पीएम की इस योजना से गरीबों के सपने होंगे साकार, खोजी जा रही जमीन

पीएम की इस योजना से गरीबों के सपने होंगे साकार, खोजी जा रही जमीन

By: Abhishek Gupta

Published: 11 Dec 2017, 07:28 AM IST

झांसी। केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गरीबों के सपनों को पंख लगने वाले हैं। इसके तहत बीपीएल श्रेणी में आने वाले आवासहीन लोगों के मकान का सपना केंद्र सरकार पूरा करने वाली है। इसके लिए उन्हें केवल दो लाख रुपये की व्यवस्था करनी होगी। इतने में ही उन्हें बना बनाया एक छोटा सा मकान मिल जाएगा। इस योजना के लिए जमीन की तलाश तेज हो गई है।
ऐसा होगा डिजायन
भारत सरकार ने 2022 तक हर परिवार को घर उपलब्ध कराने की योजना बनाई थी। अब वह धरातल पर उतरने जा रही है। ग्रामीण क्षेत्रों में यह योजना लागू हो चुकी है। अब बारी नगरीय क्षेत्र की है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले लोगों को दो कमरों का एक मकान उपलब्ध कराया जाएगा। इसमें एक शौचालय और एक रसोईघर भी होगा। प्रत्येक मकान की लागत 4.50 लाख रुपये होगी। इसमें से दो लाख रुपये लाभार्थी को देने होंगे, जबकि डेढ़ लाख रुपये केंद्र सरकार और एक लाख रुपये प्रदेश सरकार देगी। झांसी में पांच सौ आवास बनाने का लक्ष्य रखा गया है। आवास निर्माण की जिम्मेदारी झांसी विकास प्राधिकरण की होगी। आवास बनाने के लिए ढाई एकड़ जमीन की जरुरत आंकी गई है। इसके लिए नगर निगम और तहसील से नि:शुल्क जमीन उपलब्ध कराने को कहा गया है।
यह है पात्रता
लाभार्थी परिवार में पति, पत्नी और अविवाहित पुत्र और/अथवा अविवाहित पुत्री शामिल होंगे। आय अर्जित करने वाले व्यस्क सदस्य को (वैवाहिक स्थिति पर ध्यान दिए बिना) अलग परिवार के रूप में माना जा सकता है, बशर्ते कि लाभार्थी के पास या तो उसके नाम से भारत के किसी भी भाग में पक्का मकान नहीं होना चाहिए। विवाहित जोड़े के मामले में, या तो पति/पत्नी अथवा संयुक्त स्वामित्व में दोनों एक साथ, एक आवास के लिए पात्र होंगे बशर्ते की स्कीम के तहत परिवार की आय पात्रता के अंतर्गत आती हो। लाभार्थी परिवार द्वारा भारत सरकार से किसी भी आवास स्कीम के अंतर्गत केन्द्रीय सहायता प्राप्त नहीं की हो।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned