आखिरकार इन्दावटी क्षेत्र की उम्मीद हुई पूरी, अब धरातल पर आएगा गोतावर बांध

केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्रसिंह शेखावत ने इंद्रोका बालरवा पहुंचकर प्रस्तावित बांध परियोजना को लेकर विस्तार से चर्चा की। शेखावत पहाड़ों के बीच प्रस्तावित बांध परियोजना स्थल का अवलोकन किया। वही जल शक्ति मंत्रालय के अधिकारियों ने बांध परियोजना की विस्तृत तकनीकी जानकारी दी। इंद्रोका बालरवा की पहाडिय़ों के बीच बांध बनने से भूजल स्तर बढऩे की भरपूर संभावनाएं बन सकती है।

By: pawan pareek

Published: 01 Dec 2020, 01:04 AM IST

बेलवा (जोधपुर). इन्दावटी क्षेत्र के छीतर पहाडिय़ों में दशकों से गोतावर बांध की मांग पूरी हो गई है। केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्रसिंह शेखावत ने सोमवार को छीतर पहाडिय़ों में कैचमेंट एरिया देखकर बड़े भूभाग में प्रस्तावित बांध परियोजना को हरी झंडी देते हुए कृषि बाहुल्य क्षेत्र को सौगात दी है।

बांध निर्माण को जल शक्ति मंत्रालय के जल जीवन मिशन द्वारा स्वीकृति मिलने के बाद अब इन्दावटी के साथ ही शेरगढ क्षेत्र का कायापलट हो सकेगा। राजस्थान पत्रिका के सामाजिक सरोकारों से छीतर क्षेत्र में जल संरक्षण की संभावनाओं को लेकर सिलसिलेवार समाचारों का प्रकाशन किया, जिससे यह प्रोजेक्ट इन्दावटी में जनजागरण के रूप में बदल गया। गोतावर विकास कमेटी, इन्दावटी के प्रयासों से बांध निर्माण प्रोजेक्ट को बल मिला।


केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्रसिंह शेखावत ने सोमवार को जल शक्ति मंत्रालय भारत सरकार व वेपकोस के अधिकारियों के साथ गोतावर माता मंदिर में दर्शन कर बांध प्रोजेक्ट का निरीक्षण किया। केन्द्रीय मंत्री शेखावत ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जल जीवन मिशन से बूंद-बूंद जल बचाने के अभियान के तहत गोतावर महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट है। इसके लिए पूर्व में सर्वे हुआ था उसकी डाटा रिपोर्ट देखने के बाद छीतर की जल भराव क्षमता को देखते हुए शेखावत ने बांध की ऊंचाई 20 मीटर तक बढाने के निर्देश दिए।


100 करोड़ की बांध-एनिकट परियोजनाएं

जल शक्ति मंत्री ने पत्रिका से बातचीत में बताया कि बरसात की बूंद बूंद को संचय करने के पीएम मोदी के संकल्प व गिरते जलस्तर नियंत्रित करने के लिए जिलेभर में 100 करोड़ की बांध-एनिकट परियोजनाओं पर काम किया जाएगा। उन्होंने कहा कि गोतावर बांध बनने से नदी से हो रहे खेतों का कटाव रुकेगा तो वहीं जल संरक्षण भी हो सकेगा। इस मौके पर इन्दावटी राणोसा प्रतापसिंह इन्दा, भाजपा जिला महामंत्री देहात उत्तर जसवंतसिंह देवातू, गोतावर विकास कमेटी गायड़सिंह बस्तवा, भैरूसिंह बेलवा, सवाईसिंह खारीबेरी, भोमसिंह डेरिया, बेलवा सरपँच हाथीसिंह, नखतेंद्रसिंह बेलवा राणाजी, जोगेन्द्रसिंह बस्तवा सहित इन्दावटी के लोग मौजूद रहे।

पत्रिका अभियान, बना जन अभियान

छीतर की पहाडिय़ों में अथाह जल भंडार के संरक्षण की संभावनाओं को लेकर विगत कई वर्षों से राजस्थान पत्रिका समाचार पत्र समूह सामाजिक सरोकार के तहत कार्य कर रहा है। प्रस्तावित गोतावर बांध प्रोजेक्ट से इन्दावटी के आमलोगों को जोड़कर जन जागृति मिशन के रूप में सार्थक हुआ। पत्रिका में प्रमुखता से सिलसिलेवार प्रकाशित समाचारों से स्थानीय जनप्रतिनिधियों को ध्यान आकृष्ट किया।


10 वर्ग किलोमीटर में गोतावर बांध

करीब 2100 बीघा क्षेत्र में गोतावर बांध का निर्माण जल संरक्षण के साथ शेरगढ़ के विकास व समृद्घि में अहम साबित होगा। यहां पर्यटन क्षेत्र भी विकसित किया जा सकता है। करीब 10 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र के फैलाव में इस बांध के निर्माण से जिलेभर में पेयजल किल्लत से निजात मिल सकेगी।

इंद्रोका - बालरवा पहाडिय़ों में बनेगा बांध

केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्रसिंह शेखावत ने इंद्रोका बालरवा पहुंचकर प्रस्तावित बांध परियोजना को लेकर विस्तार से चर्चा की। शेखावत पहाड़ों के बीच प्रस्तावित बांध परियोजना स्थल का अवलोकन किया। वही जल शक्ति मंत्रालय के अधिकारियों ने बांध परियोजना की विस्तृत तकनीकी जानकारी दी। इंद्रोका बालरवा की पहाडिय़ों के बीच बांध बनने से भूजल स्तर बढऩे की भरपूर संभावनाएं बन सकती है।

बांध से पन्द्रह-बीस गांवों को लाभ होगा और पानी की समस्या से भी निजात मिल सकेगी। इस दौरान भारतीय किसान संघ के राष्ट्रीय जैविक प्रमुख रतनलाल डागा, प्रान्त प्रचार प्रमुख तुलछाराम सिंवर व जिला उपाध्यक्ष गोरधन चौधरी ने शेखावत को क्षेत्र में गिरते भूजल से समाप्त हो रहे कृषि क्षेत्र के बारे में विस्तार से अवगत करवाया तथा क्षेत्र में वर्षा जल संग्रहण के लिए इंद्रोका की पहाडिय़ों पर बांध के प्रस्ताव का स्वागत किया वहीं बालरवा के बाड़ी क्षेत्र में ओर उजलिया में भी बांध बनाने की मांग की।

गोतावर बांध प्रोजेक्ट : एक नजर

बांध क्षेत्र - 2100 बीघा, जल भराव क्षमता (मिलियन) - 4.15 घनफीट

इनको मिलेगा लाभ

ग्राम पंचायतें - 23, राजस्व गांव -118, जनसंख्या -106955, पशुधन -167048, ट्यूबवैल -1893, हैंडपम्प -1564, कुएं -673, कृषि भूमि -69186 बीघा

pawan pareek Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned