डीआरएम ने किया बिसाऊ स्टेशन का निरीक्षण

jhunjhunu news: बिसाऊ . उत्तर पश्चिम रेलवे जयपुर डीआरएम मंजूसा जैन ने मंगलवार को बिसाऊ रेलवे स्टेशन का वार्षिक निरीक्षण किया। डीआरएम ने पैनल रूम, बैटरी रूम, कंट्रोल रूम, वेटिंग रूम यहां तक की टॉयलेट को भी खोल कर चेक किया। स्टेशन मास्टर संजीव कुमार, राजेन्द्र तंवर ने व्यवस्थाओं से अवगत करवाया। डीआरएम ने स्टेशन की सफाई व्यवस्था पर संतोष जताते हुए पानी की समुचित उपलब्धता के लिए बोरिंग बनवाने के निर्देश दिए।


बिसाऊ . उत्तर पश्चिम रेलवे जयपुर डीआरएम मंजूसा जैन ने मंगलवार को बिसाऊ रेलवे स्टेशन का वार्षिक निरीक्षण किया। डीआरएम ने पैनल रूम, बैटरी रूम, कंट्रोल रूम, वेटिंग रूम यहां तक की टॉयलेट को भी खोल कर चेक किया। स्टेशन मास्टर संजीव कुमार, राजेन्द्र तंवर ने व्यवस्थाओं से अवगत करवाया। डीआरएम ने स्टेशन की सफाई व्यवस्था पर संतोष जताते हुए पानी की समुचित उपलब्धता के लिए बोरिंग बनवाने के निर्देश दिए।
इस मौके पर पालिकाध्यक्ष मुस्ताक अली, नगर कांग्रेस अध्यक्ष मो. अयूब एडवोकेट, रेल संघर्ष समिति के घीसाराम माटोलिया ने ज्ञापन देकर यात्रियों की सुविधा को देखते हुए एक्सप्रेस ट्रेनों के ठहराव की मांग की। जिस पर डीआरएम ने कहा मांगों पर जरूर ध्यान देंगे। दोपहर 2.25 बजे स्टेशन पहुंची डीआरएम की दो बोगी की विशेष ट्रेन 3.21 बजे जयपुर के लिए रवाना हो गई।
रामगढ़ चेयरमैन के नेतृत्व में दिया ज्ञापन
डीआरएम को रामगढ़ शेखावाटी रेल सुविधा संघर्ष समिति के बैनर तले पालिकाध्यक्ष मुज्मिल भाटी के नेतृत्व में ज्ञापन देकर लम्बी दूरी की ट्रेनों के ठहराव के अलावा सीकर चूरू रूट पर शाम के समय ट्रेन चलाए जाने की मांग की गई।

सर्दी में दोहरी परीक्षा, 300 किमी से ज्यादा दूर आए सेंटर, हजारों रुपए होंगे खर्च
झुंझुनूं/ चिड़ावा. स्कूल व्याख्याता भर्ती परीक्षा के सेंटरों ने अभ्यर्थियों की परेशानी बढ़ा दी है। सैकड़ों अभ्यर्थी ऐसे हैं, जिनका सेंटर 400-500 किलोमीटर दूर दिया गया है। ऐसे में अभ्यर्थियों को कड़ाके की सर्दी में परीक्षा से पहले दूरी के सेंटर की परीक्षा पास करनी पड़ रही है। बहुत से अभ्यर्थी ऐसे हैं, जो परीक्षा में समय पर शामिल होने के लिए एक-दो दिन पहले भी संबंधित सेंटर पर जा रहे हैं।
सामान्य ज्ञान एवं विषय का पेपर अलग-अलग दिन होने के कारण अभ्यर्थी को वहीं रुकना पड़ रहा है। जिससे अभ्यर्थियों को समय तो खराब हो रही रहा है, वहीं आर्थिक नुकसान भी हो रहा है।
झुंझुनूं के बहुत से अभ्यर्थी हैं, जिनको बीकानेर, अजमेर सहित अन्य दूर-दराज के जिलों में सेंटर दिए गए हैं।
अभ्यर्थियों को कहना है कि उन्होंने जिले का सेंटर ही चुना था, मगर वह सेंटर देने के बजाय दूर-दराज के जिलों में दे दिया।
13 तक चलेगी परीक्षा
आरपीएससी द्वारा आयोजित स्कूल लेक्चरर परीक्षा तीन जनवरी से प्रारंभ हुई। जो 13 जनवरी तक चलेगी। जिसके लिए अभ्यर्थियों को तीन गु्रपों में बांटा गया है। जिसमें दो पेपर होंगे। जो अलग-अलग तारीख को हो रहे हैं। ऐसे में सामान्य ज्ञान व विषय के पेपर के लिए अभ्यर्थियों को वहीं रुकना होगा। जिससे अभ्यर्थियों को परेशानी हो रही है।

gunjan shekhawat Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned