कारपेंटर राजू ने ‘की-पैड’ फोन से बना दिए विकिपीडिया हिंदी के 1800 पेज

- इंटरनेट पर हिंदी को बढ़ावा देने के लिए पिछले पांच साल से कर रहे मेहनत

 

By: Avinash Kewaliya

Published: 06 Jan 2021, 10:58 PM IST

पेपाराम राही

बालेसर.(जोधपुर)
की-पेड फोन पर एक मैसेज टाइप करने में आपको दो से पांच मिनट का समय लग जाता है, लेकिन इसी फोन से यह युवा कारपेंटर ने 18 सौ पेज हिंदी में टाइप किए हों तो आपको आश्चर्य होगा ही। यह कारनामा कर दिखाया है कि जोधपुर जिले की बालेसर तहसील के ठाडिया गांव के राजू जांगिड़ ने।

राजू के विकिपीडिया एडिटर बनने की कहानी कई युवाओं को मोटिवेट करने वाली है। दरअसल जब राजू ने विकिपीडिया पर एडिटिंग करनी शुरू की थी, उस समय उनके पास न तो स्मार्टफोन था और न ही लैपटॉप। कारपेंटर का काम करते थे, कीपैड वाले मोबाइल से लेख बनाने शुरू किए। उसी मोबाइल से लगभग 8 हजार सम्पादन किए। राजू ने आर्थिक स्थिति को देखते हुए 10वीं के बाद स्कूल छोड़ दी और दूरस्थ शिक्षा से बीए पास की।

जुनून यह कि हिंदी को मिले बढ़ावा
विकिपीडिया स्वयंसेवकों द्वारा चलने वाला ऑनलाइन ज्ञानकोश है, जहां 300 से ज्यादा भाषाओं में लाखों की संख्या में पेज मिलते हैं। अभी सबसे ज्यादा पेज अंग्रेजी विकिपीडिया पर है लेकिन पूरे विश्व में 341 मिलियन बोलने वाले हिन्दी भाषी लोगों के लिए अभी हिन्दी विकिपीडिया पर महज 1.4 लाख लेख हैं। इसी कारण राजू ने 2015 में हिंदी ट्रांसलेशन शुरू किया, 1800 से ज्यादा नए पेज बनाए हैं और 57 हजार से ज्यादा सम्पादन किए हैं।

सपना पूरा नहीं हुआ तो बनाया विकिप्रोजेक्ट

राजू ने बताया कि उनका सपना क्रिकेटर बनना था और बचपन से ही धोनी की कॉपी किया करते थे। सपना पूरा नहीं हुआ तो हिंदी विकिपीडिया पर विकिप्रोजेक्ट क्रिकेट परियोजना शुरू की और अब तक 700 से ज्यादा लेख बना चुके हैं। उनका कहना है कि हिंदी विकिपीडिया पर क्रिकेट खिलाडिय़ों के लेख बहुत कम है इस कारण उनके लेख पसंद किए जा रहे हैं। राजू ने बालेसर तहसील के लगभग सभी गांवों के विकिपीडिया पेज बनाए हैं और अगला लक्ष्य बचे हुए गांवों को विकिपीडिया पर लाना है।

विकिपीडिया ने किया प्रोत्साहित
राजू के काम को देखते हुए विकिपीडिया ने उन्हें लैपटॉप और इंटरनेट की सुविधा दी। राजू अभी विकी स्वस्था के एक स्पेशल प्रोजेक्ट से जुड़े हुए हैं, जहां स्वास्थ्य सम्बन्धी लेखों को सही जानकारी के साथ विस्तार करना है।

Avinash Kewaliya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned