आसाराम रेप केस: बाबा बनने से पहले राजस्थान के इस शहर में करते थे ये काम

आसाराम बाबा गुरु बनने से पहले से करते थे ये काम

By: rajesh walia

Published: 25 Apr 2018, 01:13 PM IST

जोधपुर

गुरुकुल की नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म के आरोप में 56 माह से जेल में बंद आसाराम व उसके सेवादारों को लेकर आखिरकार फैसला सुना दिया गया है। न्यायाधीश मधुसूदन शर्मा ने बड़ा फैसला सुनाते हुए आसाराम को दोषी करार दे दिया है। लेकिन क्या आप को पता है कि आसाराम बाबा गुरु बनने से पहले क्या करते थे और कैसे वो अपनी जिंदगी गुज़र- बसर करते थे। आज आप को जानकर हैरानी होगी कि आसाराम बाबू को आसुमल सिंधी तांगेवाला के नाम से भी जाना जाता था, और वो गुरु बनने से पहले अजमेर के डिग्गी चौक पर तांगा चलाया करते थे।

अजमेर में चलाता था तांगा
जी हां आसाराम बाबू ने करीब 2 साल तक अपने तांगे से लोगों को अजमेर शरीफ दरगाह कि यात्रा करवाई हैं। इतना ही नहीं आसाराम बापू तांगा के साथ चाय भी बेचा करते थे, और अपने परिवार का खर्चा उठाते थे। खबरों के मुताबिक उनके पिता लकड़ी के कारोबारी थे। आसाराम का रियल नाम असुमल हरपलानी हैं। लेकिन भारत और पाकिस्तान के बटवारे के बाद आसाराम का परिवार गुजरात आकर बस गया। आसाराम का परिवार बहुत ही गरीब था, वो जैसा- तैसे अपना गुजर- बसर करते थे।

आसुमल तांगेवाला उर्फ आसाराम बाबू उस समय अपने चाचा के संग अजमेर में किराए के मकान में रहते थे। गुजरात में 2 साल तांगा चलाने के बाद वह एक बाबा की संगत में आ
गए थे जिसके बाद वो खुद ही एक बाबा बन गए।

गौरतलब है कि आसाराम बाबू ने तीसरी क्लास तक ही पढ़ाई कि हैं, और उन्होंने 15 साल की उर्म में घर त्याग दिया था, जिसके बाद वो भरुच में एक आश्रम में रहने लगे। 1973 में आसाराम बाबू ने अपना पहला आश्रम अहमदाबाद के मोटेरा गांव में बनवाया था। इसके साथ ही आसाराम ने कई गुरुकुल, महिला केंद्र बनाए। फिर 1997 से 2008 के बीच उनपर रेप केस चलने लगा 19 अगस्त 2013 में आसाराम के दुराचार का पता लगते ही परिजन पीडि़ता को लेकर नई दिल्ली पहुंचे, जहां आसाराम धार्मिक कार्यक्रम में व्यस्त था।

20 अगस्त को परिजन ने आसाराम से मिलने का प्रयास किया, लेकिन असफल रहे। उन्होंने नई दिल्ली के कमला मार्केट थाने में आसाराम के खिलाफ यौन दुराचार का मामला दर्ज कराया था। 21 अगस्त को घटनास्थल जोधपुर का होने से दिल्ली पुलिस ने बिना नम्बर की प्राथमिकी दर्ज की। पीडि़ता व परिजन को लेकर दिल्ली पुलिस जोधपुर पहुंची। यहां महिला थाना पश्चिम में मामला दर्ज। तत्कालीन डीसीपी अजयपाल लाम्बा ने मौका मुआयना किया। जिसके बाद 25 अप्रेल को जज ने आसाराम बाबू को दोषी करार दे दिया गया हैं।

Show More
rajesh walia Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned