झुंझुनूं में युवती के चक्कर में दो दोस्त बन गए जान के दुश्मन, एक ने ली दूसरे की जान

झुंझुनूं में युवती के चक्कर में दो दोस्त बन गए जान के दुश्मन, एक ने ली दूसरे की जान

rajesh sharma | Updated: 12 Jul 2019, 11:29:09 PM (IST) Jhunjhunu, Jhunjhunu, Rajasthan, India

दोनों के बीच एक लड़की को लेकर करीब ढाई साल पहले झगड़ा हो गया था। उस झगड़े का बदला लेने के लिए विक्रमजीत की हत्या की गई है। ढाई साल पहले हुए विवाद के बाद विक्रमजीत अपने भाई के पास गुरुग्राम चला गया था। वह वहीं चालक का कार्य करने लग गया।
विक्रमजीत और ओमप्रकाश तीन साल पहले क्षेत्र में चालक का कार्य करते थे।

 

jhunjhunu news

झुंझुनूं/उदयपुरवाटी. दो युवक आपस में गहरे दोस्त थे। एक साथ रहना, साथ खाना खाना। घूमना फिरना और एक साथ ही काम करना। अचानक दोनों के बीच एक युवती आई। इस दौरान दोनों में ऐसी दूरिया बढ़ी कि दोनों एक दूसरे की जान के दुश्मन बन गए। एक जने ने अपने ही जिगरी दोस्त की जान ले ली।
राजस्थान के झुंझुनूं जिले के उदयपुरवाटी कस्बे में सात जुलाई की रात सीकर जिलेे के खंडेला की तिवाड़ी की ढाणी निवासी विक्रमजीत शर्मा की हत्या का पुलिस ने खुलासा कर दिया है।
एसपी गौरव यादव ने बताया कि विक्रमजीत उर्फ पिंटू की हत्या उसके पुराने मित्र उदयपुरवाटी के वार्ड 11 स्थित तंवरजी की कोठी निवासी ओमप्रकाश सैनी उर्फ बॉबी (35)ने की थी। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने बताया कि दोनों के बीच एक लड़की को लेकर करीब ढाई साल पहले झगड़ा हो गया था। उस झगड़े का बदला लेने के लिए विक्रमजीत की हत्या की गई है। ढाई साल पहले हुए विवाद के बाद विक्रमजीत अपने भाई के पास गुरुग्राम चला गया था। वह वहीं चालक का कार्य करने लग गया।
विक्रमजीत और ओमप्रकाश तीन साल पहले क्षेत्र में चालक का कार्य करते थे। दोनों गहरे दोस्त थे। लंबे समय बाद दोनों सात जुलाई को फिर मिले। विक्रमजीत अपने गांव से गुरुग्राम जाने के निकला था। दोनों ने पास में एक ठेके से शराब ली। शिवा होटल पर बैठकर शराब पी। इसके बाद रात करीब 11 बजे भैरूघाट पहुंचे। वहां से दोनों एक कॉम्पलेक्स तक एक बस में आए। पैदल-पैदल कब्रिस्तान के पास पहुंच गए। वहां दोनों में फिर ढाई साल पुरानी युवती की बात को लेकर विवाद हो गया। विवाद इतना बढ़ गया कि ओमप्रकाश ने विक्रमजीत के सिर में शराब की बोतल मार दी। इसके बाद पत्थर से सिर कुचल दिया। इसके बाद वहां से भाग गया।

ठेके वाले को दिया नकली नोट
ओमप्रकाश की शराब खत्म होने पर दो सौ रुपए का नकली नोट लेकर शराब लेने गया तो सेल्समैन ने नकली नोट फाड़ दिया। जिसके बाद आरोपी ने पांच सौ रुपए का नोट देकर शराब ली। जिसके बाद रविवार रात्रि 11 बजे एक बारात छोड़कर आई बस में बैठकर दोनों उदयपुरवाटी में सफी कॉम्पलेक्स के पास उतरे।


खुद की सिम तोड़, मोबाइल में पत्नी की सिम डाली

थानाधिकारी भगवान सहाय मीणा ने बताया कि बागोरा में शराब ठेके पर लगे सीसीटीवी से मिले फुटेज में आरोपी ओमप्रकाश ही विक्रमजीत के साथ निकला था। ठेके के बाद जिस होटल में शराब पीने के लिए दोनों रुके थे। उस होटल पर काम करने वाले एक लड़के ने रात्रि 11 बजे तक दोनों एक साथ देखा था। विक्रजीत की हत्या करके आरोपी ओमप्रकाश ने खाना खाया और दूसरे दिन आठ जुलाई सुबह गाड़ी चलाने लिए सीकर चला गया और आठ और नौ जुलाई को सीकर ही रहा। आरोपी ने अपने मोबाइल की सिम तोड़ दी और अपनी पत्नी की सिम मोबाइल में डाल ली। जिसके बाद आरोपी ने नौ जुलाई को एक अपने परिचित को फोन करके बताया कि उससे गलती हो गई। अब वह बचने के लिए क्या करे? आरोपी ओमप्रकाश बेंगलुरु भागने की फिराक में था। जिसके लिए वह घर पर कपड़े लेने केे लिए आया था। लेकिन उससे पहले पुलिस ने उसे दबोच लिया।

पहले जा चुका जेल
आरोपी ओमप्रकाश उर्फ बॉबी पहले भी जेल जा चुका है। 2010 में आरोपी ओमप्रकाश मारपीट के एक मामले में जेल जा चुका है। हत्या का खुलास करने वाली टीम में सीआई भगवान सहाय मीणा, हैण्डकांस्टेबल नानचाराम, श्यामलाल, मुकुंदगढ थाना से कांस्टेबल राजेश कुमार, कांस्टेबल बंशीधर, अजीत सिंह, हरिसिंह, सुरेश कुमार, सुनील कुमार, राजेश कुमार आदि शामिल थे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned