पुलिस और गोताखोरों ने 49 किलोमीटर तक नहर में की खोज, पर वो नहीं मिले

पुलिस अफसर बोले- जारी रहेगा सर्च अभियान

By: Abhishek Gupta

Published: 12 Nov 2017, 06:17 AM IST

झांसी। राजघाट नहर में डूबे दो युवकों की तलाश में पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों ने गोताखोरों की मदद से करीब 49 किलोमीटर तक सर्च अभियान चलाया, परंतु उन दोनों का कहीं कोई पता नहीं चला। इससे सभी को निराशा ही हाथ लगी।

पैर फिसलने से बह गए थे नहर में

प्रेमनगर थाना क्षेत्र के शारदा कालोनी में रहने वाला पंकज विश्वकर्मा व संदीप कुमार अपने साथी के साथ राजघाट नहर में नहाने के लिए गए थे। इसी दौरान संदीप और पंकज गहराई में डूबने लगे, तो उनके साथी ने बचाने की कोशिश की। वहां पानी का बहाव तेज होने के कारण वह भी बहने लगा। इस पर वहां खड़े लोगों ने उस युवक को किसी तरह बचा लिया। जबकि संदीप व पंकज का पता नहीं चला। देर शाम तक भी दोनों का पता नहीं चला था। इसकी जानकारी दोनों के परिजनों को हुई तो पुलिस को सूचना दी गई। सूचना मिलने पर पुलिस उनकी तलाश में जुटी।

इस तरह चलाया गया सर्च अभियान

अगली सुबह सूचना मिली कि सिमरा भागौर के पास दो युवकों के शव पड़े हैं। इस सूचना पर नगर मजिस्ट्रेट चंद्र प्रकाश तिवारी, सीओ सदर जितेन्द्र सिंह परिहार व प्रेमनगर थानाध्यक्ष स्वतंत्र कुमार सिंह मय फोर्स के मौके पर पहुंचे। वहां पर उन्हें कोई शव नहीं मिला। पता चला कि किसी ने वहां शव होने की गलत सूचना दे दी। इसके कुछ देर बाद पुलिस व प्रशासन के अधिकारी अंगूरी डैम पहुंचे। वहां उन्होंने गोताखोरों की टीम को डैम में उतारकर दोनों युवकों की खोज कराने का काफी प्रयास किया मगर उनका पता नहीं चला। इसके बाद टीम ने कांटे डालकर दोनों युवकों को खोजने का काफी प्रयास किया मगर सुराग नहीं मिला। इसी बीच टीम चिरुला बार्डर तक पहुंची। यहां पर भी दोनों युवकों की तलाश की। इसके बावजूद उनका पता नहीं चला। पुलिस व प्रशासन के अफसरों की टीम ने करीब 49 किलोमीटर का सफर तय किया, लेकिन दोनों युवकों के शव नहीं मिले। इसके बाद देर शाम दोनों टीम वहां से वापस लौट आईं। अब पुलिस का कहना है कि राजघाट नहर में ट्यूबवालों का भी सहयोग लिया गया था। अब रविवार को जलकुंभी को चेक किया जाएगा।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned