वीडियो: रेजीडेंट हड़ताल: पुलिस-चिकित्सक आमने सामने, असमंजस में मरीज

वीडियो: रेजीडेंट हड़ताल: पुलिस-चिकित्सक आमने सामने, असमंजस में मरीज
clash between residents and police, jodhpur

इस्तीफे के बाद समानांतर ओपीडी शुरू करने पर रेजीडेंट्स के खिलाफ अस्पताल प्रशासन ने सख्त कदम उठाया। ओपीडी हटाने के लिए अस्पताल परिसर में पुलिस पहुंची, जिनसे रेजीडेंट्स की नोकझोंक हुई। एेसे में अब मरीज भी असमंजस की स्थिति में है।

जोधपुर के डॉ. एसएन मेडिकल कॉलेज के 298 रेजीडेंट डॉक्टर ने बुधवार को प्री पीजी परीक्षा पैटर्न में बदलाव के विरोध में सामूहिक इस्तीफा दे दिया। इस्तीफे के बाद रेजीडेंट्स ने मेडिकल कॉलेज के अधीन संचालित मथुरादास माथुर अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर के बाहर समानांतर आउटडोर संचालित करना शुरू किया। 

यहां रेजीडेंट डॉक्टरों ने मरीजों की जांच कर परामर्श दिया, लेकिन अस्पताल प्रशासन के साथ पुलिस इस समानांतर ओपीडी को हटाने के लिए मौके पर पहुंच गई। कुछ देर के लिए पुलिस और रेजीडेंट्स में नोकझोंक हुई, जिससे अस्पताल में हंगामा खड़ा हो गया।

READ ALSO- ब्रेकिंग: जोधपुर के 298 रेजीडेंट्स ने इस्तीफे दे मरीजों की भलाई के लिए शुरू की समानांतर ओपीडी

मरीजों की सेवा प्राथमिक कार्य

रेजीडेंट्स ने ये कहते हुए वहां से हटने से इंकार कर दिया कि सरकार उनकी मांगें माने या ना माने, उनका प्राथमिक कार्य मरीजों की सेवा करना है। उनके प्राथमिक कार्य से उन्हें कोई वंचित नहीं कर सकता।

READ ALSO- रेजीडेंट्स हड़ताल: प्रशासन का सख्त कदम, 76 इनसर्विस रेजीडेंट रिलीव

पुलिस कर रही समझाइश

पुलिस अब तक रेजीडेंट्स से समझाइश कर रही है। पुलिस का कहना है कि सरकारी अस्पताल में इस तरह ओपीडी नहीं लगाई जा सकती। यदि वे ओपीडी लगाना ही चाहते हैं तो अस्पताल परिसर के बाहर लगाएं।

पुलिस ने हटाई ओपीडी

दोपहर से समझाइश कर रही पुलिस ने शाम तक ओपीडी को हटवा दिया। पुलिस का तर्क था कि सरकारी अस्पताल में इस तरह ओपीडी नहीं चलाई जा सकती। पुलिस ने ये भी कहा कि रेजीडेंट्स इस्तीफा भी दे चुके हैं। एेसे में उनका सरकारी अस्पताल में ओपीडी चलाना नियमों का उल्लंघन है।

READ ALSO- शाम तक रेजीडेंट काम पर ना लौटें तो कर दें रिलीव: चिकित्सा मंत्री

ये है मामला

प्री पीजी परीक्षा का पैटर्न बदले जाने की खबर आते ही राज्य भर के रेजीडेंट डॉक्टर्स में रोष व्याप्त हो गया। इसके विरोध में सोमवार को प्रदेश भर के रेजीडेंट डॉक्टर्स हड़ताल पर चले गए। हड़ताल पर राज्य सरकार का रुख सख्त ही रहा। 

राज्य चिकित्सा मंत्री ने मेडिकल कॉलेजों के विभागाध्यक्ष से वीडियो कांफ्रेसिंग से चर्चा कर निर्देश दिए कि हड़ताल वापिस नहीं लेने पर रेजीडेंट्स को रिलीव कर दिया जाए। इसके बाद जोधपुर के 76 रेजीडेंट्स को रिलीव कर दिया गया। उनके समर्थन में जोधपुर एसएन मेडिकल कॉलेज के सभी 298 रेजीडेंट्स ने इस्तीफा देकर अस्पताल परिसर में मरीजों के लिए समानांतर ओपीडी शुरू कर दिया।


राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned