घर में अंधा भाई सो रहा था कि तभी मोबाइल की घंटी बजी और परिवार में खुशी का ठिकाना नहीं रहा

Vinod Chauhan

Publish: May, 18 2018 01:45:15 PM (IST)

Jhunjhunu, Rajasthan, India
घर में अंधा भाई सो रहा था कि तभी मोबाइल की घंटी बजी और परिवार में खुशी का ठिकाना नहीं रहा

बगड़ कस्बे के पीरामल गेट के पास का नरेश सैनी करीब दो महिने से लापता चल रहा था। जिसे पुलिस टीम ने गंगानगर से खोज निकाला।

झुंझुनूं. घर में अंधा भाई सो रहा था। तभी मोबाइल की घंटी बजी और परिवार में खुशी का ठिकाना नहीं रहा और खुशी हो भी क्यों ना क्योंकि परिवार को उनका खोया बेटा दो महीने बाद मिला। जानकारी के अनुसार नरेश करीब दो महीने पहले घर से लापता हो गया था। इसके बाद परिजनों से ढूंढने की काफी कोशिश की लेकिन नरेश कहीं नहीं मिला। परिजनों से पुलिस में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई। जिसके बाद पुलिस ने लापता नरेश को ढूंढना शुरू किया। करीब दो महीने बाद पुलिस को नरेश श्रीगंगानगर में होने की सूचना मिली। पुलिस श्रीगंगानगर के लिए रवाना हुई और नरेश को खोजा। जानकारी के अनुसार बगड़ कस्बे के पीरामल गेट के पास का नरेश सैनी करीब दो महीने से लापता चल रहा था। जिसे पुलिस टीम ने गंगानगर से खोज निकाला। पुलिस के अनुसार नरेश सैनी 11 मार्च को घर से बिना बताए कहीं चला गया। परिजनों ने हर जगह रिश्तेदारों एवं जान-पहचान वाली जगह तलाश किया। जिसके बाद पुलिस में गुमशुदगी दर्ज करवाई गई थी। जिसके बाद पुलिस ने एचसी अमर सिंह मीणा व धर्मपाल के नेतृत्व टीम गठित कर तलाश शुरू कर दी। नरेश सैनी गंगानगर के हर प्रभु आसरा सेवा समिति पदमपुर में रह रहा था। पुलिस को समिति के सदस्यों ने बताया कि नरेश वहां चार मई को आया था।


बेटा मिलते ही घर में खुशी का माहौल
नरेश के परिजनों को जैसे ही उसके मिलने की सूचना मिली घर में खुशी का माहौल हो गया। पुलिस टीम ने फोन पर मंड्रेला रह रहे नरेश के अंधे भाई दीलाराम व जीजा लीलाधर सैनी को सूचना दी। उसके बाद नरेश को मंड्रेला ही दस्तितयाब किया गया। नरेश के माता-पिता की मौत हो चुकी है। तीन भाईयों में बड़े भाई की भी मौत हो चुकी है। जबकि बीच का भाई दीलाराम नरेश के साथ पिछले कुछ दिनों से अपनी ***** के पास ही प्लॉट लेकर रह रहा है।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned