वंडर, पहले कभी नहीं सुना होगा कि जिसका चेहरा तेजाब डाल जला दिया, वह अब फैशन की दुनिया में कमाल दिखा रही है

-एसिड अटैक सर्वाइवर रेशमा कुरैशी की जिंदादिली, उन्हीं की जुबानीं

जोधपुर. हर लड़की सुंदर दिखना चाहती है। संवरना, लड़कियों का शौक होता है, लेकिन सोचिए, कोई तेजाब फेंककर इनका रूप बिगाड़ देता है तो इन पर क्या गुजरती है, रूह कांप जाती है, ऐसा सुनकर। ऐसी ही एक एसिड अटैक सर्वाइवर है रेशमा कुरैशी, जिनके चेहरे को कुरूप उसके जीजा ने ही बनाया। दुनियादारी ने तो यहां तक कहा दिया कि अब यह मर जाए तो ठीक है लेकिन मां-बाप ने हौसला दिया। आज न केवल साहित्य के क्षेत्र में जाना-पहचाना नाम है बल्कि फैशन की दुनिया में भी धमाकेदार एंट्री की है। तेजाब से चेहरा खराब होने के बाद भी फैशन की दुनिया में कदम रखा और रैंपवॉक करने की हिम्मत दिखाई। न्यूयॉर्क फैशन वीक में रैंप पर कैटवॉक कर यह संदेश दिया कि रंग रूप ही असली सुंदरता नहीं होती।
रेशमा का यह विशेष संदेश
कमजोरी को बनाएं ताकत
रेशमा ने कहा कि कई महिलाएं एसिड अटैक का शिकार होती हैं, लेकिन आवाज नहीं उठाती। यहां तक की समाज भी साथ नहीं देता। लेकिन उन्हें हिम्मत के साथ अपनी कमजोरी को ताकत बनाते हुए मुकाबला करना चाहिए।

विशेष बातचीत में रेशमा ने क्या कहा- पढें, उन्हीं की जुबानी :-
जब मुझ पर एसिड से अटैक किया गया, उसके बाद मैं अस्पताल में रही। घर आने के बाद भी तकलीफ में दिन गुजार रही थी। उस समय किसी भी अपने ने साथ नहीं दिया। बल्कि रिश्तेदार तो घरवालों को यह तक कहते थे कि अब इसकी शक्ल खराब हो गई है। इसे जहर दे दो, मर जाएगी। इन सबके बीच मेरे परिवार का बेहद सपोर्ट मिला। पापा ने मकान बेच दिया, लेकिन केस लडऩे में कमी नहीं रखी। कई बार सुसाइड का विचार आया, लेकिन पापा, भाई के सपोर्ट की वजह से मैं फिर से उठ खड़ी हो पाई। 19 मई, 2014 को इलाहाबाद (अब प्रयागराज) में मेरे चेहरे पर जीजा ने ही तेजाब फेंका था। जीजा मेरी बहन गुलशन को मारता-पीटता था। एक दिन मैं बहन और उसके दोनों बच्चों को घर ले आई और बेटे का एडमिशन स्कूल में करवा दिया। लेकिन जीजा ने बेटे को स्कूल से उठा लिया। इसके बाद केस कोर्ट में चला गया। उसका फैसला बहन के हक में आया। एक दिन जब मैं अपनी बहन के साथ एग्जाम देने जा रही थी उसी समय जीजा और उसके दोस्त अचानक सामने आ गए। उन्होंने बहन पर तेजाब फेंका। तेजाब के छींटे बहन की बाजू पर गिरे। बहन ने मुझसे भागने को कहा। मैं भागने लगी लेकिन जीजा ने मेरा बुर्का हटाया ओर बाल पकड़कर मेरे चेहरे पर तेजाब फेंक दिया। पेशी के दौरान आरोपी के वकील जज से बोलते थे कि रेशमा अब बहुत आगे चली गई है, न्यूजपेपर में छपने लगी है। इसलिए आरोपियों को छोड़ देना चाहिए। लेकिन मैंने जज के समक्ष मजबूती से दलील रखी। अब अगले माह ही आरोपियों को सजा सुनाई जाएगी। बकौल रेशमा जीजा के साथ एक अन्य आरोपी भी अटैक में शामिल था, लेकिन नाबालिग होने की वजह से उसे छोड़ दिया गया।

Sikander Veer Pareek
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned