एक साल में ही उखडऩे लगा गौरव पथ, जिम्मेदार मौन

पीलवा. सरकार ने पंचायत स्तर पर आमजन की सुविधा के लिए 'ग्रामीण गौरव पथ' योजना के तहत सीसी सड़कें बनवाई।

By: pawan pareek

Published: 07 Jun 2018, 12:01 AM IST

पीलवा (जोधपुर). सरकार ने पंचायत स्तर पर आमजन की सुविधा के लिए 'ग्रामीण गौरव पथ' योजना के तहत सीसी सड़कें बनवाई। कई गांवों-कस्बों में बनी इन सड़कों का एक साल में ही बंटाधार हो गया और ये उखडऩे लगी हैं। इसकी एक बानगी रावतनगर ग्रामीण गौरव पथ भी है।

 

करीब एक वर्ष पूर्व 60 लाख की लागत से बना यह गौरव पथ कई जगह पर उखडऩे लगा है। हालांकि इसके निर्माण के वक्त ही ग्रामीणों ने कार्यकारी संस्था से ठेकेदार द्वारा घटिया निर्माण सामग्री उपयोग लेने की शिकायत की थी, लेकिन अधिकारियों ने किसी की नहीं सुनी।

 

ग्रामीणों का आरोप है कि संबंधित ठेका फर्म मैसर्स हीराराम गोदारा ने सार्वजनिक निर्माण विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों के साथ मिलीभगत कर घटिया निर्माण सामग्री का प्रयोग किया, जिसके कारण यह ग्रामीण गौरव पथ अपने प्रारम्भिक काल में ही बिखरने लगा है।

 

ग्रामीण बताते हैं कि इस गौरव पथ के निर्माण के समय ही ठेकेदार सहित जिम्मेदार विभागीय अधिकारियों को कई बार आगाह किया कि गिट्टी, चूना, मुरड, बजरी, सीमेन्ट व अन्य सामग्री का उपयोग निर्धारित मापदण्ड अनुसार नहीं हो रहा। मगर एक भी अधिकारी ने मौके पर आकर देखने की जहमत नहीं उठाई।

फैक्ट फाइल

कार्य का नाम : ग्रामीण गौरव पथ निर्माण योजना
सड़क का नाम : भूरिया बाबा ओरण से पीरदानसिंह के सभा भवन तक

सीमेन्ट कंक्रीट सड़क की लम्बाई : 1 किलोमीटर
लागत राशि : 60 लाख

कार्य प्रारम्भ तिथि 2.01.2017
कार्यपूर्ण तिथि : 01.07.2017
कार्य की गारन्टी अवधि : तीन वर्ष
संवेदक का नाम : मैसर्स हीराराम गोदारा, आदर्श नगर, फलोदी

कार्यकारी संस्था : सार्वजनिक निर्माण विभाग, खण्ड फलोदी
पैकेज संख्या : आरजे-21-11/जीजीपी-सैकेण्ड/प्लान/2017-17 फुटपाथ का निर्माण ही नहीं हुआ

ग्रामीण गौरव पथ योजना के तहत निर्मित इस सड़क के दोनों ओर नियमानुसार 15 सेमी. मोटी व 1.875 मीटर चौड़ी ग्रेवल फुटपाथ का निर्माण करना अनिवार्य था, लेकिन संवेदक फर्म ने फुटपाथ का निर्माण ही नहीं किया। ग्रामीणों ने जब इसकी शिकायत की तो नाममात्र का ग्रेवल डालकर इतिश्री कर ली गई।

 

इन्होंने कहा
रावतनगर ग्रामीण गौरव पथ का निरीक्षण कर जायजा लूंगा। यदि घटिया निर्माण हुआ है तो संबंधित फर्म को पाबंद कर सड़क दुरुस्तीकरण के निर्देश दिए जाएंगे।


-एचआर विश्नोई, अधिशासी अभियंता, सार्वजनिक निर्माण विभाग, खण्ड फलोदी।

pawan pareek Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned