script150 fighter aircraft of IAF show combat skills near Pakistan border | IAF: पाकिस्तान बॉर्डर के पास भारतीय वायुसेना के 150 लड़ाकू विमान ऐसे दिखाएंगे युद्ध कौशल | Patrika News

IAF: पाकिस्तान बॉर्डर के पास भारतीय वायुसेना के 150 लड़ाकू विमान ऐसे दिखाएंगे युद्ध कौशल

Indian Air force

- 10 फरवरी को वायुशक्ति-2 का आयोजन
- पहली बार रफाल लड़ाकू विमानों के साथ चिनकू व अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर के भाग लेने की संभावना
- रियल टाइम टारगेट पर करेंगे बमबारी

जोधपुर

Published: January 12, 2022 06:19:31 pm

जोधपुर. देश की पश्चिमी सीमा पर स्थित जैसलमेर की चांधण फील्ड फायरिंग रेंज में भारतीय वायुसेना के सबसे बड़े युद्धाभ्यास वायुशक्ति-2022 का आयोजन दस फरवरी को किया जाएगा। इस युद्धाभ्यास में वायुसेना पूरी ताकत के साथ हिस्सा लेती है। इसमें वायुसेना के 150 से अधिक लड़ाकू विमान, हेलकॉप्टर्स, ट्रांसपोर्ट एयरक्राफॅ्ट्स हिस्सा लेंगे। युद्धाभ्यास में पहली बार रफाल लड़ाकू विमानों, मालवाहन चिनूक हेलीकॉप्टर और लड़ाकू हेलीकॉप्टर अपाचे के भाग लेने की संभावना है। कोरोना के कारण वायुशक्ति के टलने का खतरा था लेकिन फिलहाल वायुसेना ने इससे इनकार किया है। आयोजन में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी हिस्सा ले सकते हैं।
IAF: पाकिस्तान बॉर्डर के पास भारतीय वायुसेना के 150 लड़ाकू विमान ऐसे दिखाएंगे युद्ध कौशल
IAF: पाकिस्तान बॉर्डर के पास भारतीय वायुसेना के 150 लड़ाकू विमान ऐसे दिखाएंगे युद्ध कौशल
वायुसेना हर तीन साल में रियल टाइम युद्धाभ्यास यानी फायर पावर डिस्पले का आयोजन करती है। इससे पहले 2019 में वायुशक्ति-1 का आयोजन किया गया था। इसमें लड़ाकू विमान और हेलीकॉप्टर्स रियल टाइम टारगेट ध्वस्त करेंगे। युद्धाभ्यास में आकाश व अस्त्र मिसाइलों के साथ कई प्रकार के जीपीएस व लेजर गाइडेड बम, राकेट लांचर और हेलीकॉप्टर्स गनों का प्रयोग होगा। चांधण फील्ड फायरिंग रेंज में मॉक राडार साइट, यार्ड, आतंकवादी कैंप, रन-वे, ब्लास्ट पेन जैसी साइट बनाई जा रही है। युद्धाभ्यास का फोकस आतंकवादी गतिविधियों से निपटने की दिशा में भी होगा।
युद्धाभ्यास में ये भाग लेंगे
- वायुशक्ति के जरिए वायु सेना देशवासियों को सुरक्षा के लिए एयर डिफेंस की शक्ति बताता है।
- युद्धाभ्यास में मिग-21 बाइसन, मिग-29, मिराज-2000, सुखोई-30 एमकेआई, जगुआर, रफाल लड़ाकू विमान चांधण फील्ड फायरिंग रेंज में बनाए गए टारगेट पर लाइव हमला करेंगे।
- लड़ाकू विमान रॉकेट लॉन्चर, कैनन, लेजर गाइडेड बम व मिसाइलों का प्रयोग करेंगे।
- वायुशक्ति में एमआई-17, एमआई-35, रुद्र, अपाचे व चिनूक शक्ति प्रदर्शन दिखाएंगे। आपातकाल में लोगों को सुरक्षित निकालने का भी डेमो होगा।
- युद्ध स्थल पर ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट एएन-32, हरक्यूलिस सी-130, ग्लोबमास्टर सी-17 भी शामिल होंगे।
- वायुसेना की नेत्र प्रणाली, एवाक्स और यूएवी भी शामिल होगी।
- वायु सेना की गरुड़ कमांडो टीम भी भाग लेगी जो विभिन्न परिस्थितियों में दुश्मन पर हमला करने के अभ्यास का जीवंत प्रदर्शन करेगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.