फर्जी चेक से वृद्धा के खाते से निकाले थे 49 लाख रुपए

- लखनऊ व प्रयागराज से पांच गिरफ्तार, बैंक अधिकारियों की भूमिका भी संदेह में
- देश में सौ व जोधपुर में सात-आठ वारदातें कबूली

By: Vikas Choudhary

Published: 22 Nov 2020, 11:54 PM IST

जोधपुर.
शास्त्रीनगर थाना पुलिस ने एक वृद्धा के बैंक खाते से ४९ लाख रुपए निकालने के मामले में रविवार को पांच युवकों को गिरफ्तार किया। आरोपियों ने फर्जी चेक बैंक में लगाकर रुपए निकाले थे। वे देशभर में सौ व जोधपुर में सात-आठ वारदातें कर चुके हैं।
थानाधिकारी शेषकरण बारहठ ने बताया कि प्रकरण में उत्तर प्रदेश के प्रयागराज निवासी इरशाद अली (30) पुत्र मोहम्मद रफीक, मोहम्मद जुबेर (28) पुत्र मोहम्मद कलीम, लखनऊ निवासी विनय गौतक (31) पुत्र किशनलाल चमार, हरदोई निवासी तौसिब अहमद (29) पुत्र सलीम अहमद व मूलत: व्यास कॉलोनी हाल कुड़ी भगतासनी हाउसिंग बोर्ड निवासी जितेन्द्रसिंह (39) पुत्र प्रीतमसिंह को गिरफ्तार किया गया।
खाता नम्बर से मिले सुराग

बलदेव नगर गली-१० निवासी पतासीदेवी पत्नी कालू प्रजापत के पंजाब नेशनल बैंक में खाते से १६ अक्टूबर को चेक के मार्फत ४९ लाख रुपए निकाल लिए गए थे। महिला ५ नवम्बर को बैंक गई और पास बुक में एन्ट्री करवाई तो वारदात का पता लगा था। तब उन्होंने मामला दर्ज कराया था। विशेष टीम के एसआइ दिनेश डांगी व हेड कांस्टेबल कानसिंह के नेतृत्व में पुलिस ने जिस खाते में रुपए ट्रांसफर हुए थे उससे जांच शुरू की। इनसे मिले सुराग के आधार पर आरोपियों की पहचान की गई। एसआइ दिनेश, हेड कांस्टेबल कानसिंह, गणेशराम, राजेश, कांस्टेबल किशनसिंह, नरपतसिंह, सुखाराम व हनुमान ने लखनऊ व प्रयागराज से आरोपियों को पकड़ा।
फर्जी चेक व खाताधारक की फर्जी सिम लेकर ठगी

पुलिस का कहना है कि आरोपियों की यह गैंग अंतरराज्यीय है। जो बड़ी राशि वाले खाते का पता लगाकर फर्जी चेक बुक हासिल करते हैं। इतना ही नहीं, खाते से मोबाइल नम्बर जुड़ा है उसकी फर्जी सिम भी हासिल कर लेते हैं। फिर फर्जी चेक में रुपए व हुबहू हस्ताक्षर कर बैंक में लगाकर राशि निकाल लेते हैं। इस पूरे मामले में बैंक अधिकारी व कर्मचारियों की भूमिका संदेह के दायरे में है।

Vikas Choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned