श्रमदान से चमक उठा तालाब

jhunjhunu news: निकट के गांव भोड़की के लोगों द्वारा शनिवार सुबह धमाणा जोहड़ स्थित तालाब की सफाई की गई। कार्यक्रम आयोजक कैलाश डूडी ने बताया कि राजस्थान पत्रिका के अमृतं जलम् अभियान से प्रेरित होकर ग्रामीणों ने जोहड़ स्थित तालाब की साफ सफाई करने का निर्णय किया। जिसके लिए ग्रामीण गांव से करीब 2 किलोमीटर दूर जमवाय माता मंदिर के पास स्थित धमाणा जोहड़ में सुबह 8 बजे साफ सफाई में जुट गए। ढाई घण्टे तक लोगों ने तालाब के आस-पास पड़ा कचरा व मिट्टी निकालकर श्रमदान किया।

By: gunjan shekhawat

Published: 07 Jul 2019, 11:47 AM IST


गुढागौडज़ी (झुंझुनूं) . निकट के गांव भोड़की के लोगों द्वारा शनिवार सुबह धमाणा जोहड़ स्थित तालाब की सफाई की गई। कार्यक्रम आयोजक कैलाश डूडी ने बताया कि राजस्थान पत्रिका के अमृतं जलम् अभियान से प्रेरित होकर ग्रामीणों ने जोहड़ स्थित तालाब की साफ सफाई करने का निर्णय किया। जिसके लिए ग्रामीण गांव से करीब 2 किलोमीटर दूर जमवाय माता मंदिर के पास स्थित धमाणा जोहड़ में सुबह 8 बजे साफ सफाई में जुट गए। ढाई घण्टे तक लोगों ने तालाब के आस-पास पड़ा कचरा व मिट्टी निकालकर श्रमदान किया। जिससे तालाब की जलसंग्रहण क्षमता अब और ज्यादा बढ गई है। साथ ही पत्रिका के सामाजिक सरोकारों से प्रेरित होकर पानी बचाने व उसका संग्रहण करने की शपथ ली। श्रमदान में गांव की महिलाएं भी शामिल थी। जिन्होंने तालाब में पड़ी मिट्टी निकाल साफ सफाई में सहयोग किया।


गोशाला समिति ने शुरू किया पौधरोपण


इसी के साथ भोड़की गांव की जमवाय ज्योति गोशाला की समिति पर्यावरण के प्रति भी बहुत सजग है। यह समिति प्रतिवर्ष पौधरोपण करने व करवाने का कार्य भी करती है। सचिव कैलाश डूडी ने बताया कि समिति की ओर से इस बार गोशाला के बाहर सड़क किनारे व गांव के सार्वजनिक स्थानों पर अभी तक दौ सो पौधे लगाए जा चुके है।


इन्होंने किया श्रमदान


श्रमदान में गोशाला समिति के अध्यक्ष शिवराम गोदारा, कोषाध्यक्ष रामसिंह शेखावत, सरपंच नरेश मीणा, पूर्व सरपंच गणेश गुप्ता, मुकेश सोनी, श्रीराम मेघवाल, सुल्तान मेघवाल, सुरेश निर्मल, महावीर मीणा, बोयतराम, उम्मेद बोयल, राकेश सुंडा, बनवारीलाल, मोहन ढेवा, श्रीपाल गोदारा, सत्यनारायण आदि शामिल थे। जबकि महिलाओं में परमेश्वरी, मूलीदेवी, मनोहरी, चंपा, नारायणी आदि शामिल थी।

 

बिसाऊ गोशाला में त्रैमासिक नहीं प्रतिदन बनता है आय व्यय का हिसाब


बिसाऊ. आम तौर पर जहां व्यापारिक प्रतिष्ठानों तथा अन्य सामाजिक संस्थाओं आदि में सालाना बेलेन्स सीट बनती है या फिर कहीं-कहीं पर तिमाही रूप से आय व्यय का लेखा जोखा तैयार किया जाता है। वहीं बिसाऊ की गोशाला कमेटी में आय तथा व्यय की प्रतिदिन रिपोर्ट तैयार की जाती है। करीब दस माह पहले गोशाला की देखरेख के लिए बनाई गई स्थानीय कमेटी ने पारदर्शिता की अनूठी मिसाल पेश करते हुए ना केवल प्रतिदिन रिपोर्ट कार्ड बनाना शुरू किया, प्रतिदिन के आय व्यय के इस दस्तावेज को गोशाला कमेटी के वाट्सएप गु्रप में डालकर प्रवासी ट्रस्टी बंधुओं सहित कमेटी पदाधिकारियों एवं दानदाताओं को भेजा जाता है। दुग्ध उत्पादन, दानदाताओं द्वारा मिलने वाली सहयोग राशि एवं गोशाला से जुड़े खर्चे का विस्तृत विवरण इस 'बेलेन्स शीटÓ में प्रस्तुत किया जाता है। संरक्षक कमल पोद्दार ने बताया कि इससे ना केवल गोशाला प्रबंधन के प्रति आमजन में विश्वास बढ़ा है। वहीं समस्त लेन देन गोशाला के ट्रस्टी व पदाधिकारियों की निगरानी में रहता है।

 

gunjan shekhawat
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned