दीवार और रैलिंग फांद सर्किट हाउस में घुस राष्ट्रपति के पांव छुए, गिरफ्तार

- सर्किट हाउस में राष्ट्रपति की सुरक्षा व्यवस्था में बड़ी चूक
- छह पुलिसकर्मी निलम्बित

By: Vikas Choudhary

Published: 08 Dec 2019, 12:37 AM IST

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर.
राष्ट्रपति के जोधपुर प्रवास के दौरान शनिवार सुबह सुरक्षा के अचूक बंदोबस्त को धता बता एक शख्स सर्किट हाउस में जा पहुंचा और नाश्ता कर रहे राष्ट्रपति के पांव छूने लगा। सकते में आए पुलिस अफसरों ने उसे पकडक़र गिरफ्तार कर लिया। इस मामले में छह पुलिसकर्मियों को निलम्बित किया गया है।

पुलिस सूत्रों के अनुसार राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सुबह साढ़े नौ बजे सर्किट हाउस में बनाए गए अस्थाई डोम में नाश्ता कर रहे थे। तभी सफेद कुर्ता-पायजामा और कोट पहने एक राष्ट्रपति के पास पहुंच उनके पांव छूने लगा। सुरक्षा में तैनात पुलिस ने उसे पकड़ लिया। उसके पास प्रवेश पास नहीं था। तलाशी में उसके पास कोई संदिग्ध सामग्री नहीं मिली। बगैर अनुमति सर्किट हाउस में प्रवेश करने के आरोप में पीसांगन (अजमेर) थानान्तर्गत बड़ी हथाई के पास निवासी दिनेशचन्द्र रांकावत (४२) पुत्र सागरमल वैष्णव को गिरफ्तार कर उदयमंदिर थाने भेज दिया। वह सर्किट हाउस के मुख्य गेट के पास से कम ऊंची दीवार और लोहे की रैलिंग फांद अंदर घुसा था।
पुलिस उपायुक्त करेंगे लापरवाही की जांच

आरोपी जिस तरफ से सर्किट हाउस में घुसा था, वहां छह पुलिसकर्मी तैनात थे। इनमें शामिल बीकानेर पुलिस के चार व पुलिस कमिश्नरेट जोधपुर के दो पुलिसकर्मियों को निलम्बित किया गया है। मामले की जांच पुलिस उपायुक्त (पूर्व) धर्मेन्द्र यादव को जांच सौंपी गई है।
एक एसपी व १४१ अधिकारी-कांस्टेबल का घेरा तोड़ा

सर्किट हाउस में सुरक्षा व्यवस्था का जिम्मा एसपी जीआरपी ममता राहुल के पास था। उनकी सहायता के लिए सुबह से एक अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त, पांच उपाधीक्षक, चार निरीक्षक, पांच एसआइ, दो एएसआइ और १२४ कांस्टेबल की ड्यूटी लगाई गई थी। सादे वस्त्रों में भी पुलिस नजर रखे हुए थी। सर्किट हाउस के चारों तरफ पांच सौ मीटर तक वाहनों और किसी भी अनजान व्यक्ति की आवाजाही पर पाबंदी थी। सिर्फ पास धारकों को ही सर्किट हाउस में प्रवेश की अनुमति थी। केएन कॉलेज तिराहे, भाटी चौराहा और आर्मी तिराहे से सर्किट हाउस जाने वाले मार्ग पर यातायात पूरी तरह बंद था।
न्यू हाईकोर्ट में ‘डी’ तक पहुंची महिला

उधर, हाईकोर्ट के नए भवन में उद्घाटन के दौरान एक महिला वीआइपी की सुरक्षा के लिए बनाए ‘डी’ तक पहुंच गई। वहां तैनात पुलिसकर्मियों ने उसे रोक लिया। महिला ने पुलिस से कहा कि वह काफी दुखी और परेशान है और पीड़ा बताने के लिए राष्ट्रपति तक जा रही थी। महिला से कुड़ी भगतासनी थाने में पूछताछ की जा रही है।

अन्य की भूमिका की होगी जांच

राष्ट्रपति की सुरक्षा में चूक गंभीर मामला है। छह पुलिसकर्मियों को निलम्बित किया गया है। अन्य अधिकारी व जवानों की भूमिका के बारे में पुलिस उपायुक्त (पूर्व) को जांच कर रिपोर्ट देने को कहा है।

प्रफुल्ल कुमार, पुलिस कमिश्नर, जोधपुर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned