बुंदेलखंड के हर घर में पहुंचेगा नल से पानी, सीएम योगी 30 जून को करेंगे योजना की शुरुआत

- CM Yogi Adityanath जल जीवन मिशन अभियान की बुंदेलखंड से करेंगे शुरुआत
- केंद्र सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना को उत्तर प्रदेश में चार चरणों में लागू किया जाएगा

By: Hariom Dwivedi

Published: 29 Jun 2020, 06:19 PM IST

झांसी. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) 30 जून को बुंदेलखंड से 'हर घर, नल से जल योजना' (Har Ghar Water Scheme) की शुरुआत करेंगे। 10,131 करोड़ की इस परियोजना से झांसी, ललितपुर और महोबा की 14 लाख आबादी तक नल का जल पहुंचेगा। केंद्र सरकार की जल जीवन मिशन अभियान (Water Life Mission Campaign) के तहत बुंदेलखंड, विंध्याचल, इंसेफलाइटिस प्रभावित क्षेत्रों और आर्सेनिक व फ्लोराइड प्रभावित इलाकों में हर घर तक नल से जल पहुंचाने की योजना योजना है। केंद्र सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना को उत्तर प्रदेश में चार चरणों में लागू किया जाएगा। पहले चरण में बुंदेलखंड और विंध्य क्षेत्र के लिए 2185 करोड़ की परियोजना की शुरुआत होगी। जल जीवन मिशन अभियान के पहले चरण में बुंदेलखंड और विंध्याचल में अगले 2 साल के भीतर हर घर तक पीने का पानी पहुंचेगा।

जल जीवन मिशन अभियान के तहत पहले उन क्षेत्रों को चुना गया है, जहां पीने के पानी का सबसे ज्यादा संकट है या जहां जलजनित बीमारियों का प्रकोप सबसे ज्यादा है। योजना के तहत सर्फेस वाटर और भूजल से पेयजल घरों तक पहुंचाया जाएगा। जलशक्ति विभाग के अधिकारियों के मुताबिक इस अभियान के चलते 15 हजार करोड़ रुपए की लागत से पहले चरण में बुंदेलखंड और विंध्याचल में अगले दो साल के भीतर हर घर पीने का पानी पहुंचेगा। अभियान की शुरुआत से पहले मुख्यमंत्री योगी ने जल शक्ति मंत्रालय की महत्वपूर्ण बैठक कर योजना की रणनीति पर चर्चा की और निर्देश जारी किए।

यूपी में चार चरणों में लागू होगी योजना
केंद्र सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना को उत्तर प्रदेश में चार चरणों में लागू किया जाएगा। पहले चरण में बुंदेलखंड और विंध्य क्षेत्र के लिए 2185 करोड़ की परियोजना की शुरुआत होगी। दूसरे चरण में सोनभद्र और मिर्जापुर में हर घर तक पीने का पानी पहुंचाया जाएगा। तीसरे चरण में जापानी बुखार और इंसेफलाइटिस से प्रभावित क्षेत्रों गोरखपुर, महराजगंज, कुशीनगर, संतकबीरनगर, बस्ती व देवरिया में इस योजना के तहत पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी। चौथे व अंतिम चरण में आर्सेनिक व फ्लोराइड से प्रभावित गंगा-यमुना के तटवर्ती क्षेत्रों में पेयजल योजना पहुंचेगी।

BJP
Show More
Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned