सभी एम्स एक जैसे होंगे, न कोई बड़ा ना छोटा

सभी एम्स एक जैसे होंगे, न कोई बड़ा ना छोटा

Abhishek Bissa | Publish: Jan, 23 2019 03:30:00 AM (IST) Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर एम्स के पहले दीक्षांत समारोह में बोले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा

डायबिटीज, ब्लड प्रेशर जैसी गैर संक्रामक बीमारियों को बताया स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए चुनौती

जोधपुर. देश के सभी 9 अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में आने वाले समय में कोई फ र्क नहीं होगा। सभी एम्स में एक जैसी पॉलिसी लागू होगी। एक एम्स के शिक्षक और छात्र दूसरे में और दूसरे के तीसरे में जाकर पढ़ाई और शोध कर सकेंगे। दिल्ली एम्स और नीति आयोग इस संबंध में नई पॉलिसी बना रहा है। यह बात मंगलवार को जोधपुर आए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने जोधपुर एम्स के पहले दीक्षांत समारोह में कही। स्वास्थ्य मंत्री नड्डा ने कहा कि पूरे देश में एक जैसा एम्स कल्चर होगा। ना कोई एम्स बड़ा होगा ना कोई छोटा। भविष्य में खुलने वाले नए एम्स में भी यही पॉलिसी लागू होगी। नड्डा ने कहा कि देश में 2002 के बाद पहली बार 2017 में नई स्वास्थ्य पॉलिसी बनी है। 2002 की स्वास्थ्य पॉलिसी रोग केंद्रित थी जिसमें केवल संबंधित रोग के संबंध में ही विरोधात्मक उपाय किए जाते थे। जबकि नई स्वास्थ्य पॉलिसी में प्रीवेंटिव, प्रोमोटिव और क्यूरेटिव तीनों तत्व शामिल किए गए हैं। स्वास्थ्य मंत्री ने गैर संक्रामक बीमारियों को स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए सबसे बड़ी चुनौती बताया। उन्होंने एम्स जैसे संस्थानों को इससे निपटने के लिए तैयार रहने को कहा। नड्डा ने कहा कि देश के सभी एम्स स्वास्थ्य क्षेत्र में लीडर की तरह है और उन्हें ही हर बीमारी पर काबू पाने में पहल करनी होगी। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि कृषि राज्यमंत्री गजेन्द्रसिंह शेखावत, विधि न्याय व कॉर्पोरेट कार्य राज्यमंत्री पीपी चौधरी, राज्यसभा संसदीय सदस्य नारायणलाल पंचारिया व रामनारायण डूडी और एम्स अध्यक्ष प्रो. एससी शर्मा ने अध्यक्षता की। निदेशक डॉ. संजीव मिश्रा ने एमबीबीएस प्रथम बैच व बीएसएसी प्रथम बैच के 110 विद्यार्थियों को डिग्रियां वितरित की।

परंपरागत मेडिसिन को जोड़ा मॉडर्न मेडिसिन से

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने आयुर्वेद होम्योपैथिक, सिद्धा योगा और यूनानी चिकित्सा पद्धति को मॉडर्न मेडिसिन से जोड़ दिया है। इन चिकित्सा पद्धतियों को मुख्यधारा में लाने से अब उपचार की नई तकनीक और पद्धति उपयोग में लाई जा सकेगी।

छात्रों को सीख
नड्डा ने एम्स के छात्र-छात्राओं को आत्म सम्मान और आत्म संतुष्टि की सीख दी। उन्होंने कहा कि इनसे बड़ी चीज और कोई नहीं है।

स्वाइन फ्लू पर चुप्पी
दीक्षांत समारोह के बाद केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री नड्डा ने मीडिया से अनौपचारिक बातचीत की। जिसमें उन्होंने तारीफ करते हुए कहा कि जोधपुर एम्स आगे बढ़ रहा है। अब तक यहां सारी आवश्यकताएं भारत सरकार ने दी है। वहीं राजस्थान व जोधपुर में बढ़ते स्वाइन फ्लू को लेकर पूछे गए सवाल का उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। बगैर कुछ बोले आगे बढ़ गए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned