शीतला माता मंदिर में ध्वजारोहण कल

 

कोविड-19 गाइडलाइन के कारण रात्रि 10 बजे से सुबह 5 बजे तक बंद रहेगा मंदिर,

घरों में बनेगा 'ठंडाÓ और लगेगा भोग

By: Nandkishor Sharma

Published: 02 Apr 2021, 11:34 PM IST

जोधपुर. शीतला माता (कागा तीर्थ ) मंदिर ट्रस्ट की ओर से शनिवार को नागोरीगेट के बाहर स्थित प्राचीन शीतला माता मंदिर शिखर पर ध्वजारोहण किया जाएगा। मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष निर्मल कच्छवाह ने बताया कि शाम 4.30 बजे कोविड-गाइडलाइन पालना के साथ मंदिर पुजारियों, ट्रस्टीगणों की मौजूदगी में राज्यसभा सदस्य राजेन्द्र गहलोत, निगम उत्तर क्षेत्र की महापौर कुंती देवड़ा परिहार व समाजसेवी जसवंतसिंह कच्छवाह ध्वजारोहण करेंगे। अध्यक्ष ने बताया कि कोविड 19 महामारी अधिनियम में राजस्थान सरकार की ओर से जारी दिशानिर्देश के अनुसार नगरीय निकाय की सीमा में रात्रि 10 बजे से सुबह 5 बजे तक रात्रिकालीन कफ्र्यु के कारण धार्मिक स्थलों को रात्रिकालीन खुला रखने की अनुमति नहीं होने से मंदिर सुबह 5 बजे से रात्रि 10 बजे तक बंद रहेगा। मंदिर प्रशासन की ओर से सुरक्षा की दृष्टि से कुल 35 सीसीटीवी कैमरों की व्यवस्था की गई है। शीतला माता मेला अधिकारी कुलदीप गहलोत ने बताया कि मंदिर परिसर में श्रद्धालुओं को बिना मास्क व पॉलीथिन के साथ प्रवेश वर्जित रहेगा। पुलिस प्रशासन व नगर निगम के अधिकारियों का मंदिर प्रबंधन के साथ समन्वय स्थापित कर कोविड गाइड लाइन के अनुसार सुरक्षा की दृष्टि से सभी व्यवस्थाएं की गई है।

रसोई घरों में रहेगा अवकाश
शिशुओं को ओरी-अचपड़ा सहित चर्म संबंधी बीमारियों से संरक्षण प्रदान करने की मनौती से जुड़ा शीतला पूजन अष्टमी रविवार के दिन किया जाएगा। शीतलाष्टमी को घरों में शीतला माता, ओरी माता, अचपड़ाजी एवं पंथवारी माता का प्रतीक बनाकर पूजन किया जाएगा। इस दिन घरों में एक दिन पूर्व शनिवार को बने भोजन व पकवानों का भोग लगाकर 'ठंडा Ó प्रसादी के रूप सेवन किया जाएगा। नागौरीगेट के बाहर कागा स्थित मंदिर परिसर के मेला मैदान में ऐतिहासिक शीतला मेला इस बार कोरोना संक्रमण के कारण नहीं होगा।

जोधपुर में अष्टमी को होता है पूजन

शीतला माता पूजन पूरे भारत में केवल जोधपुर में चैत्र कृष्ण पक्ष की सप्तमी के बजाए दूसरे दिन अष्टमी के दिन किया जाता है। इसका प्रमुख कारण करीब ढाई सौ साल पहले विक्रम संवत 1826 में सप्तमी के दिन तत्कालीन जोधपुर के महाराजा विजयसिंह के महाराज कुमार की मृत्यु होने से अकता रखने की परम्परा है।

Nandkishor Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned