रेलवे विजिलेंस की टीम ने झांसी से कार्यालय अधीक्षक को रिश्वत लेते पकड़ा

रेलवे विजिलेंस की टीम ने झांसी से कार्यालय अधीक्षक को रिश्वत लेते पकड़ा

BK Gupta | Publish: Sep, 05 2018 07:48:43 PM (IST) Jhansi, Uttar Pradesh, India

रेलवे विजिलेंस की टीम ने झांसी से कार्यालय अधीक्षक को रिश्वत लेते पकड़ा

झांसी। उत्तर मध्य रेलवे के मुख्यालय इलाहाबाद से आई विजिलेंस (सतर्कता विभाग) की टीम ने झांसी मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय के पर्सनल विभाग के कार्यालय अधीक्षक सज्जन सिंह यादव को रिश्वत लेते हुए पकड़ लिया है। उन्हें टीआरएस कर्मी से रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया है। अब विजिलेंस टीम उनसे विस्तार से पूछताछ करने में जुट गई है। उधर, विजिलेंस की टीम द्वारा की गई इस कार्रवाई की जानकारी लगते ही मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय में हड़कंप मच गया। इस मामले में झांसी रेलवे के जनसंपर्क अधिकारी मनोज कुमार का कहना है कि विजिलेंस टीम द्वारा जांच पूरी करने के बाद की गई संस्तुति के आधार पर ही आरोपी सज्जन सिंह के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी। इस कार्रवाई में सतर्कता विभाग के सतर्कता निरीक्षक पंकज अहेरवार, अवनीश द्विवेदी, एम.के. कुलक्षेष्‍ठ एवं बी.के. खरे शामिल रहे।

प्रमोशन के नाम पर मांगी गई थी रिश्वत

रेलवे के जनसंपर्क अधिकारी के मुताबिक टीआरएस विभाग में कार्यरत प्रवेश कुमार मीणा ने विभागीय कार्यालय अधीक्षक सज्जन सिंह यादव पर वेतन निर्धारण के नाम पर रिश्वत मांगने का आरोप लगाया था। इसकी शिकायत उसने विजिलेंस विभाग में की। उसी शिकायत के आधार पर विजिलेंस विभाग की टीम ने आरोपी को पकड़ने का कार्यक्रम बनाया। तय कार्यक्रम के मुताबिक विजिलेंस टीम आज रेलवे मुख्यालय इलाहाबाद से झांसी पहुंची। इसके बाद शिकायतकर्ता कर्मचारी को भी सूचना दी गई। फिर योजनाबद्ध तरीके से टीआरएस कर्मी को उक्त कार्यालय अधीक्षक के पास भेजा गया। वहां उसने कार्यालय अधीक्षक को 2000 रुपये का नोट दिया। नोट देते ही टीम तुरंत वहां पहुंच गई और कार्यालय अधीक्षक सज्जन सिंह यादव को पकड़ लिया।

विभागीय कार्रवाई भी होगी

इस मामले में झांसी रेलवे के जनसंपर्क अधिकारी मनोज कुमार का कहना है कि आरोपी कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की एक विभागीय प्रक्रिया है। इसके हिसाब से पहले विजिलेंस टीम द्वारा जांच पूरी की जाएगी। इस जांच को पूरा करने के बाद विजिलेंस टीम द्वारा की गई संस्तुति के आधार पर ही आरोपी सज्जन सिंह के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी।

Ad Block is Banned