जोधपुरी जायके की पहचान दाल बाटी चूरमा

MI Zahir

Updated: 20 Aug 2019, 02:39:48 PM (IST)

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर. .राजस्थान के शहरों में राजस्थान की संस्कृति का प्रतिनिधित्व करने वाला शहर है जोधपुर। इस शहर की मीठी बोली, रहन सहन और खान पान ( jodhpur taste ) देश विदेश के लोगों को बहुत अच्छे लगते हैं। जोधपुर का जायका ( jodhpur food ) भी उनमें से एक है। जोधपुर का मिर्ची बड़ा, मावे की कचोरी तो मशहूर है ही। कुछ और एेसी चीजें भी हैं जो इस शहर के खानपान की पहचान हैं। उनमें से एक है- दाल बाटी चूरमा ( Dal Bati Churma ) । आजकल दाल बाटी चूरमा राजस्थान के हर शहर ही नहीं, देश के कई प्रदेशों और विदेशों में भीबनते और मिल जाते हैं। यहां तक कि हर हाईवे, ढाबे और रेस्टोरेंट पर भी उपलब्ध है, लेकिन जिसे असल जोधपुरी जायका कहते हैं, वह दाल बाटी कहां मिलती है, यह जानने के लिए हमने कई लोगों से पूछा और माउथ-दर-माउथ पब्लिसिटी सुन कर हम पहुंचे रावण का चबूतरा मैदान रोड पर। यहां हमें पप्पूसिंह मेड़तिया ने पत्रिका को जोधपुरी दाल बाटी चूरमा बनाने की रेसिपी ( Dal Bati Churma recipe ) बताई। आप भी जानिए और लीजिए यह स्वाद :

बाटी की लजीज दाल

उन्होंने बताया कि वे केवल मंूग की दाल ही बनाते हैं। इसका आम तरीका तो यह है कि जितनी दाल ली जाती है उतना ही पानी मिलाया जाता है। हमारा तरीका यह है कि हम 3 किलो दाल में 10 लीटर पानी मिलाते हैं। पहले भगौने में पानी गर्म कर के उसमें मंूग की दाल डालते हैं। दाल खूब उबलने के बाद घुट जाती है तो उसमें से काफी पानी निकल जाता है। उसके बाद उसमें मसाला मिलाते हैं। इसमें लाल मिर्च, हल्दी, धनिया पाउडर, नमक और थोड़ा सा गर्म मसाला मिलाते हैं। इस तरह दाल तैयार हो जाती है। जैसे-जैसे दाल की जरूरत पड़ती है, वे इसी अनुपात में बनाते जाते हैं।

बाटी बनाने का तरीका
मेड़तिया ने बताया कि वे बाटी बनाने के लिए आम गेहूं इस्तेमाल नहीं करते हैं। इसके लिए वे लाल गेहूं का 16 किलो आटा इस्तेमाल करते हैं। हमारे यहां आटा लगाने की मशीन है। हम पहले उसमें आटा गूंधते हैं। इसके बाद हाथ से गोल बाटी बनाते हैं। उसके बाद बाटी को तन्दूर की भट्टी में 20 मिनट तक सेंकते हैं। इस तरह 16 किलो आटे में 100 बाटी तैयार हो जाती हैं। लीजिए तैयार हो गई लज्जतदार बाटी।

बाटी का चूरमा और लड्डू

उन्होंने बताया कि हमारे पास जब बाटी बन कर तैयार हो जाती है तो हम दो बाटी का एक प्लेट चूरमा बना लेते हैं। इसके लिए हम पहले से तैयार बाटी सेंक कर उसमें देसी घी, शक्कर, ड्राई फ्रूट यानी काजू व बादाम आदि डाल कर हाथ से हलवे की तरह चूरमा बनाते हैं। इस तरह तैयार हो जाता है बाटी का चूरमा। अगर बाटी के चूरमे के लड्डू बनाने हैं तो पहले से तैयार बाटी मिक्सी में पीस कर उसमें काजू, बादाम, गोटा, शक्कर, इलायची और घी मिलाते हैं। इस तरह हर बार बाटी के 100 लड्डू तैयार हो जाते हैं। अब आप दाल बाटी और चूरमा का सेवन करने का लुत्फ लीजिए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned