पथरीले रास्तों की चिंता न मार्ग की बाधा, हर कदम लोहार्गल की ओर

पथरीले रास्तों की चिंता न मार्ग की बाधा, हर कदम लोहार्गल की ओर

Datar singh Shekhawat | Updated: 04 Jun 2019, 12:12:55 PM (IST) Jhunjhunu, Jhunjhunu, Rajasthan, India

पथरीले रास्तों की चिंता न मार्ग की बाधा, हर कदम लोहार्गल की ओर

उदयपुरवाटी. मालकेत के जयकारे...और तेज रफ्तार लोहार्गल की तरफ बढ़ते कदम। न पथरीले रास्तों की चिंता न मार्ग की बाधा। सोमवार को पुण्यदायिनी सोमवती अमावस्या पर तकरीबन दो लाख श्रद्धालुओं ने पवित्र लोहार्गल कुंड में स्नान किया। पंचमहायोग में सोमवार को सोमवती अमावस्या श्रद्धापूर्वक मनाई गई। प्रख्यात तीर्थस्थल लोहार्गल में दो लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने पवित्र कुंड में डुबकी लगाई। सोमवार को अमावस्या का खास महत्व रहा। विविध प्रका के पांच महायोग के बीच अमावस्या मनाई गई। इस दिन शनि जयंती, वट सावित्री व्रत, सोमवती अमावस्या, सर्वार्थ सिद्धि के साथ-साथ त्रिग्रही योग बना। इन खास योगों के कारण लाखों की संख्या में लोग लोहार्गल स्नान के लिए पहुंच गए।

पथरीले रास्तों की चिंता न मार्ग की बाधा, हर कदम लोहार्गल की ओर

उदयपुरवाटी. मालकेत के जयकारे...और तेज रफ्तार लोहार्गल की तरफ बढ़ते कदम। न पथरीले रास्तों की चिंता न मार्ग की बाधा। सोमवार को पुण्यदायिनी सोमवती अमावस्या पर तकरीबन दो लाख श्रद्धालुओं ने पवित्र लोहार्गल कुंड में स्नान किया। पंचमहायोग में सोमवार को सोमवती अमावस्या श्रद्धापूर्वक मनाई गई। प्रख्यात तीर्थस्थल लोहार्गल में दो लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने पवित्र कुंड में डुबकी लगाई। सोमवार को अमावस्या का खास महत्व रहा। विविध प्रका के पांच महायोग के बीच अमावस्या मनाई गई। इस दिन शनि जयंती, वट सावित्री व्रत, सोमवती अमावस्या, सर्वार्थ सिद्धि के साथ-साथ त्रिग्रही योग बना। इन खास योगों के कारण लाखों की संख्या में लोग लोहार्गल स्नान के लिए पहुंच गए। रविवार मध्यरात्रि से सोमवार शाम पांच बजे तक सोमवती अमावस्या पर स्नान करने वाले श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा है। वर्षो बाद सोमवती व शनि जयंती एक दिन आने पर इस बार सोमवती अमावस्या पर कुण्ड में स्नान करने के लिए पूर्व की तुलना में अधिक संख्या में लोग पहुंचे। सोमवती अमावस्या पर स्नान करने पहुंचे लोगों ने कुण्ड में स्नान करके मंदिरों में पूजा अर्चना कर दान पुण्य किया। अमावस्या का उपवास रखने वाली महिलाओं ने पीपल का पूजन करके सोमवती अमावस्या की कथा सुनी।
एक लाख लोग थे रात 12 बजे बाद, पुलिस व्यवस्था के लिए पहुंची सुबह 10 बजे
लोहार्गल कुंड पर अमावस्या के इस खास योग में स्नान के लिए रविवार रात 12 बजे बाद ही लोगों का पहुंचना शुरू हो गया था। रात तीन बजे तक करीब एक लाख लोग लोहार्गल पहुंच गए थे, लेकिन कुंड पर व्यवस्था के लिए पुलिसवाले नदारद थे। इस बीच गोल्याणा से लोहार्गल के मार्ग पर रात को ही जाम की स्थिति बनने लगी थी। लोग दो किमी पहले से ही अपने वाहन छोड़ पैदल कुंड की तरफ बढ़ रहे थे। पुलिस वाले सोमवार सुबह 10 बजे तक लोहार्गल पहुंचे, तब तक हजारों लोग जाम में फंसे ही रहे।
6 किमी लंबा जाम
लोहार्गल में अत्यधिक भीड़ के कारण दिनभर जाम और अव्यवस्थाओं का माहौल बना रहा। दो लाख से अधिक लोगों की भीड़ के बीच लोहार्गल में कम से कम 50 हजार वाहनों का भी जमावड़ा लग गया। ऐसे में गोल्याणा से लोहार्गल के छह किमी के पूरे रास्ते में जाम लगा रहा। करीब पांच मिनट का यह रास्ता तीन घंटे में पूरा हो रहा था। सुबह दस बजे के बाद हालत और भी बिगड़ गए। जिसके चलते वाहनों को गोल्याना स्टैण्ड पर ही रोकना पड़ा। गणेश मंदिर से गोल्याना तक लगे जाम में घंटों तक लोग फंसे रहे। जाम के चलते बुजुर्ग लोगों को कुण्ड तक पहुंचने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। ग्राम पंचायत प्रशासन लोगों के लिए पेयजल, शौचालय सहित अन्य व्यवस्थाओं में जुटा रहा।
इसलिए आज ज्यादा महत्व रहा अमावस का
पंच महायोग में सोमवती अमावस्या पर हर प्रकार की बाधा को दूर करने के लिए उपाय किए जाते हैं। इन पांच योग में पूजन और दानपुण्य करने से पितृ दोष की शांति, शनि के अशुभ प्रभाव का निवारण और पति की दीर्घायु होती है।
शनि जयंती, देव पितृ कार्य अमावस्या और सोमवती अमावस्या के दिन सर्वार्थ सिद्धि योग सूर्योदय से लेकर रात्रि अंत तक रहा। युवाओं ने पीपल में जल या कच्चा दूध चढ़ाकर नौकरी की कामना की, तो महिलाओं ने वट सावित्री की कथा सुनी।
वट सावित्री अमावस्या के दिन माता सावित्री ने यमराज से अपने पति सत्यवान के प्राणों की रक्षा की थी।

लोहार्गल में अनेक महिलाओं के मादलिए व चेन टूटी
उदयपुरवाटी. लोहार्गल में सोमवती अमावस्या पर स्नान करने आने वाली एक दर्जन महिलाओं के मादलिए व सोने की चेन टूट गई। जिनमें सात महिलाओं ने पुलिस थाने में रिपोर्ट दी है। जानकारी के अनुसार सोमवती अमावस्या पर लोहार्गल स्नान करने आई चंदवा बिसाऊ निवासी राजबाला, मिरण नेछवा निवासी लीलादेवी, बडा भूमा लक्ष्मणगढ निवासी कृष्णा देवी, झाझड़ निवासी अंजू कंवर, चिराना निवासी परमेश्वरी देवी, ढाढण फतेहपुर निवासी भंवरी देवी, श्यामपुरा लाडनू निवासी संगीता देवी सुबह कुण्ड में स्नान करके निकली तो भीड़ का फायदा उठाकर अज्ञात चोरों ने गले मादलिए तोड़ लिए। अधिकतर घटनाएं सुबह चार बजे से सुबह छह बजे के बीच हुई। सात महिलाएं तो पुलिस थाने में मामला दर्ज करवाने के लिए पहुंच गई। लेकिन कुछ महिलाएं दूर की होने की वजह से चली गई। पुलिस ने शंका के आधार चार पांच महिलाओं को पूछताछ के लिए पकड़ा है।

 

jhunjhunu news

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned