scripttourist in jhunjhunu | अब खेतों में रुक रहे पर्यटक | Patrika News

अब खेतों में रुक रहे पर्यटक

यहां रुकने वाले पर्यटकों को उसी अनाज का भोजन करवाया जाएगा जिसे वे अपने खेतों में उगा रहे हैं। उन्हीं फलों को जूस दिया जाएगा जिसे वे अपने बाग में उगा रहे हैं। उदयपुरवाटी के पास पापड़ा खुर्द में पर्यटकों के लिए देसी अंदाज में रुकने व भोजन की व्यवस्था की गई है। यह स्थान पर्यटकों को खूब भा रहा है। यहां पर्यटकों को देसी चूल्हे पर बनी बाजरे व मक्के की रोटी, देसी साग,दही, गुड़ छाछ आदि दिए जा रहे हैं।

झुंझुनू

Updated: December 23, 2021 07:12:39 pm

#tourist in jhunjhunu

पत्रिका न्यू•ा नेटवर्क
झुंझुनूं. मंडावा व नवलगढ़ सहित अनेक जगह हेरिटेज होटलों में रुक रहे पर्यटकों के लिए अब खेतों में होटल जैसी सुविधा दी जा रही है। हरे भरे बाग बगीचों व खेतों के बीच ऐसे झूंपे पर्यटकों को खूब पसंद आ रहे हैं। मंडावा के साथ-साथ अब अन्य स्थान भी पर्यटकों की पसंद बनते जा रहे है। झुंझुनूं से करीब 11 किलोमीटर दूर बुड़ाना गांव से आगे रिटायर्ड फौजी जमील पठान एग्रो फोरेस्ट्री टूरिज्म का नया कनसेप्ट लेकर आए हैं। उन्होंने पर्यटकों को ठहराने के लिए दो झूंपे बनाए हैं। झूंपे बाहर से ठेठ गांव का आभास करवा रहे हैं वहीं अंदर से होटल जैसी सुविधाएं हैं। पठान ने बताया कि अभी दिल्ली से पर्यटकों का दल आया है। पर्यटन विभाग में पंजीयन के लिए भी उसने आवेदन किया है। यहां रुकने वाले पर्यटकों को उसी अनाज का भोजन करवाया जाएगा जिसे वे अपने खेतों में उगा रहे हैं। उन्हीं फलों को जूस दिया जाएगा जिसे वे अपने बाग में उगा रहे हैं। उदयपुरवाटी के पास पापड़ा खुर्द में पर्यटकों के लिए देसी अंदाज में रुकने व भोजन की व्यवस्था की गई है। यह स्थान पर्यटकों को खूब भा रहा है। यहां पर्यटकों को देसी चूल्हे पर बनी बाजरे व मक्के की रोटी, देसी साग,दही, गुड़ छाछ आदि दिए जा रहे हैं। पर्यटकों को यहां का लजीज देसी भोजन खूब पसंद आ रहा है। राजेश मिठारवाल ने बताया कि फाइव स्टार होटल तो मुम्बई, दिल्ली में खूब है। लेकिन पर्यटक अब देसी खान-पान की तरफ ज्यादा आकर्षित हो रहे हैं। अभी विदेशी पर्यटक तो नहीं आ रहे, लेकिन देसी पर्यटक खूब आ रहे हैं। सर्दियों में तो एडवांस बुकिंग चल रही है। पर्यटन विभाग के सहायक निदेशक देवेन्द्र चौधरी ने बताया कि पर्यटकों को ऐसे झोंपे पसंद आ रहे हैं। यहां का देसी पकवान उनको खूब भा रहा है। जमीन पठान ने पर्यटन विभाग में पंजीयन के लिए आवेदन किया है। जल्द ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।
अब खेतों में रुक रहे पर्यटक
अब खेतों में रुक रहे पर्यटक
सीकर जिले में एक किसान के नवाचार ने पूरी शेखावाटी को विंटर ट्यूरिज्म की नई राहें दिखाई है। कटराथल के पास उन्होंने अपने खेत में पर्यटकों के लिए विशेष झुप्पे तैयार कराए। देशी खानपान के साथ प्राकृतिक माहौल की वजह से यहां देश-दुनिया के पर्यटक भी आने लगे है। उन्होंने इन झुप्पों को इस कारीगरी से तैयार किया है कि इसमें ठेठ देशी गांव के साथ रॉयल लुक भी नजर आता है। यही वजह है कि अब यहां 10 से अधिक देशों के पर्यटक आ चुके है। फिलहाल यहां पंजाब, हरियाणा, गुजरात सहित अन्य राज्यों के पर्यटकों की बुकिंग है। किसान कानसिंह निर्वाण के नवाचार के बाद शेखावाटी आठ से अधिक किसान परिवारों ने इस तरह का नवाचार किया है। घुड़सवारी के साथ ऑर्गेनिक खानपान भी यहां की खास पहचान है।
#tourist in jhunjhunu

सीकर/झुंझुनूं/ चूरू. धोरों में लगातार मानइस में गोता खाता पारा जीव के लिए भले ही बैरी बना हो लेकिन इससे शेखावाटी के साथ कई क्षेत्रों में विंटर ट्यूरिज्म की नई राहें भी खुली है। कोरोना से पहल शेखावाटी में सर्दी को महसूस करने के लिए ऑस्टेलिया, फ्रंास, इटली, जर्मनी सहित 13 देशों के पर्यटक आते थे। लेकिन जैसे ही कोरोना ने विदेशी पर्यटकों को अनलॉक किया तो देशी पर्यटकों का राहें और ज्यादा खुल गई। क्योंकि इससे हेरिटेज होटलों से लेकर फार्म हाउसों की रेटों में भी काफी कमी आई है। आगामी एक दिसम्बर तक शेखावाटी में 80 हजार से अधिक देशी पर्यटक आने की आस है। इन दिनों शेखावाटी में सर्दी का लुत्फ उठाने के लिए पंजाब, हरियाणा, जम्मू, गुजरात व महराष्ट्र सहित अन्य राज्यों के पर्यटक पहुंच रहे है। आगामी शीतलकालीन और नववर्ष के साथ यहां धार्मिक ट्यूरिज्म और रफ्तार पकड़ेगा।
#tourist in jhunjhunu

प्रसिद्ध पर्यटन स्थल
मंडावा, नवलगढ़, महनसर, डूंडलोद, चूड़ी अजीतगढ़, अलसीसर, लोहार्गल और झुंझुनूं।


सबसे ज्यादा यहां से आते

पर्यटन विभाग के अधिकारियों के अनुसार झुंझुनूं जिले में सबसे ज्यादा विदेशी पर्यटक फ्रांस और जर्मनी से आते हैं। इनके अलावा इंग्लैंड, इटली, कनाड़ा, अमरीका, जर्मनी, आस्टे्रलिया, स्वीटजरलैंड व जापान से भी बड़ी संख्या में पर्यटक आते रहते हैं।
वर्ष विदेशी पर्यटक
2011 43623
2012 42718
2013 41967
2014 54254
2015 34413
2016 24477
2017 35999
2018 39802
2019 27254
2020 8647
2021 47

एक्सपर्ट व्यू

मंडावा के अधिकांश होटलों ने अपने टेरिफ में पचास फीसदी की छूट शुरू की है। फिर से पर्यटकों की बहार आने की संभावना है। झुंझुनूं में देसी पर्यटकों से करीब बीस फीसदी व विदेशी पर्यटकों से अस्सी फीसदी आय होती है।
-अरविंद पारीक, होटल व्यवसायी मंडावा

इनका कहना है
अभी देसी पर्यटक तो आ रहे हैं, लेकिन विदेशी पर्यटक कम हैं। वर्ष2021 में सितम्बर माह तक केवल 47 विदेशी पर्यटक ही आए हैं। अब खेतों में भी पर्यटकों को ठहराकर आवभगत की जा रही है।
-देवेन्द्र चौधरी, सहायक निदेशक पर्यटन, झुंझुनूं

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

विश्व के सबसे लोकप्रिय नेता बने PM Modi, ग्लोबल सर्वे में बाइडेन और ट्रूडो जैसे दिग्गजों को पछाड़ाCorona Update: कोरोना ने बनाया नया रिकॉर्ड, 24 घंटे में 3 लाख 47 हजार नए केस, 2.51 लाख रिकवरदिल्ली में घटते कोरोना मामलों के बीच वीकेंड कर्फ्यू हटाने का फैसला, CM अरविन्द केजरीवाल ने उपराज्यपाल को भेजा पत्र50 साल से जल रही ‘अमर जवान ज्योति’ आज से इंडिया गेट पर नहीं, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगीT20 World Cup 2022: ICC ने जारी किया शेड्यूल, इस दिन होगी भारत-पाकिस्तान की टक्करAadhaar Card में अपडेट करना चाहते हैं नया मोबाइल नंबर, फॉलो करें यह आसान तरीकाPariksha Pe Charcha 2022: छात्र, शिक्षक अब 27 जनवरी तक कर सकते हैं आवेदनबोर्ड का नया कदम, परीक्षा के पहले भी होगा परीक्षार्थियों का टेस्ट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.