script10101 | शादी ही क्यों? 21 वर्ष से पहले तम्बाकू खाना-खिलाना होगा अपराध | Patrika News

शादी ही क्यों? 21 वर्ष से पहले तम्बाकू खाना-खिलाना होगा अपराध

शादी की उम्र के साथ ही जल्द सिगरेट और तम्बाकू सेवन की न्यूनतम आयु 18 से बढ़ाकर 21 वर्ष हो जाएगी। स्वास्थ्य मंत्रालय संशोधन विधेयक पर प्राप्त सुझावों व टिप्पणियों की जांच कर रहा है। इसके बाद प्रस्ताव पर मुहर लग सकेगी। हालांकि अभी प्रदेश में 15 से 19 वर्ष तक आयु में तम्बाकू और शराब सेवन लडक़ों के साथ लड़कियां भी कर रही है। 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को धड़ल्ले से तम्बाकू, सिगरेट व शराब बेची भी जा रही है।

जोधपुर

Published: December 29, 2021 05:08:47 pm

- संशोधन विधेयक पर प्राप्त सुझावों पर चल रही है जांच
- प्रदेश में 15 से 19 वर्ष के लडक़े-लड़कियां कर रहे हैं नशे का सेवन
- देश में तम्बाकू सेवन शुरू करने की औसत न्यूनतम आयु अभी 9.9
शादी ही क्यों? 21 वर्ष से पहले तम्बाकू खाना-खिलाना होगा अपराध
शादी ही क्यों? 21 वर्ष से पहले तम्बाकू खाना-खिलाना होगा अपराध

सिकन्दर पारीक
जोधपुर. शादी की उम्र के साथ ही जल्द सिगरेट और तम्बाकू सेवन की न्यूनतम आयु 18 से बढ़ाकर 21 वर्ष हो जाएगी। स्वास्थ्य मंत्रालय संशोधन विधेयक पर प्राप्त सुझावों व टिप्पणियों की जांच कर रहा है। इसके बाद प्रस्ताव पर मुहर लग सकेगी। हालांकि अभी प्रदेश में 15 से 19 वर्ष तक आयु में तम्बाकू और शराब सेवन लडक़ों के साथ लड़कियां भी कर रही है।
18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को धड़ल्ले से तम्बाकू, सिगरेट व शराब बेची भी जा रही है। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के अनुसार राजस्थान में 15 से 19 वर्ष आयु में 6.9 प्रतिशत महिलाएं और 46.9 फीसदी पुरुष शराब का सेवन कर रहे हैं। कई जिलों में इस आयु वर्ग में महिलाओं के तम्बाकू सेवन का प्रतिशत 15 से 19 तक भी है।

यह है प्रदेश की स्थिति
बारां में 19.3, करौली 17.3, दौसा 15.8, सवाई माधोपुर 13.9, बूंदी 13.8 और भरतपुर में महिलाओं के तम्बाकू सेवन का प्रतिशत 10.5 है। वहीं महिलाओं में शराब सेवन का अधिकतम प्रतिशत सभी जिलों में 0.8 है। पुरुषों की बात करें तो बारां में 57, झालावाड़ 55.4, बूंदी 52.8, करौली 51.6 प्रतिशत ने 15 से 19 वर्ष में तम्बाकू व सिगरेट पीने की बात स्वीकारी है। शराब सेवन में बांसवाड़ा, श्रीगंगानगर, बारां, अलवर, झालावाड़, प्रतापगढ़, उदयपुर, सिरोही, टोंक का प्रतिशत 12 से 18 तक है।

यह है देश की स्थिति
राष्ट्रीय विश्व युवा तम्बाकू सर्वेक्षण तथ्य पत्र 2019 के अनुसार सिगरेट, बीड़ी और धुंआ रहित तम्बाकू सेवन शुरुआत की औसत आयु क्रमश: 11.5, 10.5 और 9.9 प्रतिशत है। यानी दस वर्ष से कम उम्र में ही बच्चे तम्बाकू खाना शुरू कर रहे हैं। हालांकि स्कूल जाने वाले 13 से 15 वर्ष तक के स्कूल जाने वाले बच्चों की संख्या में 2009 के मुकाबले कमी आई है।

गांवों में छोटे बच्चे भी कर रहे सेवन
शहर की तुलना में ग्रामीण इलाकों में तम्बाकू व शराब सेवन का प्रतिशत किशोर वर्ग में ज्यादा है। ग्रामीण में 7.2 लड़कियां और 44.9 प्रतिशत लडक़े इनका सेवन कर रहे हैं। स्कूल-कॉलेज व कोचिंग संस्थाओं के बाहर भी धड़ल्ले से इनकी बिक्री हो रही है।

संशोधन का प्रस्ताव सार्वजनिक
सिगरेट और अन्य तम्बाकू उत्पाद (विज्ञापन का निषेध, व्यापार एवं वाणिज्य, उत्पादन,आपूर्ति और वितरण का विनियमन)(संशोधन) विधेयक का प्रारूप विधायी पूर्व परामर्श के लिए सार्वजनिक किया गया है। इसमें धारा 6(क) में संशोधन कर न्यूनतम आयु सीमा को बढ़ाकर 21 वर्ष करने का प्रस्ताव है। इस संबंध में प्राप्त सुझावों व टिप्पणियों की जांच चल रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीराजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडPost Office FD Scheme: डाकघर की इस स्कीम में केवल एक साल के लिए करें निवेश, मिलेगा अच्छा रिटर्न

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.