ये है दुनिया की पांचवीं सबसे खतरनाक बीमारी, इसी से मरता है हर दूसरा वृद्ध भारतीय

vishwanath saini

Publish: Nov, 15 2017 06:15:46 (IST)

Jhunjhunu, Rajasthan, India
ये है दुनिया की पांचवीं सबसे खतरनाक बीमारी, इसी से मरता है हर दूसरा वृद्ध भारतीय

क्रॉनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) दुनिया भर में पांचवां सबसे घातक रोग बन चुका है।

झुंझुनूं. क्रॉनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) दुनिया भर में पांचवां सबसे घातक रोग बन चुका है।अक्सर यह माना जाता था कि यह रोग धूम्रपान करने वालों को होता है, लेकिन विकासशील देशों में जो लोग धूम्रपान नहीं करते इसके तेजी से शिकार हो रहे हैं। डॉ. नरेन्द्र श्योराण ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में भोजन पकाने आदि घरेलू कार्यों में लकड़ी का उपयोग किया जाता है।

 

झुंझुनूं जिले के मलसीसर के धोरों में पहुंचा हिमालय का पानी, पूरे जिले में दौड़ गई खुशी की लहर

 

महिलाओं के अधिकांश समय रसोई में बिताने से उनमें इस बीमारी से पीडि़त होने की आशंका बढ़ जाती है। उन्होंने बताया कि विकासशील देशों में 50 प्रतिशत मौतें बायोमास के धुएं के कारण होती है।उन्होंने बताया कि आउटडोर में आने वाले कुल पांच रोगियों में सीओपीडी के लक्षण पाए जाते हैं। डॉ. पुष्पेन्द्र बुडानिया ने बताया कि एनएचएएनईएस के सर्वे के मुताबिक परिवहन सम्बंधी व्यवसायों, मशीन ऑपरेटर्स, कंस्ट्रक्शन टे्रडस फ्रेट, स्टॉक और मटीरियल का व्यवसाय करने वाले, रेकॉडर्स प्रोसेसिंग आदि से जुड़े उद्योग व व्यवसायों से जुड़े लोगों में सीओपीडी का अधिक जोखिम रहता है।

 

वायु प्रदूषण की दृष्टि से दुनिया के सबसे प्रदूषित 20 शहरों में से दस भारत में हैं। केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के सर्वे के अनुसार नियंत्रत समूह के 20.1 की तुलना में दिल्ली में 40.3 प्रतिशत लोगों े फेफड़े की काम करने की क्षमता में गिरावट आई है।

लक्षण
डॉ. प्रियंका ने बताया कि थोडे चलने पर सांस फूलना, खांसी के साथ बलगम की शिकायत, बार-बार खांसी आना, नाक में जकडऩ, अक्सर छींके आना, नाक का लगातार बहना, खुजली, खांसी का रात को बिगडऩा लक्षणों में शामिल है।

- लंबे समय तक खांसी-जुकाम के साथ कफ की शिकायत।
- थोड़ा सा भी चलने पर सांस लेने में दिक्कत।

बचाव
- नाक और मुंह ढंककर निकले।
- ठंडक से बचने के लिए पूरी बांह के कपड़े पहनें।
-इन्हेलर प्रयोग करने वाले समय-समय पर चेकअप करवाएं।
-सिगरेट के धुएं और प्रदूषण से बचें।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned