विधवाओं की जीपीएफ राशि में बाधा बन रहा जीए 55ए, वृद्धावस्था में चक्कर काट हो रहीं परेशान

विधवाओं की जीपीएफ राशि में बाधा बन रहा जीए 55ए, वृद्धावस्था में चक्कर काट हो रहीं परेशान

Harshwardhan Singh Bhati | Publish: Mar, 14 2018 03:27:12 PM (IST) Jodhpur, Rajasthan, India

राज्य बीमा एवं प्रावधायी निधि (जीपीएफ) विभाग ने रोकी विधवाओं की जीपीएफ राशि

अमित दवे/जोधपुर. राज्य सेवा में रहते हुए सरकारी कर्मचारी के वेतन में से जीपीएफ का भुगतान राज्य बीमा एवं प्रावधायी निधि (जीपीएफ) विभाग के जिला कार्यालय करते हैं। सेवानिवृत्ति के बाद जिन कर्मचारियों का निधन हो गया, उनकी विधवा पत्नियों ने अपने पति के जीपीएफ खातों की जांच करवाई, तो पता चला कि उनके पति को सेवानिवृत्ति पर जीपीएफ में जमा राशि पूरी नहीं मिली। अब बेसहारा महिलाएं जीपीएफ विभाग के जिला कार्यालयों में चक्कर काट रही हैं, जहां उन्हें शेष राशि का 'जीए55एÓ प्रस्तुत करने पर ही भुगतान करने के लिए लिखित में जवाब दिया जा रहा है।


खातों में कम मिले रुपए

केस-1


फूलीदेवी के पति कुन्नाराम चिकित्सा विभाग पीपाड़ जिला जोधपुर से दिसम्बर 1997 में सेवानिवृत हुए। 17 अगस्त 2013 को उनका निधन हो गया। फूलीदेवी ने पति के निधन के बाद जीपीएफ खाते की जांच कराई तो, एक लाख 20 हजार रुपए कम मिले। फूलीदेवी ने बकाया राशि का दावा राज्य बीमा एवं प्रावधायी निधि (जीपीएफ ) विभाग जोधपुर ग्रामीण में किया। विभाग ने जीए55ए प्रस्तुत करने पर ही भुगतान जारी करने का जवाब दिया।


केस 2

 

यशोदा देवी के पति प्रभुराम सैन पंचायत समिति रियॉ बड़ी जिला नागौर से 31 दिसम्बर 2001 में सेवानिवृत हुए। निधन 28 फरवरी 2015 को हुआ। यशोदा देवी ने पति के जीपीएफ की जांच कराई तो, 96 हजार रुपए सेवानिवृत्ति पर कम मिले। बकाया राशि का दावा जीपीएफ विभाग नागौर में प्रस्तुत करने पर विभाग ने भुगतान देने से इंकार करते हुए जीए77ए व बिल की प्रतियां उपलब्ध करवाने पर ही भुगतान जारी करने का जवाब दिया।

केस-3


कमला देवी के पति आदुराम ब्लॉक प्रारम्भिक शिक्षा अधिकारी पंचायत समिति रियॉबडी नागौर से 31 मई 2010 में सेवानिवृत हुए। उनका निधन 22 दिसम्बर 2015 को हुआ। कमला देवी ने पति के जीपीएफ खातों की जांच करवाई, तो पाया गया कि 50 हजार रुपए कम मिले है। बकाया राशि का दावा जीपीएफ विभाग नागौर में पेश करने विभाग ने भुगतान नहीं करते हुए बकाया राशि के जीए55ए पेश करवाने पर भुगतान जारी करने का जवाब दिया।


केस 4

गीता देवी के पति गोटुलाल जलदाय विभाग कपासन (चितौडगढ़) से 31 जुलाई 2008 में सेवानिवृत्त हुए। उनका देहान्त 18 अगस्त 2017 को हो गया। बकाया राशि का दावा जीपीएएफ विभाग चितौडगढ़़ में पेश करने पर विभाग ने भुगतान नहीं किया एवं बकाया राशि के जीए55ए प्रस्तुत करने पर भुगतान जारी करने का जवाब दिया। इनके 20 हजार रुपए बकाया है।

Prev Page 1 of 2 Next

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned