रोचक किस्सा: जब बार-बार हाथ धोने के कारण हार गए थे चुनाव!

एक पुरानी बात बताता हूं। मेरे बार-बार हाथ धोने से कई बार तो मेरी पत्नी भी मुझसे नाराज हो जाती थी। हाथ धोना तो हमारी पुरानी परम्परा है, जब साबुन नहीं होता था तब हमारे बुजुर्ग मिट्टी से हाथ धोते थे।

झुंझुनूूं. दिन में कई बार हाथ धोना मेरी बचपन से ही आदत है। मैं इसे सही मानता हूं, क्योंकि हाथ नहीं धोने से अनेक बीमारियां फैल जाती है। जब मैंने 2013 में मंडावा से विधानसभा का चुनाव लड़ा, तब विरोधियों ने इसका दुष्प्रचार किया। कहते थे डॉ चंद्रभान तो आम आदमी से हाथ मिलाने के बाद बार-बार हाथों को धोते है। जबकि हकीकत में यह था कि कोई मीटिंग हो, कहीं जाकर आना हो तब मैं हर बार हाथ धोता था। इस बात का दुष्प्रचार किया गया। चुनाव में उनको हार का सामना करना पड़ा था।

#dr chandrabhan
पिछले दिनों मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा के बेटे की शादी में मिले। तब मुझे कहा, डॉक्टर साहब अब तो आपके हाथ धोने की आदत को पूरा विश्व अपना रहा है। एक पुरानी बात बताता हूं। मेरे बार-बार हाथ धोने से कई बार तो मेरी पत्नी भी मुझसे नाराज हो जाती थी। हाथ धोना तो हमारी पुरानी परम्परा है, जब साबुन नहीं होता था तब हमारे बुजुर्ग मिट्टी से हाथ धोते थे। अब तो महाशक्ति ट्रम्प भी हाथ मिलाने की बजाय हाथ जोड़कर अभिवादन करने लगा है। वर्ष 1848 में हंगरी के डॉक्टर इग्नाज सेमेल्विस ने बताया था कि हाथ धोना क्यों जरूरी है। जब तक यह मान्यता था कि बीमारी बदबू के कारण होती है, जबकि इग्नाज ने कहा था कि बीमारी हाथ नहीं धोने व हाथ मिलाने से भी फैल सकती है।

#coronavirus news

(जैसा पूर्व मंत्री व कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष डॉ चंद्रभान ने पत्रिका को बताया)

दिल्ली से झुंझुनूं तक बरती लापरवाही, सोते रहे जिम्मेदार

झुंझुनूं. कोरोना वायरस को लेकर दिल्ली से झुंझुनूं तक हर जगह लापरवाही बरती गई। दिल्ली में जहां सही तरीके से स्क्रीनिंग नहीं हुई। जैसे वर्तमान में विदेश से आने वाले सभी व्यक्तियों को अलग जगह रखा जा रहा है, वैसे झुंझुनूं में इटली से आए मरीजों को अलग जगह नहीं रखकर घर पर रखा गया। यह बड़ी लापरवाही रही। इस कारण तीनों मरीज कई जगह घूमते रहे। वहीं कोरोना फैलने के बाद विदेश से करीब 267 व्यक्ति झुंझुनूं आए इनमें से एक को अलग नहीं रखा गया।
इधर लापरवाही बरतने पर सीएमएचओ डा. छोटेलाल गुर्जर को हटा दिया गया है। उनके स्थान पर अब प्रमुख चिकित्सा अधिकारी, उप निदेशक डा. प्रतापसिंह दुत्तड़ को सीएमएचओ लगा दिया गया है। आदेश में लिखा है कि डॉ छोटेलाल गुर्जर कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम में आवश्यक सहयोग प्रदान करेंगे तथा आगामी आदेशों तक दुत्तड़ के निर्देशन में कार्य करेंगे।
कोरोना के मरीज मिलने के बाद नींद से जागे चिकित्सा विभाग ने विभिन्न देशों से लौटे झुंझुनूं जिले के 267 लोगों को सख्ती से होम आइसोलेशन में रखने के निर्देश दिए गए हैं। इसके लिए जिला परिषद सीइओ की मोनिटरिंग में एक सेल का गठन किया गया है। जिसमें एसडीओ, तहसीलदार, पटवारी, ग्रामसेवक और पुलिसकर्मियों को विदेशों से लौटे लोगों के घर के बाहर निगरानी करते हुए इन लोगों को जब तक जांच नहीं हो जाए तब तक घरों में रहने के लिए पाबंद करेंगे।

Rajesh Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned