scriptChanged the name and medium, but how will the "government" teach witho | नाम और माध्यम तो बदल दिया, लेकिन सुविधा-संसाधन बगैर कैसे पढ़ाओगे "सरकार" | Patrika News

नाम और माध्यम तो बदल दिया, लेकिन सुविधा-संसाधन बगैर कैसे पढ़ाओगे "सरकार"


शहर के तीनों महात्मा गांधी राजकीय इंग्लिश मीडियम स्कूलों में कक्षा-कक्ष, अन्य कक्ष और टॉयलेट की कमी

जोधपुर

Published: May 18, 2022 09:35:07 pm

जोधपुर. राज्य सरकार की ओर से हिंदी माध्यम को अंग्रेजी माध्यम में रूपांतरित कर महात्मा गांधी स्कूल खोले जा रहे हैं। इन स्कूलों का क्रेज अभिभावकों में हैं, लेकिन ये स्कूल इंफ्रास्टक्चर को लेकर मात खा रहे हैं। स्कूलों में बढ़ते नामांकन को देख सरकार सेक्शन बढ़ा रही है, जबकि यहां पर्याप्त कक्षा-कक्ष भी नहीं है। स्कूलों में नामांकन के अनुसार टॉयलेट नहीं हैं। लाइब्रेरी व कंप्यूटर लैब तक के लिए कमरे नहीं हैं। पत्रिका ने बुधवार को शहर के तीनों स्कूलों का जायजा लिया, जहां विभिन्न कमियां मिलीं।
एमजी स्कूल चौहाबो 11 सेक्टर
इस स्कूल में पर्याप्त कक्षा-कक्ष, कंप्यूटर व लाइब्रेरी कक्ष नहीं हैं। स्टाफ रूम व प्रिंसिपल रूम तक की जद्दोजेहद है। यहां इसी सत्र से इंग्लिश मीडियम स्कूल शुरू हुआ है, कक्षा आठवीं तक अंग्रेजी माध्यम में पढ़ाई होगी। यहां छात्रों के टॉयलेट पर छत नहीं है। स्टाफ के लिए भी अलग टॉयलेट की सुविधा नहीं है। सरकार ने स्कूल को तो इंग्लिश मीडियम बना दिया, लेकिन इंफ्रास्ट्रक्चर पूरा विकसित नहीं किया।
नाम और माध्यम तो बदल दिया, लेकिन सुविधा-संसाधन बगैर कैसे पढ़ाओगे
नाम और माध्यम तो बदल दिया, लेकिन सुविधा-संसाधन बगैर कैसे पढ़ाओगे
एमजी स्कूल ओलंपिक
यहां भी पर्याप्त कक्षा कक्ष का अभाव है। महज दस कमरे हैं, प्रत्येक कक्षा में दो-दो सेक्शन हैं, यहां करीब दस कमरे की और दरकार हैं। विभाग का संग्रहण कक्ष चल रहा है, जो भी स्कूल की शिक्षा को बाधित करता है। फर्नीचर की सुविधा भी बेकार है। बच्चों के लिए टॉयलेट्स की सुविधा नहीं है। स्कूल ने पूर्व में भामाशाहों से टॉयलेट निर्माण कराया था, जिनकी संख्या नाकाफी हैं। यहां हिंदी-अंग्रेजी माध्यम दोनों मिलाकर कुल 12 सौ विद्यार्थी अध्ययनरत हैं। ये स्कूल इस साल से दसवीं तक अंग्रेजी माध्यम में संचालित होगा। कक्षा-11 व 12 में हिंदी माध्यम संचालित होगा।
एमजी स्कूल चैनपुरा
यहां भी कक्षा-कक्षों की कमी हैं। कम से कम 8 से 10 कमरों की आवश्यकता हैं। बच्चों के अनुसार स्कूल के टॉयलेट भी साफ-सुथरे नहीं हैं। यहां शिक्षकों की भी कमी हैं। जबकि इस स्कूल में फर्राटेदार अंग्रेजी बोलते बच्चों का वीडियो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने
सोशल मीडिया पर शेअर किया था, जो खासा सुर्खियों में रहा। चैनपुरा स्कूल में कमरे 14 व सेक्शन 30 हैं, दो पारी में संचालित होने के बाद भी कक्षा-कक्ष की कमी हैं, वर्तमान में चार कमरे निर्माणाधीन हैं।
बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर से मिलनी है वाहवाही
महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम विद्यालय खुलने से आमजन व वंचित वर्ग को फायदा मिला है। ये स्कूल संसाधन, मैन पॉवर व भौतिक सुविधाओं से जूझ रहे हैं। हरेक कक्षाओं में दो सेक्शन हैं, लेकिन पढ़ाने के लिए अध्यापक एक हैं। दसवीं के बाद स्कूलों में कला, वाणिज्य व विज्ञान वर्ग में से कौनसा वर्ग आएगा, इसको लेकर फिलहाल कोई निर्देश नहीं है। सवाल ये भी हैं कि वर्तमान में पदस्थापित व्याख्याताओं से ही अध्यापन करवाया जाएगा या इन्हें हटाकर साक्षात्कार से चयनित व्याख्याताओं को लाया जाएगा। सभी बातों का उत्तर सरकार के पास है। बहरहाल, सरकार को बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर से ही वाहवाही मिलेगी। हाल ही में नए महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम विद्यालय खोलने के प्रस्ताव मांगे गए हैं, उन्हें तुरंत मंजूरी देकर क्रियान्वित कर देना चाहिए। ताकि ज्यादा से ज्यादा अभिभावक लाभान्वित हो सके।
- नवीन देवड़ा, इंग्लिश व्याख्याता, जिलाध्यक्ष रेसला व एमजी इंग्लिश स्कूल एक्सपर्ट

भामाशाहों को कर रहे तैयार

एमजी स्कूलों में विकास के लिए भामाशाहों को तैयार कर रहे हैं। स्कूल शिक्षा परिषद को भी प्रस्ताव भेजे जाते हैं। एनजीओ भी सहयोग कर रहे हैं। कुल मिलाकर संसाधन बढ़ाने के प्रयास जारी हैं।
- डॉ. भल्लूराम खींचड़, सीडीइओ, जोधपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Crisis: क्या ज्योतिरादित्य सिंधिया के फॉर्मूले जैसा ही एकनाथ शिंदे गुट को लाने की तैयारी में बीजेपी, समझें क्या है पार्टी का प्लान बीMaharashtra: ईडी के समन पर संजय राउत ने कसा तंज, बोले-ये मुझे रोकने की साजिश, हम बालासाहेब के शिवसैनिकPresidential Election: यशवंत सिन्हा ने भरा नामांकन, राहुल गांधी-शरद पवार समेत विपक्ष के कई बड़े नेता मौजूदPunjab Budget LIVE Updates: वित्तमंत्री हरपाल चीमा ने कहा- सभी जिलों में बनाए जाएंगे साइबर अपराध क्राइम कंट्रोल रूमपटना विश्वविद्यालय के हॉस्टलों में छापेमारी, मिला बम बनाने का सामानMumbai News Live Updates: मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बागी मंत्रियों के छीने विभागMaharashtra Political Crisis: आदित्य को छोड़ शिवसेना के सारे MLA Minister हुए बागी, उद्धव ठाकरे के साथ बचे सिर्फ MLC मंत्रीयशवंत सिन्हा को समर्थन देगी TRS, क्या BJP के खिलाफ विपक्ष से हाथ मिला रहे KCR?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.