असलहों के सौदागर पकड़े गए, भोपाल से लाकर बेचते थे असलहे

असलहों के सौदागर पकड़े गए, भोपाल से लाकर बेचते थे असलहे

Hariom Dwivedi | Publish: Oct, 13 2017 07:27:10 AM (IST) Jhansi, Uttar Pradesh, India

असलहों के सौदागर पकड़े गए, भोपाल से लाकर बेचते थे असलहे

झांसी। प्रेमनगर थाने की पुलिस ने मध्य प्रदेश से लाकर झांसी में असलहे बेचने वाले गैंग के दो सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया है। उनके पास से तमंचे, कारतूस, लैपटॉप और दर्जनों मोबाइल फोन बरामद किए गए हैं। इनमें एक आरोपी चोरी के मामले में चार साल से फरार चल रहा था। उस पर पांच हजार का इनाम भी था।
एक बदमाश हुआ फरार
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जे के शुक्ल, पुलिस अधीक्षक नगर देवेश कुमार पांडेय और सीओ सदर जितेन्द्र सिंह परिहार के निर्देश पर प्रेमनगर थाने की पुलिस शातिर अपराधियों की तलाश में लगी हुई थी। तभी सूचना मिली की पुलिया नंबर नौ की तरफ से रेलवे लाइन व रेलवे सुपरवाइजर ट्रेनिंग सेंटर होते हुए दो युवक आ रहे हैं। इनके पास असलहे और चोरी के मोबाइल हैं। इस सूचना पर गई पुलिस टीम ने घेराबंदी कर दो युवकों को पकड़ लिया जबकि एक भाग गया। पुलिस के मुताबिक मूल रूप से सीपरी बाजार थाना क्षेत्र के दीनदयाल नगर निवासी और हाल में भोपाल डीआईजी बंगले के पास झोपड़ी मध्य प्रदेश में रहने वाले राजा उर्फ हारुन उर्फ शाहरुख के साथ ही पुलिया नंबर नौ के दादा मियॉ मोहल्ले में रहने वाले रमजान उर्फ लारा को गिरफ्तार किया गया है।
भोपाल से लाकर झांसी में बेचते थे असलहे
पुलिस के मुताबिक राजा उर्फ हारुन ने बताया कि भोपाल में रहने वाला कद्दन नामक युवक उसे असलहा देता था। इसके बाद वह भोपाल से लाकर झांसी में बेचता था। जब असलहे नहीं मिलते थे तब वह दोस्त के साथ चलती ट्रेनों में मोबाइल फोन चोरी की वारदातें करते थे। तमंचे व मोबाइल फोन शहर में कई लोगों को बेच चुके हैं।राजा का कहना है कि चार साल पहले उसने प्रेमनगर थाना क्षेत्र में एक चोरी की वारदात को अंजाम दिया था। इसी में वह वांछित भी है।
इतना माल बरामद
पुलिस के मुताबिक इनके पास से विभिन्न कंपनियों के 14 मोबाइल, एक लैपटॉप, दो 315 बोर के देशी तमंचे, 315 बोर के 40 कारतूस, 32 बोर के 14 कारतूस बरामद किए गए हैं।

Ad Block is Banned