दस दिन बाद दोनों गैंग पर शिकंजा, आठ गुर्गे गिरफ्तार

Jodhpur, Rajasthan, India
दस दिन बाद दोनों गैंग पर शिकंजा, आठ गुर्गे गिरफ्तार

अवैध कारोबार में वर्चस्व के लिए गैंगवार प्रकरण: सरगना अभी भी पकड़ से दूर

अवैध धंधों में वर्चस्व के लिए चल रही गैंगवार तथा सात मोहल्लों में उत्पात मचाने के मामले में दस दिन बाद दोनों गैंग के आठ गुर्गों को पुलिस ने रविवार को गिरफ्तार तथा एक गैंग के मुख्य गुर्गे को राजपासा में निरूद्ध किया। एक गिरोह का सरगना अभी तक पकड़ में नहीं आ पाया है। चार बदमाशों को पुलिस स्टेशन प्रतापनगर तथा चार अन्य को पुलिस स्टेशन सदर बाजार में गिरफ्तार किया गया। नागौरी गेट थाना पुलिस ने हिस्ट्रीशीटर को राजपासा में निरूद्ध करवाया है।


READ MORE: मात्र 600 रुपए में बन सकते हैं बैकिंग एग्जीक्यिूटिव, यहां मिलेगा प्रशिक्षण, जल्द शुरू हो रहा है नया बैच


तीन मंजिला तहखाने में दुकान से आए पकड़ में

सहायक पुलिस आयुक्त (प्रतापनगर) स्वाति शर्मा के अनुसार गत 16 फरवरी की मध्यरात्रि डेढ़ से तड़के साढ़े तीन बजे तक उत्पात मचाकर वाहनों में आगजनी तथा तोडफ़ोड़ के मामले में पंचालिया नाडी निवासी मोंटू उर्फ मोंटी उर्फ राहुल पुत्र राकेश हंस, विशाल उर्फ बिट्टु जावा पुत्र प्रकाश, अमन पुत्र महेन्द्र वाल्मिकि तथा लाला लाजपतराय कॉलोनी निवासी युवी उर्फ संजय पुत्र गजेन्द्र परिहार को गिरफ्तार किया गया है। चारों आरोपी अजय घारू गिरोह के हैं। गिरोह के सरगना अजय घारू से उत्पात में भूमिका के बारे में पूछताछ की जा रही है। 


READ MORE: अवैध खनन पर लूणी नदी पहुंची हाईकोर्ट टीम


आरोपियों ने दो दुपहिया वाहन पर सवार होकर सात मोहल्लों में जमकर उत्पात मचाते हुए तीन दर्जन वाहनों में आगजनी तथा तोडफ़ोड़ की थी। वारदात में प्रयुक्त एक दुपहिया वाहन अजय घारू का है। इनमें संजय तथा विशाल को सरदारपुरा बी रोड स्थित तीन मंजिला तहखाने में बनी दुकान से पकड़ा गया है। विजय सरगना ने दोनों को यहां छुपाया था। जबकि मोंटू को पाली व अमन को जालोर से हिरासत में लिया गया। इन्हें पकडऩे में थानाधिकारी रामसिंह के नेतृत्व में एसआई सोमकरण, एएसआई सुखराम, हैड कांस्टेबल जमशेद, कांस्टेबल स्वरूप, शकील, महेन्द्र, मनोज व अनिल शामिल थे।


READ MORE: सेंट्रल जेल की सलाखों के पीछे झगड़ पडे़ कैदी


लम्बे समय से थे बदला लेने की ताक में

एसीपी (केन्द्रीय) विक्रम सिंह भाटी ने बताया कि पंचोलिया नाडी निवासी अजय घारू तथा नागौरी गेट हरिजन बस्ती निवासी मोंटू कण्डारा के बीच लम्बे समय से रंजिश है। गत वर्ष अजय की गैंग ने मोंटू व उसके चचेरे भाई अभिमन्यु पर हमला किया था। अभिमन्यु के दोनों पांव फ्रैक्चर हो गए थे। दोनों पांव में रॉड डाली गई। इसका बदला लेने के लिए गत आठ फरवरी की शाम मोंटू, अभिमन्यु व सात-आठ गुर्गों ने घोड़ों का चौक में रिश्तेदार के घर बैठे अजय घारू पर हमला कर दिया था। उसे सड़क पर पटकने के बाद जमकर वार किए गए थे। 


READ MORE: उसने जन्म तिथि बदल कर ले ली नौकरी


हाथ में फ्रैक्चर करके आरोपी भाग गए थे। सदर बाजार थाने में जानलेवा हमले का मामला दर्ज है। थानाधिकारी डॉ गौतम डोटासरा के नेतृत्व में रविवार को भगत की कोठी निवासी देवेन्द्र वाल्मिकि पुत्र वीरू, पहाडग़ंज द्वितीय किशोरबाग निवासी सुरेन्द्र कुमार पुत्र किसनाराम जाट, विक्रमादित्य कॉलोनी के पीछे निवासी रोहित उर्फ शानू पुत्र उदयशंकर वाल्मिकि तथा उदयमंदिर हरिजन बस्ती निवासी प्रशांत पुत्र सरजू वाल्मिकि को गिरफ्तार किया गया। वारदात के बाद आरोपी पीपाड़ शहर, अहमदाबाद व मुम्बई भाग गए थे। मुख्य आरोपी मोंटू कण्डारा के मुम्बई में होने का अंदेशा है।


READ MORE: अनियंत्रित होकर पलटी कार, 8 घायल


चचेरा भाई राजपासा में बंद

उधर, नागौरी गेट थानाधिकारी भंवर सिंह ने मोंटू कण्डारा के चचेरे भाई अभिमन्यु उर्फ ढबिया वाल्मिकि को राजस्थान समाज विरोधी क्रियाकलाप रोकथाम अधिनियम (राजपासा) के तहत हिरासत में लिया और जेल में निरूद्ध करवाया। वह तथा मोंटू कण्डारा नागौरी गेट थाने के हिस्ट्रीशीटर हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned