script जेल के मुख्य प्रहरी ने ड्यूटी के दौरान खुद की कनपटी में मारी गोली, आवाज सुनकर पहुंचा स्टाफ तो देखकर चौंका | Jail Chief Guard OF Jhunjhunu Mandwa Road Killed Himself By Shooting | Patrika News

जेल के मुख्य प्रहरी ने ड्यूटी के दौरान खुद की कनपटी में मारी गोली, आवाज सुनकर पहुंचा स्टाफ तो देखकर चौंका

locationझुंझुनूPublished: Feb 12, 2024 12:16:24 pm

Submitted by:

Akshita Deora

झुंझुनूं के मंडावा रोड स्थित जिला जेल के मुख्य प्रहरी ने रविवार को डयूटी के दौरान खुद को रिवॉल्वर से गोली मार ली। गोली कनपटी में लगने से उसकी मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस के अनुसार जवाहरपुरा निवासी कृष्णकुमार मेघवाल जिला जेल में मुख्य प्रहरी के पद पर तैनात था।

jail_chief_guard_.jpg

झुंझुनूं के मंडावा रोड स्थित जिला जेल के मुख्य प्रहरी ने रविवार को डयूटी के दौरान खुद को रिवॉल्वर से गोली मार ली। गोली कनपटी में लगने से उसकी मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस के अनुसार जवाहरपुरा निवासी कृष्णकुमार मेघवाल जिला जेल में मुख्य प्रहरी के पद पर तैनात था। वह शस्त्रागार प्रभारी भी था। रोजाना की तरह सुबह दस बजे वह डयूटी पर आया। सुबह पौने ग्यारह बजे के शस्त्रागार में गया और वहां पर रखी रिवाल्वर से खुद की कनपटी में गोली मार ली। गोली चलने की आवाज पर वहां पर कार्यरत स्टाफ शस्त्रागार की तरफ दौड़े तो वहां पर कृष्णकुमार अचैत अवस्था में पड़ा हुआ था और हाथ में रिवाल्वर थी। उसे तुरंत बीडीके अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां पर जांच के बाद चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मेडिकल बोर्ड से शव का पोस्टमार्टम कर परिजन को सौंप दिया। जेल उप अधीक्षक प्रमोदसिंह शेखावत ने कोतवाली में मृग दर्ज कराई है।

अक्टूबर 2021 से था तैनात
मृतक कृष्ण कुमार मेघवाल झुंझुनूं जेल में अक्टूबर 2021 से तैनात था है। कृष्ण कुमार के दो बेटे हैं। बड़ा बेटा 24 और छोटा बेटा 20 साल का है। दोनों बेटे कॉलेज में पढ़ रहे हैं। कृष्ण कुमार का परिवार जवाहरपुरा गांव में रहता है।

मामले में उप अधीक्षक प्रमोदसिंह से बातचीत
बेरक में रहता था, डयूटी पर जाते ही बेटे से बात की
कृष्ण जेल परिसर में बने बेरक में रहता था। रात को दो बजे डयूटी पूरी कर अपने बेरक में खाना खाकर सोया था। सुबह दस बजे नहा-धोकर और खाना खाकर डयूटी पर आया था। डयूटी पर जाने से पहले उसने अपने बेटे को फोन भी किया था कि वह डयूटी पर पहुंच गया है।

यह भी पढ़ें

होटल में सामूहिक धर्म परिवर्तन के प्रयास बाद दो गुटों की झड़प से गरमाया माहौल, भगदड़ के बाद अलर्ट मोड पर आया पुलिस और प्रशासन




-मुख्य प्रहरी के खुद को गोली मारने का क्या कारण रहा?
किसी प्रकार की कोई बात सामने नहीं आई है। न स्टाफ ने कुछ बताया और न ही उसके साथियों ने।

क्या अपने गांव जवाहरपुरा से आना-जाना करता था?
-नहीं..जेल परिसर के बैरक में रहता था और यही पर सोता था।

-झुंझुनूं जेल में कब से कार्यरत था?
-अक्टूबर 2021 से मुख्य प्रहरी के पद पर तैनात था। उसके पास शस्त्रागार का भी प्रभार था। यह प्रभारी मुख्य प्रहरी के पास ही रहता है।

यह भी पढ़ें

Rajasthan में बड़ी घटना, बाल सुधार गृह से 22 खूंखार बाल अपचारी भागे, लोहे के सरिये काटे... 15 से 18 साल के बीच उम्र




-डयूटी या स्टाफ से व्यवहार से डिप्रेशन में तो नहीं था?
-मुख्य प्रहरी की डयूटी हार्र्ड नहीं होती है। वह गेट पर स्टाफ को इन और आउट करने का काम ही देखता था। डयूटी से फ्री होने के बाद रोज वालीबॉल खेलता था।

-कभी कोई पारिवारिक झगड़े की वजह से डिप्रेशन में रहने की बात सामने आई हो?
-परिवार वाले आए थे, जिन्होंने कुछ नहीं बताया। न ही उसके साथी व स्टाफ ने परेशानी में रहने वाली कभी कोई बात शेयर की।

-सुबह डयूटी पर कब आया था?
-रात को दो बजे डयूटी कर बैरक में जाकर सोया था। सुबह नहा-धोकर व खाना खाकर दस बजे डयूटी पर आया था। डयूटी पर पहुंचने की सूचना अपने बेटे को दी बताई।

खुद की सर्विस रिवाल्वर से गोली मारी गई है?
हम पुलिस की तरह हथियार पास में नहीं रखते हैं। क्योंकि इसकी जरूरत कम पड़ती है। रिवाल्वर जेलर को ही अलॉट होती है। हथियार सभी शस्त्रागार में ही रखे जाते हैं और जरूरत के अनुसार निकालते हैं।

किसी गैंग या बंदी ने धमकी दे रखी हो ?
जेल के गेट पर ही डयूटी रहती है। गेट पर बंदियों से संपर्क नहीं होता है। स्टाफ को इन और आउट करने का काम रहता है। अंदर बंदी वार्डों में डयूटी आए तो हो सकता कि कोई बंदी या गैंग से लिंक हो जाए और उसे डिप्रेशन में ले ले। अभी किसी प्रकार का कारण सामने नहीं आया है।

रिवाल्वर में मिली पांच गोली, एक चली हुई
कृष्ण ने रिवाल्वर से गोली मारी। रिवाल्वर में पुलिस को पांच गोलिया भरी हुई मिली है। जबकि एक गोली चली है। पुलिस कृष्ण के खुद के गोली मारने के मामले की कई एंगल से जांच कर रही है।

ट्रेंडिंग वीडियो