60 वर्ष में पहली बार पावटा मंडी में आलू-प्याज और फलों की आवक बंद

रात आठ बजे के बाद पुलिस ने गाडिय़ों को प्रवेश नहीं दिया

By: Ranveer

Published: 07 Jul 2019, 03:01 AM IST

 

 

जोधपुर.
शहर की सबसे पुरानी मंडी पावटा में शनिवार रात आठ बजे से आलू-प्याज और फलों की आवक बंद कर दी गई। मंडी प्रशासन ने पुलिसकर्मियों को मंडी के मुख्य गेट पर तैनात कर व्यापारियों को भदवासिया मंडी में शिफ्ट करने के लिए सख्ती दिखाते हुए रात आठ बजे बाद गाडिय़ों के प्रवेश पर पाबंदी लगा दी। करीब 60 वर्ष बाद मंडी में रविवार से फलों की आवक नहीं होगी और व्यापारी स्टॉक में पड़ा माल बेच पाएंगे।

व्यापारियों के भदवासिया मंडी में शिफ्ट नहीं होने तक मंडी गेट पर पुलिस का पहरा रहेगा। व्यापारियों के पास दो से तीन दिन का स्टॉक बचा है। इसके बाद मंडी में फलों की बिक्री बंद हो जाएगी।
भदवासिया स्थित सावित्री बाई फुले कृषि उपज मंडी के सचिव भागीरथ प्रजापत ने बताया कि पावटा मंडी से करीब दो दर्जन व्यापारियों ने भदवासिया मंडी में दुकानों का निर्माण शुरू करवा दिया है। करीब 285 व्यापारियों को भदवासिया मंडी में शिफ्ट होने के लिए नोटिस दिए गए हैं।

सोशल मीडिया पर चल रही राहत की अफवाह ध्यान नहीं दे व्यापारी

मण्डी सचिव ने बताया कि व्यापारियों के संगठनों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से 19 अक्टूबर तक भदवासिया मंडी में शिफ्ट होने के लिए समय मांगा है। कुछ लोग सोशल मीडिया पर भदवासिया मंडी में शिफ्ट होने के लिए 19 अक्टूबर तक समय देने की अफवाह फैला रहे हैं। व्यापारी इन अफवाहों में नहीं आएं। व्यापारियों को भदवासिया मंडी में शिफ्ट होने के लिए महज सात दिन की मोहलत दी गई है। इसके बाद आवंटन रद्द की कार्यवाही की जाएगी।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned