मंदिर में डोडा पोस्त की तस्करी के लिए धमकाया तो पुजारी ने नहर में कूद की आत्महत्या

मंदिर में डोडा पोस्त की तस्करी के लिए धमकाया तो पुजारी ने नहर में कूद की आत्महत्या

Ranveer Choudhary | Updated: 13 Jul 2019, 12:25:25 AM (IST) Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

आत्महत्या से पहले गांव के वाट्सअप ग्रुप में ऑडियो अपलोड किया

भंवरी प्रकरण के आरोपी विश्नाराम, मंदिर अध्यक्ष समेत चार पर दुष्प्रेरित का आरोप

 


जोधपुर.

लोहावट थाना क्षेत्र के फतेहसागर ग्राम पंचायत के इंद्रनगर स्थित जम्भेश्वर मंदिर के पुजारी ने गुरुवार देर रात को राजीव गांधी लिफ्ट में कूद आत्महत्या कर ली। आत्महत्या से पहले उसने गांव के एक वाट्सअप ग्रुप में ऑडियो अपलोड कर भंवरी प्रकरण के आरोपी समेत चार लोगों पर डोडा पोस्त की तस्करी के लिए परेशान करने का आरोप लगाया। ऑडियो वायरल होने के बाद शुक्रवार सुबह पुजारी की तलाश करने पर शव करीब 60 किलोमीटर दूर गगाड़ी पम्पिंग स्टेशन पर नहर में मिला। इधर संत की रिपोर्ट पर पुलिस ने भंवर प्रकरण के आरोपी समेत चार के खिलाफ आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरित करने का मामला दर्ज किया है।

फतेहसागर ग्राम पंचायत के इन्द्रनगर स्थित जम्भेश्वर मंदिर पुजारी शिवदास महाराज (45) वर्ष 2004 से मंदिर में पुजारी थे। शिवदास ने गुरुवार रात करीब सात बजे गांव के इंद्रनगर नाम से एक वाट्अप ग्रुप में ऑडियो अपलोड किया। जिसमें पुजारी ने भंवरी प्रकरण के आरोपी विश्नाराम बिश्नोई, मंदिर अध्यक्ष बंशीलाल, सोहनराम, श्रवण पिछले काफी समय से मंदिर में डोडा पोस्त की तस्करी के लिए दबाव बना रहे थे। आरोपी उसके मना करने पर जान से मारने की धमकी दे रहे थे। पुजारी शिवदास को कुछ लोग गुरुवार दोपहर 2 बजे रूपाराम पुत्र कानाराम के घर से उठाकर ले गए। इसके बाद पुजारी ने शाम को सात बजे वाट्अप पर ओडियो अपलोड किया। पुजारी के ऑडियो डालने के बाद शुक्रवार सुबह गांव वाले मंदिर गए तो पुजारी वहां नहीं मिले। इस पर आस-पास में तलाश करने पर पुजारी के जूते राजीव गांधी नहर के पास मिलने पर गांव वालों ने पुलिस में सूचना कर तलाश शुरू कर दी। दोपहर करीब 3 बजे गांव से 60 किलोमीटर दूर गगाड़ी पम्पिंग स्टेशन में पुजारी का शव मिला। पुलिस ने शव को लोहावट के सरकारी अस्पताल में रखवाया। इधर संत रामसुखदास की रिपोर्ट पर पुलिस ने भंवरी प्रकरण के आरोपी विश्नाराम पुत्र मोहनराम , मंदिर के अध्यक्ष बंशीलाल पुत्र कुमाराम, सोहनराम पुत्र मोहनराम, श्रवण पुत्र माणकराम के खिलाफ पुलिस ने आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरित करने का मामला दर्ज किया है।

मंदिर को डोडा पोस्त तस्करी का ठिकाना बनाना चाहते थे
पुजारी ने ऑडियो में कहा कि मैं शिवदास महाराज बोल रहा हूं। इन्द्रनगर से सभी भाइयों को गुरु प्रणाम। मेरी यह आखिरी बात है, मुझे डोडा पोस्त की तस्करी के लिए (भंवरी प्रकरण के आरोपी विश्नाराम व उसके तीन साथी ) मुझे परेशान कर रहे हैं। जाम्भाजी मंदिर के अन्दर अवैध डोडा डाल रहे हैं और धमकियां दे रहे हैं कि तुम्हारे ऊपर से गाड़ी निकाल दूंगा। भंवरी कांड व सोनार मर्डर में हमारा कुछ नहीं हुआ। सभी को प्रणाम आगे ग्रुप में भेजना। पुलिस ने पुजारी का ऑडियो मिलने के बाद गांव व मंदिर के लोगों से ऑडियो में लिए चार लोगों और डोडा पोस्त के बारे में पूछताछ की।

डोडा पोस्त बना मौत का कारण
लोगों के अनुसार भंवरी प्रकरण का आरोपी जेल में मोबाइल से क्षेत्र में डोडा पोस्त की तस्करी का नेटवर्क चला रहा है। आरोपी पिछले काफी समय से मंदिर से डोडा पोस्त की तस्करी कर रहा था। जिसका पुजारी ने विरोध भी किया। पुजारी ने तस्करी के बारे में गांव के कुछ लोगों को भी बताया, लेकिन आरोपियों के डर से पुलिस को शिकायत नहीं की। लोगों के अनुसार पुजारी की मौत का कारण डोडा पोस्त की तस्करी है। इसी वजह से पुजारी की हत्या करने की भी आशंका जताई जा रही है।

............

‘पुजारी के ऑडियो की जांच की जा रही है। डोडा पोस्त की तस्करी को लेकर पुलिस में शिकायत नहीं की। पुजारी के परिजनों की रिपोर्ट पर मामला दर्ज करने की कार्रवाई की जा रही है। मामला दर्ज करने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।
जस्साराम बोस, एडीशनल एसपी, फलोद

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned