scriptFarming of pomegranate | रास आने लगी अनार की खेती | Patrika News

रास आने लगी अनार की खेती

बावड़ी क्षेत्र में किसान परम्परागत खेती के साथ ही खेती में नवाचार कर कम पानी में अच्छा उत्पादन एवं मुनाफे की खेती की ओर कदम बढ़ा रहे हैं।

जोधपुर

Published: January 12, 2022 04:39:18 pm

लवेरा बावड़ी (जोधपुर). बावड़ी क्षेत्र में किसान परम्परागत खेती के साथ ही खेती में नवाचार कर कम पानी में अच्छा उत्पादन एवं मुनाफे की खेती की ओर कदम बढ़ा रहे हैं।

क्षेत्र के अणवाणा के प्रगतिशील किसान सुखदेवसिंह व रामप्रकाश डऊकिया ने अपने फार्म हाउस पर बारिश के पानी का संचय करने के लिए एक फार्म पौण्ड का निर्माण करवाते हुए बूंद-बूंद सिचाई की तकनीक अपनाते हुए खेत में करीब तीन हैक्टेयर में अनार का बगीचा लगाया है। सितम्बर 17 में करीब 2300 पौधे अनार के लगाए, जिसमें से 500 नष्ट हो गए। अब 1800 पौधे फल दे रहे हैं।
रास आने लगी अनार की खेती
रास आने लगी अनार की खेती
सहायक कृषि अधिकारी स्वरूपसिंह राठौड़ ने बताया कि गिरते भू जल स्तर एवं परम्परागत खेती के साथ ही ऐसी फसलों की बुवाई करनी चाहिए जो अधिक उत्पादन के साथ मुनाफा दे सके।

बागवानी के तहत अनार के पौधे लगाकर जो नवाचार किया हैं वो और भी किसानों के लिए प्रेरणादायक रहेगा। तीन हैक्टेयर में करीब 1800 अनार के पौधे लगे हैं। बूंद -बूंद सिंचाई तकनीक अपनाकर पौधे की सिंचाई की इसी के साथ ही पौधे के बीच में अन्य फसल उगाकर भी लाभ लिया जा सकता हैं।
बावड़ी क्षेत्र के अणवाणा, पूनियां की बासनी, सोयला, चटालिया, खेड़ापा, हरढाणी के साथ ही अन्य गांवों में किसान अनार के साथ ही पपीता, नीम्बू की खेती कर नवाचार कर रहे हैं।

10 से 15 लाख के हो जाते हैं अनार
प्रगतिशील किसान सुखदेवसिंह व रामप्रकाश डऊकिया ने बताया कि अनार के बगीचे में एक-एक पौधे पर करीब 80 से 100 तक फल लग जाते हैं। अच्छे पकने पर तो एक अनार का वचन करीब तीन सौ साढे तीन सौ ग्राम से अधिक होता हैं। दस से पन्द्रह लाख के अनार की उपज आ जाती हैं। फार्म हाउस पर पानी संग्रहण के लिए बड़ा पानी का पौण्ड बना हुआ हैं और सोलर पैनल भी हैं।
काजरी गए तो मन हो गया


सुखदेवसिंह ने बताया की एक बार जोधपुर काजरी भ्रमण करने गए तो वहां फल व फूलदार पौधे देखे तो मन में विचार आया कि अपन भी नवाचार करे। खेत में अनार लगाने का मानस बनाया, अनार लगा दिए। एक तरह से नई खेती थी, फिर भी कर दी।सरकार को बागवानी पौधे लगाने के लिए प्रयास कर अनुदान पर्याप्त देना चाहिए। इससे किसान गिरते भू जल स्तर में कम पानी में अधिक उत्पादन व अच्छे मुनाफे वाली खेती कर सके।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

India-Central Asia Summit: सुरक्षा और स्थिरता के लिए सहयोग जरूरी, भारत-मध्य एशिया समिट में बोले पीएम मोदीAir India : 69 साल बाद फिर TATA के हाथ में एयर इंडिया की कमानयूपी चुनाव से रीवा का बम टाइमर कनेक्शननागालैंड में AFSPA कानून को खत्म करने पर विचार कर रही केंद्र सरकारजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रUP Election 2022: भाजपा सरकार ने नौजवानों को सिर्फ लाठीचार्ज और बेरोजगारी का अभिशाप दिया है: अखिलेश यादवतमिलनाडु सरकार का बड़ा फैसला, खत्म होगा नाईट कर्फ्यू और 1 फरवरी से खुलेंगे सभी स्कूल और कॉलेजपीएम नरेंद्र मोदी कल करेंगे नेशनल कैडेट कॉर्प्स की रैली को संभोधित, दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में होगा कार्यक्रम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.