video : जिन्दगी जबरदस्त है, इसे जबरदस्ती मत जीओ

शारीरिक अक्षमताओं को स्वीकारा, लड़ रहे चुनौतियों से जोधपुर मैराथन में उत्साह से दौड़े जोधपुराइट्स

By: Jitendra Singh Rathore

Published: 12 Mar 2018, 03:23 PM IST

Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर। 'जिन्दगी जबरदस्त है, इसे जबरदस्ती मत जीओ इसी फलसफे पर अपनी जिन्दगी जी रहे है भूपेन्द्र शर्मा। कुदरत ने भूपेन्द्र का एक पैर छीन लिया है लेकिन हम्मत नहीं, भूपेन्द्र का एक पैर आर्टिफिशियल है। मूलत: बीकानेर निवासी भूपेन्द्र ने रविवार को जोधपुर में हुई मैराथन 10 किमी श्रेणी में भाग लिया। वर्ष 2009 में एक सड़क दुर्घटना में अपना एक पैर गवा चुके भूपेन्द्र पिछले 5 वर्षो से मैराथन में भाग ले रहे है। साथ ही, रेगुलर रनर, मोटिवेशनल स्पीकर, साइकिलिस्ट, माउंटेनियर और टेबल टेनिस के राष्ट्रीय खिलाड़ी रह चुके है। भूपेन्द्र ने यह उपलब्धियां अपना पैर गंवाने के बाद हासिल की है।

 

हादसे ने हाथ-पैर छीने, अन्तरराष्ट्रीय स्तर तक बनाई पहचान

जोधपुर निवासी संगीता विश्नोई अन्तरराष्ट्रीय पैरा एथलीट है। करीब 6 वर्ष की थी, तो 11 हजार केवी बिजली लाइन की चपेट में आ गई। इससे उसका एक हाथ व एक पैर काटना पड़ा, इनके कृत्रिम पैर है। पिता के हौंसले से आगे बढ़ती रही । माणकलाव होस्टल में पढऩे भेजा, वहां खेलों का अभ्यास करती रही और वर्ष 2003 में लंदन में क्रिकेट बॉल थ्रो में स्वर्ण पदक और प्रतियोगिता में ऑल राउंड प्रतियोगिता के लिए स्वर्ण पदक जीता। संगीता जयपुर में 3 बार मैराथन में भाग ले चुकी है। जोधपुर में 21 किमी साइकिलिंग में भाग लिया। वर्ष 2016, 2017 में स्टेट पैरा गेम्स में 3-3 स्वर्ण पदक ले चुकी है।

 

6 वर्षीय पूजा 48 मिनट में 10 किमी दौड गई

जोधपुर निवासी 6 वर्षीय पूजा विश्नोई जोधपुर मैराथन में 10 किमी में भाग लिया और 48 मिनट में दौड़ पूरी कर तीसरे स्थान पर रही। जबकि एशिया में यह रिकॉर्ड लड़कों में 1.10 घंटा व लड़कियों में 1.20 मिनट का है। इसके अलावा, 3 किमी में भी इंटरनेशनल वल्र्ड रिकॉर्ड 13.5 मिनट का है, जबकि पूजा 12.50 मिनट में ही यह रिकॉर्ड बना चुकी है। पूजा सप्ताह में दो दिन 21 किमी दौड़ लगाती है। पूजा अपने मामा श्रवण विश्नोई के मार्गदर्शन में प्रशिक्षण ले रही है। पूजा का सपना अन्तरराष्ट्रीय एथलीट बनना है।- --- इथोपिया का अयूब भी दौड़ा मैराथन में देश सहित कई विदेशी रनर्स ने भी भाग लिया। इनमें इथोपिया के अयूब आलीम ने 10 किमी श्रेणी में भाग लिया और दूसरे स्थान पर रहे। अयूब अमरीका, फ्रांस सहित कई देशों में मैराथन में भाग ले चुके है। अयूब इथोपिया में आर्मी में असिस्टेंट सार्जेन्ट पद पर कार्यरत है।

 

 

जोश और जश्न के साथ दौड़ा जोधपुर राउंड टेबल जोधपुर, आईआईइएमआर इंस्टीट्यूट ऑफ इवेंट मैनेजमेंट और टिल आई अचीव की ओर से रविवार को बरकतुल्लाह खान स्टेडियम से मैराथन आयोजित की गई। मैराथन प्रतिभागियों ने स्वस्थ व स्वच्छता को जीवन में अपनाने का आह्वान किया। यह पहला अवसर था जब मैराथन में देश के अनेक राज्यों के साथ-साथ इंटरनेशनल एथलीट्स ने भी हिस्सा लिया। मैराथन को केन्द्रीय राज्य मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, महापौर घनश्याम ओझा, एसजी रियलिटी के सुरेश गांधी, कोटक महिंद्रा बैंक के पुनीत कपूर, लव होम्स के अमित विजयवर्गीय ने झण्डी दिखाकर रवाना किया। जोधपुर राउंड टेबल के अध्यक्ष मृदुल सालेचा ने बताया कि मैराथन में कन्या भ्रूण हत्या, बेटी बचाओं-बेटी पढाओं, बालिका को शिक्षित करने व स्कूल भेजने का सन्देश दिया गया। गौरतलब है कि आयोजन से एकत्रित होने वाली राशि से झालामंड स्थित राउमाबावि में पांच कक्षा कक्षों का निर्माण कराया जाएगा।

--

ये रहे विजेता

समन्वयक सुनील बख्क्षी ने बताया कि बताया कि 5 किलोमीटर महिला वर्ग में सुनीता चौधरी प्रथम, अस्मिता पुरी द्वितीय तथा सनहा तृतीय रही। पुरुष वर्ग में रवि प्रकाश प्रथम, दिनेश परिहार द्वितीय व देवाराम तीसरे रहे। इसी प्रकार, 10 किमी वर्ग महिला वर्ग में पिंकी मीणा प्रथम, अनीता द्वितीय व पूजा विश्नोई तृतीय व पुरुष वर्ग में रमेश विश्नोई प्रथम, अयूब आलीम द्वितीय व मेघाराम ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। 5 व 10 किमी वर्ग में महिला व पुरुष वर्ग में प्रथम स्थान पर रहने वाले को 21 हजार, द्वितीय स्थान पर रहने वाले को 7 हजार रुपए की साइकिल व तृतीय स्थान पर रहने वाले को 5 हजार रुपए की साइकिल दी गई।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned