scriptElectricity companies robbing the pockets of common consumers | आम उपभोक्ताओं की जेब पर डाका डाल रही बिजली कम्पनियां, बड़े बकायादारों पर नहीं चलता इनका वश, जानने के लिए पढ़े पूरी खबर... | Patrika News

आम उपभोक्ताओं की जेब पर डाका डाल रही बिजली कम्पनियां, बड़े बकायादारों पर नहीं चलता इनका वश, जानने के लिए पढ़े पूरी खबर...

- बड़ों का बाल भी बांका नहीं, मामूली वालों के घर अंधेरे में
- 8 महकमों से 768 करोड़ वसूलने में उड़े सरकारी बिजली कंपनी के फ्यूज
- काट दिए बिल जमा न करवाने वाले 7 लाख छोटे उपभोक्ताओं के कनेक्शन

जोधपुर

Updated: January 13, 2022 03:16:28 pm

सुरेश व्यास/जोधपुर। बिजली कम्पनियां कभी घाटे तो कभी तरह तरह के सैस के नाम पर आम उपभोक्ताओं की जेब पर डाका डालती रहती है, लेकिन आठ-दस सरकारी विभागों में बरसों से बकाया 769 करोड़ रुपए की रकम वसूलने में ही उसके फ्यूज उड़े हुए हैं। इन बकायादारों पर इनका वश नहीं चलता, लेकिन कोई साधारण उपभोक्ता दो-चार महीने भी बिल नहीं भरे तो बिजली कम्पनी के कारिंदे कनेक्शन काटने पहुंच जाते हैं। जोधपुर डिस्कॉम के 12 सर्किल में 7 लाख से ज्यादा छोटे बकायादार उपभोक्ताओं के कनेक्शन काटे जा चुके हैं।
आम उपभोक्ताओं की जेब पर डाका डाल रही बिजली कम्पनियां,  बड़े बकायादारों पर नहीं चलता इनका वश, जानने के लिए पढ़े पूरी खबर...
आम उपभोक्ताओं की जेब पर डाका डाल रही बिजली कम्पनियां, बड़े बकायादारों पर नहीं चलता इनका वश, जानने के लिए पढ़े पूरी खबर...
जोधपुर डिस्कॉम के अधीन प्रदेश के 10 जिलों में 12 सर्किल आते हैं। इनमें से बीकानेर शहर की विद्युत आपूर्ति का जिम्मा निजी कंपनी (डिस्ट्रीब्यूशन फे्रंचाइजी) के पास हैं। इन सभी सर्किल के केंद्र व राज्य के विभिन्न सरकारी दफ्तरों पर गत नवम्बर तक डिस्कॉम की 768.30 करोड़ रुपए की बकायादारी थी। इनका तो बिजली कम्पनी बाल भी बांका नहीं कर पाई। इसके ठीक उलट डिस्कॉम ने बिल न भरने वाले 7 लाख 13 हजार 263 आम उपभोक्ताओं के कनेक्शन ही काट दिए।
स्थानीय निकायों में सर्वाधिक बकाया
डिस्कॉम के बकायादारों में सबसे बड़े डिफॉल्टर स्थानीय निकाय हैं। म्यूनिसिपल बॉडीज व यूआईटी में 301 करोड़ से ज्यादा बकाया है। इसके बाद जलदाय विभाग पर 239 करोड़ और केंद्रीय कार्यालयों पर 164 करोड़ रुपए की बकायादारी है।
सेटलमेंट में भी नहीं बनी बात
डिस्कॉम का यह बकाया कई बरसों से चल रहा है। इस दौरान दिसम्बर 2017 में 126.43 करोड़ रुपए बकाया के वनटाइम सैटलमेंट की कोशिश की गई। इसमें से डिस्कॉम ने वित्तीय वर्ष 2018-19 में 84.28 करोड़ का अरबन सैस समायोजित कर दिया। फिर भी भी सैटलमेंट के नाम पर अब भी 42.03 करोड़ रुपए की वसूली नहीं हो पाई है।
किसमें कितना बकाया
सर्किल---केंद्रीय कार्यालय---जलदाय---जेजेवाय---पंचायत---प्रशासन---पुलिस---निकाय---अन्य---कुल
जोधपुर शहर---365.55---841.80--0.00---0.00--22.79---29.47---3596.51--0.00--48.56.12
जोधपुर जिला--170.63---7384.45--13889.57---457.45---59.53---69.01--849.88---441.23---23321.75
पाली---23.11---459.77---261.64---39.79---11.87---24.32---1328.67---27.91---2177.08
सिरोही---40.28---265.80---40.84---0.00---7.85---10.26---641.90---145.36---1152.29
जालोर---29.65---3708.88--86.26---75.91---19.87---25.20---565.83---218.86---4730.46
बाड़मेर---57.43---2176.88---350.71---80.50---61.56---26.15---845.35---182.14---3780.72
जैसलमेर---578.84---1839.73---0.00---100.67---7.47---19.94---466.20---132.21---3145.06
बीकानेर जिला---53.08---3338.49---316.62---211.43---48.50---55.01---125.97---824.01---4973-11
हनुमानगढ़---15.85---98.86---0.00---1.05---13.75---11.24---918.56---17.87---1077.18
श्रीगंगानगर---142.39---200.61---180.40---19.43---78.71---108.23---744.60---112.46---1586.83
चूरू---121.83---3133.17---240.11---160.08---92.62---181.18---1293.73---45.93---5268.65
बीकानेर शहर*---50.47---439.89---0.00---62.71---1153.46---32.96---18724.58---296.32---20760.39
कुल---1649.11---23888.33---15366.15---1209.02---1577.98---592.97---30101.78---2444.30---76829.64
(बकाया 30 नवम्बर 2021 तक लाख रुपए में)
ø डिस्ट्रीब्यूशन फे्रंचाइजी


कहां कितने कनेक्शन कटे
जोधपुर सिटी---62,343
जोधपुर जिला---81,928
पाली-------------92,795
सिरोही-----------33,459
जालोर-----------47,176
बाड़मेर-----------66,223
जैसलमेर---------20,695
बीकानेर जिला---66,468
हनुमानगढ़--------60,674
श्रीगंगानगर-------85,101
चूरू-----------------65,831
बीकानेर सिटी-----30,571
कुल-------------7,13,264
(आंकड़े 31 अकटूबर 2021 तक)

जनउपयोगी विभागों पर सख्ती कर नहीं सकते
सरकारी विभागों में बकाया राशि बढ़ रही है इसके लिए वसूली के प्रयास भी लगातार जारी है। आज ही पीएचईडी के अधिकारियों के साथ संबंध में मीटिंग भी हुई है। जो विभाग जन उपयोगिता के साथ सीधे जुड़े हुए हैं उनके कनेक्शन काटने या अन्य सख्ती भी नहीं कर सकते।
-अविनाश सिंघवी, एमडी जोधपुर डिस्कॉम

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां

बड़ी खबरें

Mizoram Earthquake: मिजोरम में महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर पैमाने पर रही 5.6 तीव्रताराष्ट्रीय युद्ध स्मारक में विलय की गई अमर जवान ज्योति की लौ; देखें VIDEO'हिजाब' पर कर्नाटक के शिक्षा मंत्री के बयान पर बवाल! जानिए क्या है पूरा मामलाUP Election 2022: राहलु और प्रियंका ने जारी किया कांग्रेस का घोषणा पत्र, युवाओं पर फोकसदिल्ली उपराज्यपाल ने आप सरकार के प्रस्ताव को किया खारिज, वीकेंड कर्फ्यू हाटने और प्रतिबंधों में ढील से इनकारकर्नाटक: शनिवार व रविवार को भी खुलेंगे बाजार लेकिन एक शर्त हैIND vs SA: मायूस विराट कोहली के चेहरे पर आई खुशी, ऋषभ पंत का सिक्स देखकर करने लगे डांसतत्काल पैसों की जरुरत है? तो जानिए वो 25 बैंक जो दे रहे हैं सबसे सस्ता Personal Loan
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.