मशीनों से लड़ रहे पानी की जंग

-संजय कॉलानी में पानी की नाकाबन्दी

By: Abhinav singh Chouhan

Published: 12 Nov 2017, 08:11 PM IST

बासनी(पत्रिका). बासनी स्थित संजय कॉलानी गली न. 13, 14, 15 में लोगों के घरों में पर्याप्त पानी नहीं आ रहा है। सिर्फ कॉलोनी के आधे घरों में ही पानी की जलापूर्ति होती है।

क्षेत्र में पानी का दबाव इतना कम है कि क्षेत्रवासी मोटर का इस्तमाल करके पानी की गति बढाते हैं। फिर भी लोग पर्याप्त पानी भर नहीं पाते हैं। 4 मोटर एक ही पाइप में लगाकर क्षेत्रवासी पानी अपने-अपने घरों तक पानी पहुंचाते है। मोटर लगाने से क्षेत्रवासियों को दिक्कतें उठानी पड़ती है। मोटर के तार खुल्ले पड़े रहने से हर समय हादसे का डर लगा रहता है। इस पर एक बार किसी बच्चे का पेर पड़ गया था और वह उधर ही नीचे गिर गया। 4 सालों से इस कॉलोनी में पानी नहीं आ रहा है। इन गलियों से निकले तो कॉलोनी की सड़कों पर सिर्फ पानी की मोटर ही नजर आएगी। मोटरों के खुले तार दुर्घटना को न्योता दे रहे हैं फिर भी जिम्मेदारों अपनी आंखें मूंद रखी है।

हर कोशिश नाकाम

पूरी गली में ही पानी की किल्लत है। क्षेत्रवासी पानी की मोटर लगाकर अपने से कई दूसरे घरों तक पाइप लगाकर पानी पहुंचाते हैं। एकांतरे जलापूर्ति के दिन पानी एक दिन छोड़कर एक दिन आता है। कई घरों के बाहर लोग रात को लाइन में पड़े पानी को भरने के लिए रात भर जागकर पानी भरते हैं। उसके बाद भी पानी पर्याप्त नहीं भर पाने की स्थिति में उन्हें पानी के टैंकर डलवाने पड़ रहे हैं।

क्षेत्रवासीयों का कहना है-

क्षेत्रवासीयों का कहना है कि जब आरसीसी रोड का निर्माण हुआ था तब सिर्फ 3 ईन्च के पाइप डले थे इस वजह से पानी 4 सालों से धिमे-धिमे ही आ रहा है। हम मोटर चला चला कर परेशान हो चुके है, मोटर बिजली से चलती है और फिर उसका बिल भी भरना पड़ता है। यह समस्या को लेकर हमने नगर निगम और अन्य विभागों को हजारों बार शिकायत की लेकिन कोई इसको अभी तक देखने नहीं आया। क्षेत्र में कई बार तो पानी का ट्रेक्टर भी डलवाना पड़ता है जब पानी बिलकुल भी नहीं आता। इस समस्या से लोगों को अपना पेट पालने के लिए बहुत सघर्ष करना पड़ रहा है।

पानी पीना हुआ महंगा

मोटर चलाने से क्षेत्रवासियों का बिजली का बिल भी आता है लेकिन पानी नहीं आता। इस पानी की समस्या से महिलाओं का ध्यान सिर्फ पानी पर रहता है। महिलाओं का कहना है कि पानी को दिन भर देखते रहने से बच्चों को स्कूल भेजने, खाना बनाने सहित काफी सारे काम अधूरे रह जाते हैं।

इनका कहना है-

पानी की समस्या से हम इतने परेशान हैं कि घर के दूसरे काम करना ही भूल जाते हैं। रोज पानी के टैंकर मंगाकर पानी की खपत पूरी करनी पड़ रही है। इतना सबकुछ झेलने के बाद भी जलदाय विभाग के अधिकारियों ने यहां आकर समस्या को देखने तक की फुर्सत नहीं है। -इन्द्रा, स्थानीय निवासी।

हम पिछले 4 सालों से इस समस्या से जूझ रहे हैं। इस समस्या के कारण हम कहीं आ जा नहीं सकते हैं। पूरा दिन पानी को देखते देखते ही निकल जाता है। जिसकी कहीं सुनवाई नहीं हो रही है। -उदाराम

हमारी कॉलोनी में पानी की समस्या को लेकर हमने कई बार शिकातय की लेकिन किसी अधिकारी ने समस्या का समाधान नहीं किया। सिर्फ हमारी 3 गलियां 13, 14, 15 में पानी नहीं आता है बाकी हर कॉलानी में पानी आ रहा है।=-जीतू, स्थानीय निवासी।

हम पानी की मोटर चला-चला के थक गए हैं। पानी कम आता है बिजली का बिल बढा हुआ आता है। इस समस्या के समाधान के लिए अब अगर कोई कार्रवाई नहीं हुई तो हम विरोध प्रदर्शन करेंगे। - चम्पा, स्थानीय निवासी।

Abhinav singh Chouhan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned