डायरेक्टर की अनुपस्थिति में कॉलेज प्राचार्य ने ली 20 हजार रिश्वत, गिरफ्तार

- उपस्थिति कम करने का डर दिखाकर व स्कॉलरशिप का आवेदन पत्र भरने की एवज में बीएड छात्र से ली घूस

By: Vikas Choudhary

Updated: 20 Apr 2021, 11:34 PM IST

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर.
भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो जोधपुर की विशेष विंग ने बाड़मेर के चौहटन स्थित निजी कॉलेज में प्राचार्य/गेस्ट फेकल्टी को 20 हजार रुपए रिश्वत लेते मंगलवार को गिरफ्तार किया। रिश्वत राशि कॉलेज के निदेशक ने मांगी थी, लेकिन निदेशक की अनुपस्थिति में प्राचार्य ने रिश्वत ली। निदेशक की तलाश की जा रही है।

ब्यूरो के उप महानिरीक्षक डॉ विष्णुकांत के अनुसार बाड़मेर जिले में रामसर निवासी बीएड प्रथम वर्ष के छात्र सोहनलाल पुत्र दीपाराम की शिकायत पर चौहटन स्थित आरआरटीटी कॉलेज सेड़वा के प्राचार्य (गेस्ट फेकल्टी) चौहटन में ढोक निवासी नारणाराम (24) पुत्र सूरताराम बिश्नोई को बीस हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया। उसने कॉलेज के निदेशक सेड़वा निवासी डॉ जगदीश पुत्र हरिराम बिश्नोई के लिए यह रिश्वत ली थी। जिसकी तलाश की जा रही है।
डायरेक्टर के अनुपस्थित होने पर फंसा प्राचार्य

ब्यूरो की विशेष विंग के एएसपी डॉ दुर्गसिंह राजपुरोहित ने बताया कि बीएड प्रथम वर्ष का छात्र सोहनलाल रिश्वत राशि देने दोपहर में कॉलेज पहुंचा, लेकिन डायरेक्टर डॉ जगदीश वहां नहीं मिला। छात्र ने मोबाइल पर बात की तो उसने रिश्वत राशि कॉलेज के गेस्ट फैकल्टी नारणाराम को देने के निर्देश दिए। तब छात्र ने रिश्वत नारणाराम को दी। इशारा मिलने पर निरीक्षक संग्रामसिंह, मनीष वैष्णव, हेड कांस्टेबल मेघराज, कांस्टेबल भंवरलाल आदि ने दबिश देकर नारणाराम को रंगे हाथों पकड़ लिया। रिश्वत राशि भी जब्त की गई।
सत्यापन : सामान्य जाति के होते तो 50 हजार लेता

रामसरग निवासी सोहनलाल को काउंसलिंग के बाद गत वर्ष आरआरटीटी कॉलेज आवंटित की गई थी। दो वर्षीय बीएड कोर्स के लिए उसने 22 हजार व पांच हजार रुपए कॉलेज में जमा कराए थे। प्रथम वर्ष की उपस्थिति पूर्ण होने के बाद भी कॉलेज निदेशक डॉ जगदीश बिश्नोई कम दिखाने पर उतारू था। उपस्थिति पूर्ण करने व 28 हजार रुपए स्कॉलरशिप दिलाने की एवज में उसने रिश्वत मांगी थी। छात्र ने इसकी शिकायत गत 15 अप्रेल को एसीबी से की। गोपनीय सत्यापन कराने पर कॉलेज निदेशक डॉ जगदीश बिश्नोई के रिश्वत मांगने की पुष्टि हुई। उसने छात्र से कहा कि वह एससी का है, इसलिए 20 हजार रुपए ले रहा है। सामान्य जाति से होता तो 50 हजार रुपए रिश्वत देने पड़ते।
कॉलेज की स्वीकृति सेड़वा में, संचालन चौहटन में

एसीबी का कहना है कि आरआरटीटी कॉलेज की स्वीकृति बाड़मेर जिले के सेड़वा में हो रखी है, लेकिन कॉलेज का संचालन चौहटन में किया जा रहा है। एक ही बिल्डिंग में तीन-तीन कॉलेज चल रहे हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned