script150 crore leather exports in Europe hit | LEATHER--यूरोप में 150 करोड़ के लेदर निर्यात को लगा झटका | Patrika News

LEATHER--यूरोप में 150 करोड़ के लेदर निर्यात को लगा झटका


- अब लेदर एक्सपोर्ट के लिए जरूरी होगा एलडब्ल्यूजी सर्टिफि केट
- सर्टिफि केट बनाने की प्रक्रिया जटिल

जोधपुर

Updated: January 05, 2022 10:47:19 pm

जोधपुर।
वैश्विक कोरोना महामारी के कारण पिछले करीब दो वर्षो से चुनौतियों का सामना कर उद्योग पुन: खड़े होने लगे तो नए नियम-कायदों ने फिर समस्या खड़ी कर दी है। इनमें शहर का प्रमुख लेदर (चमड़ा) उद्योग भी दिक्कतों का सामना कर रहा है, लेदर उत्पादों का यूरोप में निर्यात करना कठिन हो गया है। पर्यावरणीय दृष्टि से अब लेदर उत्पादों के निर्यात के लिए लेदर वर्र्किंग ग्रुप (एलडब्ल्यूजी) सर्टिफिकेट अनिवार्य होगा। जिसमें निर्यातक को लेदर उत्पाद बनाने के लिए चमड़ा उपयोग करने से उत्पाद बनाने तक की सप्लाई चैन का विवरण देना होगा। लेदर उत्पाद बनाने में किस पशु का चमड़ा काम में लिया गया है, चमड़ा कहां से लिया गया है, चमड़े को कहां प्रोसेस कराया गया, उत्पाद कैसे बनाया गया है, उत्पाद बनाने वाले आर्टिजन आदि की जानकारियां देनी होगी। यह सर्टिफिकेट महंगा होने व जारी होने की जटिल प्रक्रियाओं के कारण उद्यमी असमंजस की स्थिति में है। चमड़ा उत्पादों के निर्यात के मामले में जोधपुर देश के अग्रणी शहरों में शामिल है। वहीं देश में कानपुर, जालन्धर, चैन्नई, चण्डीगढ़ आदि प्रमुख लेदर उत्पादक शहर है। इनमें जोधपुर हस्तनिर्मित लेदर उत्पादों, जिनमें विशेष रूप से फर्नीचर निर्माण में देश के अग्रणी शहरों में शामिल है। शहर की प्रमुख लेदर इकाइयों में चमड़े के वस्त्र, जूते और फ र्नीचर का बड़े पैमाने पर कार्य किया जा रहा है।
----
50 हजार आर्टिजन्स को रोजगार दे रहा चमड़ा उद्योग
लेदर उत्पादों के निर्यात में जटिल एलडब्ल्यूजी सर्टिफिकेशन प्रक्रिया से उद्योग को झटका लगा है। शहर से करीब 100-150 करोड़ रुपयों के लेदर उत्पादों का सालाना टर्नओवर है। इस उद्योग से प्रत्यक्ष-परोक्ष रूप से करीब 40-50 आर्टिजन जुड़े हुए है।
---
अन्तराष्ट्रीय संगठन, नामी कम्पनियां जुड़ी हुई
लेदर वर्किंग ग्रुप एक अन्तरराष्ट्रीय संगठन है, जो एलडब्ल्यूजी सर्टिफिकेट जारी करती है। लेदर उत्पादों का विक्र्रय करने वाली कई अन्तरराष्ट्रीय कम्पनियां एडिडास, क्लाक्र्स, आइकिया, नाइके, माक्र्स एंड स्पेंसर, न्यू बैलेंस और टिम्बरलैंड जैसे ब्रांड सहित दुनियाभर की प्रमुख चमड़ा कंपनियां इससे जुड़ी हुई है।
----
लेदर उत्पादों के निर्यात में एलडब्ल्यूजी सर्टिफिकेशन की समस्या के रूप में नई चुनौती आई है। सर्टिफिकेट जारी करने वाली एजेन्सी को सर्टिफिकेशन प्रक्रिया का सरलीकरण करना चाहिए, इसके लिए देश के प्रमुख निर्यातक प्रयास कर रहे है।
अशोक चौहान, लेदर उत्पाद निर्यातक
------------
LEATHER--यूरोप में 150 करोड़ के लेदर निर्यात को लगा झटका
LEATHER--यूरोप में 150 करोड़ के लेदर निर्यात को लगा झटका

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022 LIVE updates: देश आज मना रहा 73वें गणतंत्र दिवस का जश्न, ITBP के जवानों ने - 40 डिग्री तापमान में फहराया तिरंगाRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस पर दिल्ली की किलेबंदी, जमीन से आसमान तक करीब 50 हजार सुरक्षाबल मुस्तैदRepulic Day 2022: जानिए क्या है इस बार गणतंत्र दिवस की थीमस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयRepublic Day: छत्तीसगढ़ के दो सैन्य ग्राम, जहां कदम रखते ही सुनाई देती है शहीदों और वीर सैनिकों की वीर गाथा, ऐसा देश है मेरा...UP Election 2022: सपा ने 39 प्रत्याशियों की जारी की सूची, 2002 के बाद पहली बार राजा भैया के खिलाफ उतारा प्रत्याशीpetrol diesel price today: पेट्रोल-डीजल के दामों में कोई बदलाव नहीं
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.