Asaram Bapu Rape Case Timeline : अगस्त 2013 से अप्रेल 2018 तक

अपने ही गुरुकुल की नाबालिग से यौन दुराचार के आरोपी आसाराम को जोधपुर जेल में रहते हुए करीब पांच साल हो गए हैं।

 

By: M I Zahir

Published: 18 Apr 2018, 09:29 AM IST

Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर .
अपने ही गुरुकुल की नाबालिग से यौन दुराचार के आरोपी आसाराम को जोधपुर जेल में कैद रहते हुए करीब पांच साल हो गए हैं। इन पांच बरसों के दौरान कई बड़े वकीलों ने उनकी पैरवी की। पेशी पर हर बार उनके समर्थक जेल से कोर्ट तक डोलते रहे और पुलिस उन्हें दूर करती रही। गुरु पूर्णिमा पर हर बार उनके समर्थक जेल तक आते और दीये जलाते रहे। समर्थकों की आस पूरी नहीं हुई।

आसाराम का फैसला जेल परिसर में सुनाने का आदेश

अब राजस्थान हाईकोर्ट ने एससी एसटी कोर्ट के विशेष न्यायाधीश को आरोपी आसाराम का फैसला 25 अप्रेल को सेंट्रल जेल परिसर में सुनाने का आदेश दिया है। जस्टिस गोपालकृष्ण व्यास व जस्टिस रामचन्द्रसिंह झाला की खंडपीठ ने मंगलवार को जोधपुर पुलिस कमिश्नरेट की ओर से दायर आवेदन का निस्तारण करते हुए यह आदेश दिया।

पुलिस ने आशंका जताई थी

पुलिस ने हाईकोर्ट में आवेदन पेश कर फैसले के दिन बड़ी संख्या में आसाराम के समर्थकों के शहर में आने की आशंका जताई थी। फैसला आसाराम के पक्ष में नहीं होने पर सार्वजनिक सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाने की आशंका पर बहस के बाद खंडपीठ ने आदेश जारी कर ट्रायल कोर्ट को अपना फैसला जेल परिसर में सुनाने का आदेश दिया। साथ ही पुलिस को भी सार्वजनिक सम्पत्ति सहित आमजन की सुरक्षा के मद्देनजर कानून के दायरे में हरसम्भव उचित कार्रवाई करने की छूट भी दी।

हौवा बना रही है पुलिस
आसाराम प्रकरण की जेल में सुनवाई के मामले में सह अभियुक्त संचिता उर्फ शिल्पी की ओर से दायर याचिका की सुनवाई तहत ही पुलिस कमिश्नर की ओर से एएजी शिवकुमार व्यास के माध्यम से गत शुक्रवार को आवेदन पेश किया गया था। आसाराम के अधिवक्ताओं महेश बोड़ा व सज्जनराज सुराणा ने पुलिस पर हौवा बनाने व आसाराम के खिलाफ वातावारण बनाने का आरोप लगाया था।

एेसी कोई कार्रवाई नहीं हुई

उन्होंने कहा था कि साढे़ चार साल तक सुनवाई कोर्ट में हुई और आसाराम समर्थकों की ओर से एेसी कोई कार्रवाई नहीं हुई, जिसकी आशंका जताई गई है। इस पर एएजी व्यास सहित डीसीपी अमनदीप सिंह ने कहा कि पूर्व में भी हाईकोर्ट की ओर से समर्थकों की कारगुजारियों के चलते १४ सितम्बर २०१५ को मामले की सुनवाई जेल में करने का आदेश जारी किया गया था।

जेल से पहले आसाराम केस
१५ अगस्त २०१३: घटना जोधपुर
१९ अगस्त २०१३: : जीरो एफआईआर कमलानगर थाना नई दिल्ली
२० अगस्त २०१३: : पीडि़ता का मेडिकल
२१ अगस्त २०१३: : केस नई दिल्ली से जोधपुर स्थानांतरित
२६ अगस्त २०१३: : आसाराम को समन जारी
२७ अगस्त २०१३: : लुकआउट नोटिस भेजा
३० अगस्त २०१३: : आसाराम ने २० दिन की मोहलत मांगी
३० अगस्त २०१३: : पुलिस की ओर से डेडलाइन खत्म
३१ अगस्त २०१३: : पुलिस इंदौर आश्रम में घुसी
३१ अगस्त २०१३: : इंदौर आश्रम में रात १२.२६ बजे आसाराम गिरफ्तार

इंदौर से जोधपुर : बारह घंटे का सफर
३१ अगस्त २०१३: : रात ७.५० इंदौर से नई दिल्ली रवानगी
३१ अगस्त २०१३: : रात एक बजे से सुबह ६ बजे तक नई दिल्ली एयरपोर्ट पर
१ सितंबर २०१३: : सुबह १०.५० बजे विमान के माध्यम से नई दिल्ली से जोधपुर रवाना
( -सीट नंबर २० ई -श्रेणी -इकोनॉमिक क्लास)
१ सितंबर २०१३: दोपहर ११.५५ जोधपुर पहुंचे का समय
१ सितंबर२०१३: : दोपहर १२.२० एयरपोर्ट से बाहर, चार गाडि़यों के काफिले में रवानगी, तीसरी गाड़ी में आसाराम, टवेरा गाड़ी नंबर, आर जे १९-४०७७
१ सितंबर २०१३: : दोपहर १२.२१ बजे मंडोर स्थित आरएसी की प्रथम बटालियन पुलिस लाइन ले जाया गया।

 

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned