तीन देशों में चल रही इस योजना में जुड़े यूपी के 15 और जिले, चलेगा अभियान

कई देशों में चल रही इस योजना में जुड़े यूपी के 15 और जिले, चलेगा अभियान

By: BK Gupta

Published: 24 May 2018, 10:42 PM IST

झांसी । शहरी गरीब क्षेत्रों में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाने के उद्देश्य से ‘द चैलेंज इनिशिएटिव फॉर हेल्दी सिटीज (TCIHC) कार्यक्रम चलाया जा रहा है। इसके माध्यम से परिवार कल्याण और मातृत्व स्वास्थ्य पर विशेष रूप से ध्यान दिया जाएगा। इस कार्यक्रम के जरिये शहरी गरीब क्षेत्रों में स्वास्थ्य संबंधी कमियों को अंकित कर उनका सुदृढ़ीकरण किया जाएगा। ये एक वैश्विक प्रोग्राम ह। यह भारत के अलावा तीन और देशों में चलाया जा रहा है। भारत में भी ये तीन राज्यों उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और ओड़ीसा में चलाया जा रहा है। उत्तर प्रदेश में ये प्रोग्राम पहले पांच शहरों इलाहाबाद, फ़िरोज़ाबाद, गोरखपुर, सहारनपुर, और बनारस में चलाया जा रहा था, लेकिन अभी इसमें 15 शहरों को और जोड़ा गया है। इसमें एक झांसी भी हैं। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य है कि शहरी गरीब क्षेत्रों के लिए स्वास्थ्य को लेकर सभी विभागों को मिलकर कार्य करना है।
कार्यशाला में दिया संदेश
शहरी गरीब क्षेत्रों में बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं और परिवार नियोजन के संचालन हेतु नगर में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। संयुक्त निदेशक डा॰ रेखा रानी की अध्यक्षता में इस कार्यशाला का संचालन पॉपुलेशन सर्विसेस इंटरनेशनल (पीएसआई), इंडिया द्वारा किया गया। परिवार कल्याण के बारे में डा॰ रेखा रानी ने बताया कि सर्वप्रथम हमें परिवार नियोजन की सभी विधियों को जन-जन तक पहुंचाना होगा। साथ ही अभी हाल ही में जो दो नई अस्थायी विधियां अंतरा इंजेक्शन और छाया टैबलेट शुरू की गई हैं, उनके बारे मे भी लोगों को जागरूक करना होगा।
शहरी क्षेत्र में ये असमानताएं
कार्यशाला की शुरुआत में एसीएमओ डा॰ ए के त्रिपाठी ने शहरी गरीब क्षेत्रों के बारे में जानकारी देते हुये कहा कि शहरी क्षेत्रों में बहुत असमानतायेँ हैं। एक ओर एक तबका स्वास्थ्य सुविधाएं लेने के लिए समर्थ है तो वहीं दूसरी ओर एक ऐसा हिस्सा है जो स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए जागरूक भी नहीं है। इस मौके पर सिफप्सा के मंडल प्रबंधक आनंद चौबे ने कहा कि सभी विभागों के बीच आपसी सामंजस्य की अतिआवश्यकता है। यदि कोई बच्चा कुपोषण का शिकार है या उसे डायरिया हो गया है, तो इसकी ज़िम्मेदारी स्वास्थ्य विभाग के साथ-साथ समेकित बाल विकास विभाग, नगर निगम आदि की भी है। इस कार्यशाला में स्वास्थ्य विभाग के साथ- साथ नगर निगम, शिक्षा विभाग, समेकित बाल विकास, जिला कार्यक्रम प्रबंधन इकाई, शहरी कार्यक्रम प्रबंधन इकाई, पीएसआई के सदस्य, तकनीकी सहायता इकाई आदि विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

Show More
BK Gupta Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned