंगे जल जीवन मिशन की शुरुआत

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज बुंदेलखंड में उत्तर प्रदेश जल जीवन मिशन 'हर घर नल का जल' योजना की शुरूआत करेंगे।

झांसी. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज बुंदेलखंड में उत्तर प्रदेश जल जीवन मिशन 'हर घर नल का जल' योजना की शुरूआत करेंगे। पहले चरण में बुंदेलखंड के तीन जिलों के 770 ग्राम पंचायतों तक साफ पानी पहुंचाने से इसकी शुरुआत होगी। सीएम योगी दोपहर 12 बजकर 30 मिनट झांसी से इस योजना की शुरुआत करेंगे। सूबे में पानी की कमी से जूझने वाला इलाका बुंदेलखंड ही है. इस योजना की शुरुआत के बाद काफी हद तक बुंदेलों की प्यास बुझेगी। इस दौरान उनके साथ केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र शेखावत भी मौजूद रहेंगे। दरअसल बुंदेलखंड क्षेत्र के अंतर्गत झांसी, महोबा, ललितपुर, जालौन, हमीरपुर, बांदा और चित्रकूट के कुल 4513 राजस्व गांवों में 891 में पहले से ही पेयजल योजनाओं का लाभ मिल रहा है। बाकी 3622 राजस्व गांवों की लगभग 67 लाख आबादी को 479 योजनाओं द्वारा पाइप पेयजल की व्यवस्था की जा रही है।

योजनाओं का शुभारंभ करेंगे सीएम योगी

सीएम योगी आज 2100 करोड़ रुपए से अधिक की योजनाओं का शुभारंभ भी करेंगे। आपको बता दें कि योगी सरकार ने बुंदेलखंड के लिए राज्य पेयजल योजना शुरू की थी। इस योजना में 10,131.92 करोड़ रुपये से 67 लाख लोग लाभांवित होंगे। इसमें झांसी में 1627.94 करोड़ की लागत वाली 10 योजनाएं सतही स्रोत (सरफेस वॉटर) पर आधारित होंगी जिनका लाभ 644 राजस्व गांवों की 11,42,249 लोगों मिलेगा। ललितपुर में 1623.47 करोड़ की लागत वाली 16 सरफेस वॉटर रिसोर्स और 12 भूजल (ग्राउंड वॉटर) आधारित ग्रामीण पाइप पेयजल योजनाओं का निर्माण किया जा रहा है। जिनका लाभ 559 राजस्व ग्रामों की 9,87,689 आबादी को मिलेगा। महोबा में 1219.74 करोड़ की लागत से 364 राजस्व ग्रामों के 6,68,660 लोग लाभांवित होंगे।


चार चरणों में परियोजना होगी पूरी

यह परियोजना चार चरणों में पूरी होगी। पहले चरण की शुरूआत बुंदेलखंड से होगी। बुंदेलखंड के सात जिलों झांसी, महोबा, ललितपुर, जालौन, हमीरपुर, बांदा और चित्रकूट के कुल 3622 राजस्व गांव। इन सात जिलों में 479 योजनाएं शुरू होंगी और इससे लगभग 67 लाख की आबादी लाभांवित होगी। दूसरे चरण में विंध्य क्षेत्र और तीसरे चरण में जापानी बुखार और इंसेफलाइटिस से प्रभावित क्षेत्रों को उत्तर प्रदेश जल जीवन मिशन कवर करेगा। चौथे चरण में आर्सेनिक व फ्लोराइड से प्रभावित गंगा यमुना के तटवर्ती क्षेत्रों काम शुरू होगा। इस मिशन के तहत मेंटीनेंस का कार्य अगले 10 वर्षों तक कार्यदायी संस्था ही करेंगी। पहले चरण में बुंदेलखंड और विंध्य क्षेत्र के लिए 2185 करोड़ की परियोजना की शुरूआत होगी। इससे महोबा, ललितपुर और झांसी की 14 लाख की आबादी तक नल का जल पहुंचेगा। सरकार की कोशिश है कि अगले 2 साल के अंदर पहले बुंदेलखंड और फिर विंध्यांचल के हर घर तक पीने का पानी पहुंच सके। जिससे यहां की पीढ़ियों से चली आ रही लोगों की शुद्ध जल की प्यास को बुझाया जा सके।

नितिन श्रीवास्तव Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned