scriptकरंट लगने के बाद पानी में बहे युवकों की पढ़ें पूरी कहानी | Read the full story of the youth who drowned in water after getting electrocuted | Patrika News
झुंझुनू

करंट लगने के बाद पानी में बहे युवकों की पढ़ें पूरी कहानी

करंट लगने के बाद पानी में बहते युवकों का वीडियो वायरल हुआ। सूचना पर तलाशी अभियान चलाया गया। मौके पर पहुंची आपदा राहत एवं बचाव दल, क्यूआरटी, आरएसी के जवानों ने एएसपी पुष्पेंद्रसिंह राठौड़ के निर्देशन में तलाशी अभियान चलाया। आपदा राहत एवं बचाव दल, क्यूआरटी, आरएसी व पुलिस के जवानों ने पंचदेव मंदिर से लेकर खेमी शक्ति मंदिर व इससे आगे एक खेत में जमा होने वाले पानी में जांच की। आपदा राहत एवं बचाव दल, क्यूआरटी की गाड़ी, जेसीबी व ट्रैक्टर को पानी मेें उतारकर तलाश की गई।

झुंझुनूJun 29, 2024 / 02:14 pm

Jitendra

Read the full story of the youth who drowned in water after getting electrocuted
झुंझुनूं शहर में हुई बरसात के दौरान पानी में करंट दौड़ने से एक युवक की जान चली गई। पंचदेव मंदिर के पास खंभे से कटे तार से पानी में करंट दौड़ा और वहां जूस की थड़ी पर बैठे चार जने चपेट में आ गए। इनमें दो युवक बरसात के पानी के बहाव में बह गए जिसमें एक की मौत हो गई। जबकि दूसरे को इलाज के लिए जयपुर भेजा गया है। कोतवाली थानाधिकारी पवन कुमार चौबे ने बताया कि शुक्रवार दोपहर दो बजे पंचदेव मंदिर पर बरसाती पानी में करंट दौड़ा। इस दौरान वहां एक जूस की थड़ी पर बैठे इस्लामपुर के वार्ड नंबर 14 निवासी जहांगीर (28) पुत्र शब्बीर, स्वामी की ढाणी (ढिगाल) निवासी प्रधानाध्यापक जगदीशप्रसाद (58) पुत्र शिवकरण मेघवाल, फौज का मोहल्ला निवासी मनीष (35) पुत्र सत्यनारायण सैनी व इस्लामपुर निवासी साजिद (21) करंट की चपेट में आ गए। इनमें से जहांगीर व जगदीशप्रसाद पानी के तेज बहाव में बह गए। स्थानीय लोगों व पुलिस की मदद से चारों को बीडीके अस्पताल लाया गया। जहां पर चिकित्सकों ने जहांगीर को मृत घोषित कर दिया। जगदीशप्रसाद को जयपुर के लिए रेफर किया गया है। जहां निजी अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है। मनीष सैनी को बीडीके अस्पताल की आईसीयू में रखा गया है। जबकि साजिद को उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई।

दुकानदारों ने बिजली कटवाई, दी सूचना

करंट दौड़ने और दो जनों को पानी में बहते देख अन्य दुकानदारों ने बिजली निगम को फोन कर बिजली बंद करवाई। इसके बाद स्थानीय लोग व पुलिस की मदद से पानी में बहते दोनों युवकों को बाहर निकाल कर अस्पताल पहुंचाया गया।

करंट लगा तो पानी में गिरे और कई दूर तक बहे

दोपहर को दो बजे के करीब हो रही बरसात से बचने के लिए जहांगीर व राउमावि देसूसर प्रधानाध्यापक जगदीशप्रसाद पंचदेव मंदिर के पास मनीष सैनी की जूस की थड़ी पर बैठ गए थे। उस वक्त वहां मनीष सैनी व उसके यहां काम करने वाला साजिद भी मौजूद था। बरसात के कारण सडक़ पर पानी भर गया। इस थड़ी से एक मीटर की दूरी पर ही लोहे के एंगल लगे खंभे पर लटकते कटे हुए तार से करंट दौड़ गया। करंट की चपेट में आकर जहांगीर व जगदीश वहां से बह रहे बारिश के पानी में गिर गए। करंट लगने के कारण दोनों सुन्न थे, इसलिए करीब 1500 मीटर दूर तक पानी के तेज बहाव में बहते चले गए। इस दौरान थड़ी पर काम करने वाला साजिद दूसरी दुकान की तरफ भागा। वहीं थड़ी संचालक मनीष ने थड़ी का पिलर पकड़ लिया। लेकिन वह दोनों भी करंट की चपेट में आ गए।

पानी में बहे लोगों के लिए टीमों ने चलाया तलाशी अभियान

करंट लगने के बाद पानी में बहते युवकों का वीडियो वायरल हुआ। सूचना पर तलाशी अभियान चलाया गया। मौके पर पहुंची आपदा राहत एवं बचाव दल, क्यूआरटी, आरएसी के जवानों ने एएसपी पुष्पेंद्रसिंह राठौड़ के निर्देशन में तलाशी अभियान चलाया। आपदा राहत एवं बचाव दल, क्यूआरटी, आरएसी व पुलिस के जवानों ने पंचदेव मंदिर से लेकर खेमी शक्ति मंदिर व इससे आगे एक खेत में जमा होने वाले पानी में जांच की। आपदा राहत एवं बचाव दल, क्यूआरटी की गाड़ी, जेसीबी व ट्रैक्टर को पानी मेें उतारकर तलाश की गई। जवानों ने लकड़ियों के माध्यम से पानी में तलाश की। इस दौरान जहांगीर का शव खेमी शक्ति मंदिर के नजदीक मिला। जबकि प्रधानाध्यापक जगदीशप्रसाद खेमी शक्ति रोड पर प्राइवेट बस स्टैंड पर बनी दुकानों के पीछे औंधे मुंह पड़ा मिला।

करंट की चपेट में आए साजिद की जुबानी

दोपहर दो से ढाई बजे के बीच बरसात हो रही थी। मैं और मेरा सेठ मनीष सैनी जूस की थड़ी पर में ही बैठे थे। इसी दौरान बरसात से बचने के लिए थड़ी पर जहांगीर व जगदीशप्रसाद आकर खड़े हो गए। सडक़ पर पानी का स्तर बढऩे लगा तो जहांगीर व गुरुजी जगदीशप्रसाद थड़ी में पैर नीचे लटकाकर बैठ गए। इसी दौरान थड़ी से एक मीटर की दूरी पर बिजली के खंभे से करंट आ गया और दो-तीन मिनट करंट रहने से पैर लटकाए बैठे दोनों व्यक्ति पानी में गिरकर बहने लगे। मनीष भी करंट की चपेट में आ गया। मैं बचकर पास ही दूसरी दुकान में भाग कर चला गया। वहां पर मौजूद दुकानदारों को सूचना दी तो बिजली निगम को फोन कर बिजली कटवाई। मुझे करंट लगने से वहां पर मौजूद कुछ लोगों की मदद से अस्पताल चला गया। पानी में गिरे जहांगीर व जगदीशप्रसाद काफी दूर बहकर चले गए। पुलिस और स्थानीय लोगों की मदद से दोनों को पानी से निकाला। फिर गाड़ी में डालकर पानी में बहने वाले व मेरे सेठ तीनों को बीडीके अस्पताल लेकर चले गए। मुझे कम करंट लगने से मैं खुद ही अस्पताल चला गया। बिजली निगम को कुछ दिन पहले ही खंभे में करंट आने की शिकायत भी की गई।

ई-मित्र चलाता था जहांगीर, प्रशिक्षण लेने आया

मृतक जहांगीर ग्राम पंचायत इस्लामपुर में ई-मित्र संचालक था। शुक्रवार को वह पंचायत समिति में प्रशिक्षण लेकर अपने गांव जाने के लिए पंचदेव स्थित प्राइवेट बस स्टैंड पर गया था। जहां से वह बस से अपने गांव जाने वाला था। बारिश के दौरान वह जूस की थड़ी पर बैठ गया। वहां पर राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय में प्रधानाध्यापक जगदीशप्रसाद भी बैठे थे। करंट से दोनों सुन्न हो गए और बारिश के पानी में बह गए। इनमें से जहांगीर की मौत हो गई जबकि जयपुर के एक अस्पताल में जगदीशप्रसाद का इलाज चल रहा है।

प्रशासन, पुलिस, बिजली निगम और अस्पताल प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप

 बारिश के पानी में बहकर एक युवक की मौत के बाद पूर्व विधायक राजेंद्र गुढ़ा भी अपने समर्थकों के साथ बीडीके अस्पताल पहुंचे और धरने पर बैठकर प्रदर्शन किया। उन्होंने प्रशासन, पुलिस, बिजली निगम और अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए लापरवाही का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले खंभे में करंट आने की शिकायत करने के बाद भी निगम के अधिकारियों ने समाधान नहीं किया। शहर के अनेक मोहल्लो में बिजली लाइनों की स्थिति खराब है। घायलों को अस्पताल लाने के बाद इलाज के लिए चिकित्सक तक नहीं मिले और ना ही जिला कलक्टर, एसपी समेत अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे। इतने बड़े हादसे के बाद अधिकारियों का नहीं पहुंचना गंभीर है। अस्पताल के पीछे का दरवाजा भी बंद कर रखा है। अस्पताल कोई जेल थोड़ी है। देर रात तक गुढ़ा अपने समर्थकों के साथ धरने पर बैठे रहे। एएसपी पुष्पेंद्रसिंह राठौड़, सीओ सिटी वीरेंद्र कुमार शर्मा, एसडीएम सुमन सोनल, कोतवाली एसएचओ पवन चौबे , सदर थानाधिकारी दयाराम चौधरी, मदरसा बोर्ड के अध्यक्ष एमडी चौबदार समेत बिजली निगम के अधिकारियों भी मौके पर पहुचे और वार्ता की। लेकिन वार्ता असफल रही। देर रात तक गुढ़ा अपने समर्थकों के साथ धरने पर बैठेे रहे।

Hindi News/ Jhunjhunu / करंट लगने के बाद पानी में बहे युवकों की पढ़ें पूरी कहानी

ट्रेंडिंग वीडियो