चाबी खोने के विवाद में दोस्त ने सेवानिवृत्त बैंककर्मी की हत्या कर सीवरेज में डाल लगाई थी आग

- विवेक विहार की सीवरेज लाइन में मिले अद्र्ध जले शव के मामले का 5 माह बाद खुलासा
- डीएनए जांच रिपोर्ट मिलने पर शिनाख्त, एक युवक गिरफ्तार

By: Vikas Choudhary

Published: 23 Jul 2021, 02:18 AM IST

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर.
कुड़ी भगतासनी थाना पुलिस ने विवेक विहार में सेक्टर-डी स्थित सीवरेज लाइन में पांच महीने पहले मिले अद्र्ध जले शव की हत्या का पर्दाफाश कर गुरुवार को मृतक के एक मित्र को गिरफ्तार किया। कार की चाबी चोरी करने का आरोप लगाने पर विवाद के चलते आरोपी ने बैंक से सेवानिवृत्त मित्र की हत्या करने के बाद शव सीवरेज लाइन में डालकर पेट्रोल उड़ेल आग लगा दी थी।
सहायक पुलिस आयुक्त (बोरानाडा) मांगीलाल ने बताया कि गत सात मार्च को विवेक विहार में सेक्टर-डी की सीवरेज लाइन में बनी हौदी में एक व्यक्ति का अद्र्ध जला शव मिला था। उसका सिर्फ पांव का पंजा ही बचा था। इससे पहले 4 मार्च को केबीएचबी में सेक्टर 6डी निवासी परसाराम पुत्र आसकरण बोहरा घर से कार सहित गायब हो गए थे। उनके भाई गोविंदलाल ने गुमशुदगी दर्ज कराई थी। गोविंद ने पांव का पंजा देख शव अपने भाई परसाराम का होने का अंदेशा जताया था। मृतक की शिनाख्त के लिए पुलिस ने गोविंद व परसाराम के सैम्पल लेकर डीएनए जांच के लिए जयपुर भेजे थे। जिसकी जांच रिपोर्ट मिलने पर शव परसाराम बोहरा का होने की पुष्टि हुई थी। तब हत्या कर साक्ष्य छुपाने का मामला दर्ज किया गया था।
थानाधिकारी अमित सिहाग के नेतृत्व में पुलिस ने मृतक के मोबाइल की कॉल डिटेल व अन्य पहलूओं से जांच शुरू की। तब झालामण्ड में चतुरा नगर निवासी अनिल प्रजापत पर संदेह हुआ। पुलिस ने उसे पकड़कर पूछताछ की। तब आरोपी ने हत्या करना कबूल किया। इस पर पुलिस ने चतुरा नगर में ऐणियों की ढाणी निवासी अनिल प्रजापत (22) पुत्र अमरचंद को गिरफ्तार किया। उससे मृतक की कार व मोबाइल बरामदगी के प्रयास किए जा रहे हैं।
मामूली तकरार में कर दी थी दोस्ती की हत्या
थानाधिकारी अमित सिहाग का कहना है कि आरोपी व अनिल में चार-पांच साल से मित्रता थी। आरोपी उसके घर आता जाता था। इस दौरान परसाराम की कार की चाबी खो गई थी। इसको लेकर अनिल पर चोरी का आरोप लगाया गया था। तब दोनों में मनमुटाव हो गया था। 24 फरवरी को मृतक व अनिल में मुलाकात हुई थी। तब फिर से दोनों में तकरार हो गई थी। उस समय तो दोनों चले गए थे, लेकिन इस रंजिश को लेकर अनिल रात को मृतक के घर पहुंचा था और उसकी हत्या कर दी थी। मृतक की कार में शव डालकर विवेक विहार सेक्टर-डी में सीवरेज लाइन की हौदी में ले जाकर डाल दिया था। फिर पेट्रोल डालकर आग लगा दी थी। मृतक की कार व मोबाइल लेकर आरोपी गायब हो गया था।
पत्नी व बच्चों से अलग अकेले रहते थे मृतक
मृतक परसाराम बोहरा बैंक में कार्यरत थे, लेकिन फिर उन्होंने वीआरएस ले ली थी। पत्नी, बच्चों व परिवार के अन्य लोगों से अलग हो गए थे। वो केबीएचबी में अलग रहने लगे थे। घर में परचून की दुकान व प्राइवेट मार्केटिंग कम्पनी का काम भी करते थे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned