scriptCollege received as a gift from CM | सीएम से तोहफे में मिले कॉलेज के विकास को भूली सरकार! | Patrika News

सीएम से तोहफे में मिले कॉलेज के विकास को भूली सरकार!

पीपाड़सिटी के छात्रों को तोहफे में दी गई कॉलेज राज्य सरकार के उच्च शिक्षा निदेशालय की उदासीनता से अभिशाप बनने लगी हैं,इस राजकीय महाविद्यालय के दो से अधिक ग्रामीण छात्रों का भविष्य दांव पर लगा हुआ है।

जोधपुर

Published: April 28, 2022 12:31:36 pm

स्टाफ का टोटा बना ग्रामीण छात्रों के लिए अभिशाप

पीपाड़सिटी (जोधपुर). पीपाड़सिटी के छात्रों को तोहफे में दी गई कॉलेज राज्य सरकार के उच्च शिक्षा निदेशालय की उदासीनता से अभिशाप बनने लगी हैं,इस राजकीय महाविद्यालय के दो से अधिक ग्रामीण छात्रों का भविष्य दांव पर लगा हुआ है।
सीएम से तोहफे में मिले कॉलेज के विकास को भूली सरकार!
सीएम से तोहफे में मिले कॉलेज के विकास को भूली सरकार!
मुख्यमंत्री ने सन 2021 की बजट घोषणा में ग्रामीण क्षेत्र के छात्रों की ओर से वर्षों से की जा रही मांग को पूरा करते हुए इसे दूसरे घर के लिए तोहफे की संज्ञा दी। शहर में सन 1997 से राजकीय कन्या महाविद्यालय चल रहा हैं, लेकिन अलग से सह शिक्षा के सरकारी कॉलेज नही होने से छात्रों के साथ ऐसी छात्राएं जिनको कन्या महाविद्यालय में प्रवेश नही मिलने से बिलाड़ा या भोपालगढ़ जाना पड़ता था।
इस पर छात्रों के साथ अन्य छात्र संगठनों ने भी अभियान चलाया, सीएम से लेकर मंत्री, विधायक के साथ प्रशासन व उच्च शिक्षा निदेशालय को ज्ञापन भेजे, आंदोलन चलाया तो मुख्यमंत्री ने राजकीय कॉलेज की घोषणा की तो छात्रों की खुशी सातवें आसमान पर जा पहुंची, लेकिन गत एक वर्ष से यह महाविद्यालय सिर्फ नाम का ही बनकर रह गया हैं। ऐसे में अध्ययनरत छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ होने से उनमे आक्रोश फैलने लगा है।

नही भरे पद

मुख्यमंत्री की घोषणा को कागजों में पूरा करते हुए उच्च शिक्षा निदेशालय ने शहर के एक पुराने स्कूल भवन में कॉलेज खोलकर एक सह आचार्य की नियुक्ति कर दी, जिसे कन्या महाविद्यालय से तबादला कर भेजने के साथ प्राचार्य को अतिरिक्त कार्यभार देकर इति श्री कर ली गई।
कहने को राज्य सरकार के मानदंड के अनुसार प्राचार्य, सह आचार्य, पीटीआई, लाइब्रेरियन, लेखाकार,कम्प्यूटर प्रोग्रामर, वरिष्ठ सहायक,कनिष्ठ सहायक,चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी सहित कुल इक्कीस पद स्वीकृत हैं, लेकिन स्थाई नियुक्ति सिर्फ एक सह आचार्य को अन्यों नियुक्ति को उच्च शिक्षा निदेशालय भूल हैं।ऐसे में ना तो छात्रों का पाठ्यक्रम पूरा हो सका और न ही अन्य सुविधाएं मिल सकी।
कॉलेज में तालाबंदी
कॉलेज छात्रों के अनुसार एक मात्र सह आचार्य जिनका यहां तबादला किया गया हैं, वे अपने पूर्व के राजकीय कन्या महाविद्यालय में ज्यादा समय बिताते हैं, जबकि पदस्थापना राजकीय कॉलेज की है, उनके कॉलेज खुलने के निर्धारित समय तक यहाँ उपस्थित नहीं रहने से छात्रों को अपनी विभिन्न समस्याओं के लिए कन्या महाविद्यालय के चक्कर काटने पड़ रहे हैं।
कॉलेज खुलने का समय प्रातः 9 से 3 बजे का हैं, लेकिन सह आचार्य दो घण्टे बाद ताला लगाकर कन्या महाविद्यालय चले जाते हैं। ऐसे में छात्रों को परेशानी का सामना करना पड़ता हैं। इसको लेकर कई बार ज्ञापन दिए गए लेकिन कहीं पर भी सुनवाई नही हो रही। राज्य सरकार ने विद्या सम्बल योजना में पदों को भरने के निर्देश दिए,लेकिन कॉलेज प्रबंधन ने इसके लिए कोई विशेष प्रयास नही किए, इसका खमियाजा छात्रों को भुगतना पड़ रहा हैं।

इन्होंने कहा
कॉलेज खोलकर उसमे पर्याप्त स्टाफ व सुविधाएं उपलब्ध नही कराना यह दर्शाता हैं कि राज्य सरकार वाहवाही के नाम पर छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही हैं।
-अर्जुनलाल गर्ग, पूर्व राज्यमंत्री, बिलाड़ा।

कॉलेज के नियमित और पूरे समय नही खुलने से छात्र अपनी समस्याओं से परेशान हैं, ना पाठ्यक्रम पूरा हुआ और न ही रिक्त पदों पर सरकार की योजना से पदों को भरने की वैकल्पिक व्यवस्था नही की गई।
-सीताराम टाक,नगर मंत्री,एबीवीपी,पीपाड़सिटी।

रिक्त पदों को भरने की नियमित सूचना निदेशालय को दी जाती हैं, इसके साथ छात्रों की समस्या का समाधान गर्ल्स कॉलेज से किया जाता हैं।
डॉ. नीना जैन, कार्यवाहक प्राचार्य,राजकीय महाविद्यालय, पीपाड़सिटी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

ताजमहल के बंद 22 कमरों में क्या है, ASI ने जारी कर दी फोटोPM Modi Nepal Visit : नेपाल के बिना हमारे राम भी अधूरे हैं, नेपाल दौरे पर बोले पीएम मोदीमहबूबा मुफ्ती ने कहा इनको मस्जिद में ही मिलता है भगवानMonsoon Update 2022: अंडमान-निकोबार पहुंचा मानसून, जानिए आपके राज्य में कब होगी बारिशGyanvapi Survey: ज्ञानवापी परिसर में जहां मिला शिवलिंग उसे अदालत ने तत्काल सील करने का दिया आदेश, जानें क्या कहा DM नेजातिगत जनगणना: भाजपा के विरोध के बावजूद सीएम नीतीश कुमार बिहार में जल्द बुलाएंगे सर्वदलीय बैठकUdaipur Chintan Shivir: राजस्थान में दंगे करवाने में भाजपा के बड़े नेताओं का हाथ, 'चिंतन' के बाद बोले सीएम गहलोत7 लोगों को जिंदा जलाकर दोस्त से मैसेज पर कही थी ये बात, अब दोस्त ने कहा- इसे फांसी देना भी कम है
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.