दिल्ली-जयपुर एक्सप्रेस के आगे आए गौवंश, हादसा टला

चिड़ावा.जोधा का बास-इक्तावरपुरा गांव के बीच शुक्रवार अल सुबह एक्सप्रेस ट्रेन से बड़ा हादसा होते-होते टल गया। ट्रेन के आगे आने से तीन-चार गौवंश की मौत हो गई। हादसे के बाद करीब 50 मिनट तक ट्रेन रूकी रही। रात को तेज आवाज सुनकर आस-पड़ौस के लोग भी रेलवे ट्रेक पर एकत्र हो गए। जानकारी के अनुसार सुबह करीब तीन बजे दिल्ली से जयपुर जा रही ट्रेन के आगे अचानक गौवंश का काफिला आ गया। पटरियों पर गायों के झुंड आने के बाद चालक ने बे्रक लगाए। जिससे ट्रेन की कुछ रफ्तार कम हुई। मगर ट्रेन के रूकने तक सांड चपेट में आ

By: Datar

Published: 26 Feb 2021, 10:57 PM IST

दिल्ली-जयपुर एक्सप्रेस के आगे आए गौवंश, हादसा टला
पौने घंटे रूकी रही ट्रेन, जोधा का बास के पास हादसा
चिड़ावा.जोधा का बास-इक्तावरपुरा गांव के बीच शुक्रवार अल सुबह एक्सप्रेस ट्रेन से बड़ा हादसा होते-होते टल गया। ट्रेन के आगे आने से तीन-चार गौवंश की मौत हो गई। हादसे के बाद करीब 50 मिनट तक ट्रेन रूकी रही। रात को तेज आवाज सुनकर आस-पड़ौस के लोग भी रेलवे ट्रेक पर एकत्र हो गए। जानकारी के अनुसार सुबह करीब तीन बजे दिल्ली से जयपुर जा रही ट्रेन के आगे अचानक गौवंश का काफिला आ गया। पटरियों पर गायों के झुंड आने के बाद चालक ने बे्रक लगाए। जिससे ट्रेन की कुछ रफ्तार कम हुई। मगर ट्रेन के रूकने तक सांड चपेट में आ गए। जिनकी मौके पर ही मौत हो गई। उधर, अचानक ट्रेन के रोके जाने और धमाके की आवाज से यात्रियों की नींद खुली। हादसे की आशंका के चलते यात्री भयभीत हो गए। ग्रामीण भी जाग गए तथा हादसा स्थल पर पहुंचे। रेलवे कर्मचारियों ने ग्रामीणों के सहयोग से मृत गौवंश को पटरियों से हटवाया। जिसके बाद ट्रेन का संचालन हो सका। ग्रामीणों की माने तो हादसे के समय तेज घरघराट की आवाज सुनाई दी। एकबारगी तो लगा कि ट्रेन ही पटरियों से उतर गई। ट्रेक पर पहुंचे तो हकीकत पता चली।
चालक की सुझबुझ से टला हादसा-
दिल्ली-जयपुर एक्सप्रेस से बड़ा हादसा हो सकता था।जिसे चालक ने सुझबुझ दिखाते हुए टाल दिया। ग्रामीणों के अनुसार दर्जनों गायों का झुंड खेतों से निकलकर पटरियों पर आ गया। जिसे देखकर चालक ने ट्रेन के आपातकालीन ब्रेक लगाए।जिससे ट्रेन की रफ्तार को कम किया जा सका। उन्होंने बताया कि रफ्तार कम नहीं होती तो बड़ा हादसा हो सकता था।
यात्रियों में मचा हड़कंप-
एक्सप्रेस ट्रेन के गायों के झुंड से टकराने से हड़कंप मच गया। घरघराहट की आवाज सुनकर ट्रेन में सो रहे यात्री जाग गए। जो कि हादसे की आशंका के चलते चिल्लाने लगे। सकुशल होने के बावजूद यात्री भयभीत नजर आए। उधर, ग्रामीण बुंटीराम, अशोक कुमार, आलोक, महेंद्रसिंह, मोहरसिंह, राजेंद्रप्रसाद, तेजपाल, राजेश कुमार, धनसिंह, रविकुमार, वेदपाल लमोरिया ने मृत गौवंश को पटरियों से हटवाने में मदद की।

दिल्ली-जयपुर एक्सप्रेस के आगे आए गौवंश, हादसा टला

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned