एक गांव से पहले छोटा, बाद में बड़ा भाई विधायक

गांव के रणवीर सिंह गुढ़ा पहले राजस्थान विश्व विद्यालय में छात्रसंघ के अध्यक्ष और बाद में वर्ष 2003 में लोकजनशक्ति पार्टी से विधायक बने। वहीं उनके भाई राजेन्द्र सिंह गुढ़ा बसपा से 2008 में विधायक बन कर मंत्री बने। 2018 में दूसरी बार राजेन्द्र सिंह गुढ़ा राजस्थान विधानसभा में पहुंचे। दोनों सगे भाई हैं।

By: Rajesh

Published: 19 Sep 2020, 10:08 PM IST

#my village guda

पचलंगी. उदयपुरवाटी उपखंड का गुड़ा गांव अरावली की वादियों में बसा हुआ है। नीमकाथाना - गुढ़ा गौडज़ी सड़क मार्ग पर स्थित गांव उपखण्ड से लगभग 40 किमी दूरी पर स्थित है। गांव के दो सगे भाई राजस्थान विधानसभा में पहुंचे हैं। गांव के रणवीर सिंह गुढ़ा पहले राजस्थान विश्व विद्यालय में छात्रसंघ के अध्यक्ष और बाद में वर्ष 2003 में लोकजनशक्ति पार्टी से विधायक बने। वहीं उनके भाई राजेन्द्र सिंह गुढ़ा बसपा से 2008 में विधायक बन कर मंत्री बने। 2018 में दूसरी बार राजेन्द्र सिंह गुढ़ा राजस्थान विधानसभा में पहुंचे। दोनों सगे भाई हैं।

#rajendra singh guda
राजस्थान के झुंझुनूं जिले के इस गांव के श्रवण कुमार शर्मा आयुष चिकित्सक, मोहन लाल सेन, गोविन्द जोशी, मोहन लाल सेन सहित अन्य ने जानकारी दी कि गांव में सैकड़ों वर्ष पूर्व से विजय दशमी के अवसर पर पूर्णिमा के दिन नृसिंह लीला का एक दिवसीय मंचन होता है। गांव के पश्चिम में पवन पहाड़ी पर नाथ संप्रदाय का प्राचीन धूणा व शिव मंदिर है। उत्तर में जोहड़ी वाला बालाजी मंदिर है। वहीं उत्तर व पूर्व में गांव की सीमा पर भैरव व खांगा (मीणा) बाबा मंदिर स्थित है। गांव के पूर्व में बगीची में बाबा दूधाधारी का स्थान है। दक्षिण में मनसा की पहाड़ी स्थित है। गांव के मध्य भाग में गांव के आराध्य देव भगवान गोपीनाथ, शिव, शनि व देवनारायण मंदिर स्थित है।

#ex mla ranveer guda

यह पहुंचे उच्च पद पर -
गांव के कुरड़ा राम सिलोलिया कॉलेज शिक्षा आयुक्त के पद से
सेवानिवृत हुए। लक्ष्मण सिंह शेखावत सीनियर आरएस अधिकारी के पद से सेवानिवृत हुए । वहीं गांव के डॉ. जितेन्द्र शर्मा सरदार पटेल बीकानेर चिकित्सालय में कार्यरत है। डॉ. कविता शर्मा पीबीएम बीकानेर में सहायक प्रोफेसर है। इसी क्रम में गांव के कई युवा शिक्षा, चिकित्सा, पुलिस,सेना सहित अन्य सरकारी नौकरियों में कार्यरत है।

# mla brothers in jhunjhunu
इतिहास -
रूड़मल अग्रवाल ,महावीर सिंह शेखावत व अन्य ने दावा किया कि गुड़ा गांव का प्राचीन नाम देवगढ़ था। अंग्रेजों से लड़ाई के दौरान पूरा गांव पहाड़ी के ऊपर चढ़कर पत्थरों को ऊपर से नीचे गिरा (गुड़ा) कर लड़ाई लड़ी थी। जिसके कारण इसका नाम गुड़ा हुआ।

#aao ganv chale guda

यह हुए शहीद -
वर्ष 1971 की लड़ाई में गुड़ा के मनोहर सिंह शेखावत शहीद हुए। उनकी याद में परिवारजनों व जनसहयोग से गुड़ा बस स्टैंड पर बारह प्याऊ चलती है ।

समस्या -
गांव में बैंक नहीं होने के कारण बैंक संबंधी कार्य के लिए लोगों को पौंख , चंवरा, उदयपुरवाटी व गुढ़ा जाना पड़ता है। वहीं गांव में पशु चिकित्सालय का भी अभाव है। जिससे पशु पालकों को पास के गुड़ा ढहर गांव में जाना पड़ता है।


जनसंख्या
जनसंख्या - 4952
घर - 1932
साक्षरता दर 61.37 प्रतिशत
[वर्ष 2011 के अनुसार ]
-रिपोर्ट अरुण शर्मा

Rajesh Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned