काले गेंहूं की खेती बदलेगी किसानों के दिन, कम लागत में होगा ज्यादा मुनाफा

jhunjhunu news: झुंझुनूं/सूरजगढ़ (लक्ष्मीकांत शर्मा). क्षेत्र के किसान अब सामान्य गेहंू के साथ काले गेहूं की खेती भी करने लगे हैं।घरडू गांव के दो किसानों ने इस वर्ष अपने खेतों में काले गेहंू की फसल उगाई है, जो अब बड़ी होने लगी है। घरडू गांव के किसान धर्मवीर व लीलाधर भडिय़ा ने इस वर्ष नेशनल एग्री फूड बायो टेक्नोलॉजी इंस्टीट्यूट मोहाली से काले गेहंू के बीज खरीद कर करीब दस बीघा खेत में बोये हैं।

झुंझुनूं/सूरजगढ़ (लक्ष्मीकांत शर्मा). क्षेत्र के किसान अब सामान्य गेहंू के साथ काले गेहूं की खेती भी करने लगे हैं।घरडू गांव के दो किसानों ने इस वर्ष अपने खेतों में काले गेहंू की फसल उगाई है, जो अब बड़ी होने लगी है। घरडू गांव के किसान धर्मवीर व लीलाधर भडिय़ा ने इस वर्ष नेशनल एग्री फूड बायो टेक्नोलॉजी इंस्टीट्यूट मोहाली से काले गेहंू के बीज खरीद कर करीब दस बीघा खेत में बोये हैं।

किसान काले गेहंू की फसल की देखभाल भी पूर्णतया ऑर्गेनिक तरीके से कर रहे हैं। किसान लीलाधर ने बताया कि वह अपने खेतों में ऑर्गेनिक खेती पिछले चार पांच वर्षों से करते आ रहे हैं। इस वजह से उनका सम्पर्क नेशनल एग्री फूड बायो टेक्नोलॉजी इंस्टीट्यूट मोहाली (पंजाब)से बना हुआ है। इंस्टीट्यूट की डॉ. मोनिका गर्ग ने दस वर्ष तक काले गेहंू के औषधीय तत्वों पर गहन रिसर्च कर उसके सुलभ परिणाम बताए तो उससे प्रेरित होकर इस वर्ष काले गेहंू के बीज इंस्टीट्यूट से मंगवाए। किसान लीलाधर ने बताया कि रासायनिक खेती की बजाय ऑर्गेनिक खेती किसान के लिए काफी फायदेमंद होती है। ऑर्गनिक फसल स्वास्थ्य के लिए भी काफी गुणकारी होती है। लीलाधर ने बताया कि ऑर्गेनिक खेती में किसान की लागत काफी कम होती है जिससे उन्हें फसल की पैदावार में मुनाफा भी अधिक होता है। काल गेहंू रोग प्रतिरोगी व कीट प्रतिरोधी प्रजाति का माना गया है।

कम लागत, मुनाफ ज्यादा

साधारण तय गेहंू-बाजरे से 18 से 22 रुपए किलो तक के भाव मिलते हैं, जबकि काले गेहंू में औषधीय तत्वों के कारण यह बाजारों में 150 से 200 रुपए किलो तक में बेचे जाते हैं। काले गेहंू की फसल के पैदावार के बाद किसान की आर्थिक स्थिति भी काफी मजबूत होगी। वहीं कई जगह इसकी मांग सामान्य गेहूं से ज्यादा है।

यह है विशेषता

सीड टेक्नोलॉजी के अनुसार काले गेहंू दिखने में थोड़े काले व बैंगनी होते हैं। इनका स्वाद साधारण गेहंू से काफी अलग व गुणकारी है। एंथ्रोसाइनीन पिंगमेंट की मात्रा ज्यादा होने के कारण ये काले व बैंगनी होते हैं। साधारण गेहंू में इसकी मात्रा 5 से 15 प्रतिशत पीपीएम तक होती है, जबकि काले गेहंू में इनकी मात्रा 40 से 140 प्रतिशत तक होती है। पौधे हरे रंग के होते हैं, बाद में पकने पर बाली काली हो जाती है। जिले में अभी इसका रकबा कम है, लेकिन मुनाफे को देखते हुए इसका रकबा बढऩे की संभावना है।
इनका कहना है
काले गेहूं में प्रोटीन ज्यादा होता है।शुगरवालों को फायदा होता है। सूरजगढ़ सहित कई जगह इसकी खेती हो रही है।खेती अभी तक सफल है।
शीशराम जाखड़, उप परियोजना निदेशक, आत्मा, कृषि विभाग

Show More
gunjan shekhawat Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned