इन ‘मोर्चों’ को मुस्तैद करने में जुटी भाजपा, मारवाड़ में जोश फूंकने पहुंचे शाह

इन ‘मोर्चों’ को मुस्तैद करने में जुटी भाजपा, मारवाड़ में जोश फूंकने पहुंचे शाह

Harshwardhan Bhati | Publish: Sep, 16 2018 02:49:46 PM (IST) Jodhpur, Rajasthan, India

गुजरात और यूपी का बूथ मैनजमेंट सिस्टम लागू करने की तैयारी

 

जोधपुर. भारतीय जनता पार्टी अपने हर मोर्चे को मजबूत और मुस्तैद करने में जुट गई है। इसीलिए केन्द्रीय नेतृत्व इन मोर्चों को परखने का काम भी कर रहा है। चुनाव प्रचार में इन मोर्चों का कुछ अलग उपयोग हो सकता है। इसीलिए राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के राजस्थान दौरे पर हर कार्यक्रम के लिए भाजपा के अलग-अलग मोर्चों को जिम्मेदारियां दी जा रही हैं। राजस्थान में अपना सेटअप मजबूत करने के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष शाह ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। प्रत्येक मोर्चे को मजबूत करने और उससे बेहतर तरीके से काम लेने के पीछे यही मंशा है। जोधपुर में युवा मोर्चा तो पाली में ओबीसी मोर्चा के कार्यकर्ताओं को एकजुट किया जा रहा है। इसके बाद इसी सप्ताह में एससी मोर्चा और किसान मोर्चा के कार्यकर्ताओं से भी शाह रूबरू होंगे। वहीं आगामी दिनों में अन्य मोर्चों की ताकत भी परखी जाएगी।

मिल सकती है महत्वपूर्ण जिम्मेदारी

इन मोर्चों की स्थानीय स्तर पर पकड़ को देखते हुए इनको आगामी विधानसभा और लोकसभा चुनाव में महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां दी जा सकती है। चुनाव प्रचार व प्रत्याशियों का फीडबैक लेने में भी मोर्चे के कार्यकर्ता महत्वपूर्ण साबित हो सकते हैं। बूथ मजबूती के लिए शक्ति केन्द्रों का ‘पावर’ भाजपा बूथ मजबूत करने के लिए शक्ति केन्द्र प्रभारियों को महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां दे सकती है। फिलहाल भाजपा ने अपने पांच बूथ पर एक शक्ति केन्द्र प्रभारी बनाया हुआ है। पिछले छह माह से इन शक्ति केन्द्रों को मजबूत किया जा रहा है। इनको अपने अधीन आने वाले बूथ और प्रत्येक मतदाता तक पहुंचने की गाइड लाइन दी जाएगी। पिछले विधानसभा चुनावों में गुजरात व यूपी जैसे अन्य प्रदेशों में यह सिस्टम भाजपा आजमा चुकी है।

जोधपुर में तीन जिलों के शक्ति केन्द्र संयोजक


जोधपुर में होने वाले कार्यक्रम में जोधपुर जिले के जिला संगठनात्मक जिलों के साथ बाड़मेर और जैसलमेर जिले के शक्ति केन्द्र संयोजक भी शाह की बैठक में शामिल होंगे। पाली जिले में होने वाले इस कार्यक्रम में जालोर, सिरोही और पाली के शक्ति केन्द्र संयोजक शामिल होंगे। इन बैठकों में सख्ती के साथ परिचय पत्र के आधार पर ही प्रवेश दिया जाएगा।

इन मोर्चों को दी जिम्मेदारियां

- युवा मोर्चा
- ओबीसी मोर्चा
- एससी मोर्चा
- किसान मोर्चा

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned