झुंझुनूं की इस एकेडमी में प्रवेश लेने का मतलब नौकरी की संभावना पूरी

खिलाडिय़ों के रहने के लिए निशुल्क आवास व भोजन की व्यवस्था है। दोनों समय नाश्ता, सप्ताह में एक दिन विशेष भोजन दिया जाता है। ड्रेस फ्री है। खिलाडिय़ों के लिए सुबह-शाम कोचिंग दी जाती है। निकट के सरकारी या निजी स्कूल में प्रवेश दिया जाता है। इसके लिए हर वर्ष दस हजार रुपए अतिरिक्त दिए जाते हैं।

By: Rajesh

Published: 03 Apr 2021, 08:12 PM IST

राजेश शर्मा
झुंझुनूं. जिला मुख्यालय पर स्वर्ण जयंती स्टेडियम में संचालित वॉलीबाल एकेडमी हर साल राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी दे रही है। इसके अलावा पिछले करीब छह वर्ष से हर साल इस एकेडमी के खिलाड़ी सरकारी नौकरी लग रहे हैं। अब हालत ऐसे हैं कि यहां प्रवेश लेने के लिए कड़ी प्रतिस्पर्धा होने लगी है।
राज्य सरकार ने बजट में झुंझुनूं में वॉलीबाल एकेडमी खोलने की घोषणा की थी। वर्ष 2013 में एकडमी खुली। दो साल बाद वर्ष 2015 से इस एकेडमी ने परिणाम देने शुरू कर दिए। उसके बाद से हर वर्ष इस एकेडमी के खिलाड़ी राज्य स्तर पर (अलग-अलग वर्ग में )विजेता रह रहे हैं।

#Volleyball Academy jhunjhunu
ऐसे होता है प्रवेश
राजस्थान राज्य क्रीड़ा परिषद की ओर से हर वर्ष जयपुर में अप्रेल से मई के बीच प्रवेश के लिए ट्रायल लिया जाता है। इसमें 14 से 16 वर्ष तक के बालकों का प्रवेश ट्रायल के आधार पर लिया जाता है। हर वर्ष करीब पांच से दस नए खिलाडिय़ों का चयन किया जाता है। एके डमी में खिलाडिय़ों की कुल 24 सीट हैं।

#Volleyball Academy jhunjhunu
यह मिलती सुविधा
खिलाडिय़ों के रहने के लिए निशुल्क आवास व भोजन की व्यवस्था है। दोनों समय नाश्ता, सप्ताह में एक दिन विशेष भोजन दिया जाता है। ड्रेस फ्री है। खिलाडिय़ों के लिए सुबह-शाम कोचिंग दी जाती है। निकट के सरकारी या निजी स्कूल में प्रवेश दिया जाता है। इसके लिए हर वर्ष दस हजार रुपए अतिरिक्त दिए जाते हैं। इससे ज्यादा फीस होने पर खिलाड़ी को खुद वहन करनी पड़ती है।

#Volleyball Academy jhunjhunu
हर वर्ष ट्रायल
जो खिलाड़ी एकेडमी में प्रशिक्षण ले रहे हैं उनको भी हर वर्ष ट्रायल देना अनिवार्य होता है। यदि उन्होंने ट्रायल में अच्छा खेल नहीं दिखाया तो एकेडमी से बाहर भी किया जा सकता है। यहां प्रवेश लेने के बाद उसे 19 वर्ष की उम्र तक प्रशिक्षण दिया जाता है। एकेडमी खुलने के बाद अब तक साठ बच्चे राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में खेल चुके और पदक जीत चुके। खिलाड़ी वीरेन्द्र कुमार का चयन भारतीय टीम के प्रशिक्षण शिविर के लिए भी हो चुका।

#Volleyball Academy jhunjhunu
इनकी लगी सरकारी नौकरी
-परमजीत बनगोठड़ी-रेलवे
-वीरेन्द्र कुमार चांदगोठी-सेना
-विक्रम सिंह अरडावता,सेना
-आशीष गोदू का बास-राज.पुलिस
-धर्मेश घोसलया, सेना
-सचिन हमीनपुर, सेना
-अजीतङ्क्षसह हमीनपुर, सेना
-मंजीत तोलासेही, सेना
-जितेन्द्र मुवाल, सेना
(सभी की नौकरी खेल कोटे से लगी है। इनका मुख्य कार्य पुलिस, सेना व रेलवे की टीम से खेलना रहेगा।)


वर्ष प्रतियोगिता पदक
2015 स्कूली 19 वर्ष स्वर्ण
2016 स्कूली 17 वर्ष स्वर्ण
2017 खेलो इंडिया 17 वर्ष स्वर्ण
2017 सब जूनियर स्वर्ण
2017 स्कूली 17 व 19 वर्ष स्वर्ण
2018 स्कूली 17 वर्ष स्वर्ण
2019 स्कूली प्रतियोगिता स्वर्ण
2020 कोरोना के कारण प्रतियोगिता नहीं
2021 जूनियर प्रतियोगिता स्वर्ण
(सभी प्रतियोगिता राज्य स्तरीय)

अब तैयार होंगे अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी
एकेडमी में अभी राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी ही तैयार होते थे, अब अंतरराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी तैयार होंगे। यहां अभी मैदान था वह नेशनल लेवल का ओपन मैदान है। अब यहां अंतरराष्ट्रीय स्तर का वॉलीबाल का इनडोर मैदान भी बन गया है। जल्द ही यह शुरू होगा। इस पर करीब आठ करोड़ रुपए का खर्चा आया है। अंतरराष्ट्रीय स्तर की अधिकांश प्रतियोगिताएं इनडोर होने लगी है। ऐसे में अब खिलाडिय़ों को इनडोर मैदान में भी प्रशिक्षण की सुविधा निशुल्क मिलने लगेगी।


इनका कहना है
एकेडमी के खिलाड़ी लगातार किसी ना किसी राज्य स्तर की प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीत रहे हैं। अब तक 60 खिलाड़ी राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में पदक जीत चुके। यहां पूरे राजस्थान के खिलाड़ी प्रवेश ले सकते हैं। अभी 26 खिलाड़ी प्रशिक्षण ले रहे हैं। इनका सम्पूर्ण खर्चा राज्य सरकार वहन कर रही है।
-राजेश ओला, जिला खेल अधिकारी एवं कोच वॉलीबाल, झुंंझुनूं


जिले के खिलाड़ी लगातार स्वर्ण पदक जीत रहे हैं। अब यहां अंतरराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी तैयार होंगे। इसके लिए इनडोर स्टेडियम में प्रशिक्षण दिया जाएगा। अंतरराष्ट्रीय स्तर की अधिकतर प्रतियोगिता इनडोर ही होती है।
-नीलम कुमारी, कोच वॉलीबाल, एकेडमी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned