रिटायर्ड कर्नल बताकर सेना में भर्ती का झांसा, कई अभ्यर्थियों से एंठे पैसे

- जोधपुर मिलिट्री इंटेलीजेंस ने उदयपुर में की कार्यवाही, 10 हजार रुपए लेते रंगे हाथों दबोचा
- उदयपुर थाना पुलिस ने दर्ज की एफआईआर, गेंग के तार शेखावटी से जुड़े

By: Gajendrasingh Dahiya

Published: 26 Feb 2021, 05:04 PM IST

जोधपुर. उदयपुर स्थित खेल गांव में चल रही आर्मी भर्ती रैली में अभ्यर्थियों को सेना भर्ती में चिकित्सकीय परीक्षण व लिखित परीक्षा में पास करवाने का प्रलोभन देकर दलालों द्वारा पैसे मांगने का मामला सामने आया है। जोधपुर मिलिट्री इंटेलीजेंस ने उदयपुर जाकर वहां स्थानीय सुखेर पुलिस थाना के साथ मिलकर दो जनों को दबोचा। इसमें एक 10 हजार रुपए लेते हुए रंगे हाथों जबकि दूसरा होटल में पकड़ा गया। गुरुवार को पुलिस ने दोनों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कर ली। दोनों से पूछताछ की जा रही है। दलालों के तार शेखावटी से जुड़े हैं। इन दोनों को फोन पर सीकर से रिटायर्ड कर्नल बताकर ओमसिंह नामक व्यक्ति फोन कर रहा था। पुलिस व मिलिट्री इंटेलीजेंस अब कॉल डिटेल्स के आधार पर शेखावटी में कार्रवाही करेगी।

जोधपुर सहित 11 जिलों की चल रही है सेना भर्ती
उदयपुर स्थित खेल गांव में 4 से 27 फरवरी तक जोधपुर सहित 11 जिलों के अभ्यर्थियों की सेना भर्ती रैली का आयोजन किया जा रहा है। जोधपुर मिलिट्री इंटेलीजेंस को दलालों के बारे में सूचना मिलने पर पिछले सप्ताह ही टीम ने उदयपुर में जाकर छापेमारी शुरू की। दौड़ में पास होने वाले एक अभ्यर्थी नरेंद्र सिंह राठौड़ से नागौर के डीडवाना के पाण्डोराई गांव निवासी नरेंद्र सिंह बाजिया (२1 वर्ष) ने सम्पर्क कर ४ लाख में भर्ती का प्रलोभन दिया। शुरुआत में 50 हजार रुपए मांगें और अपने आपको सीकर में रिटायर्ड कर्नल ओमसिंह का आदमी बताया। अभ्यर्थी नरेंद्र सिंह राठौड़ ने दलाल को 10 हजार रुपए दिए, जिसे रंगे हाथों मिलिट्री इंटेलीजेंस और उदयपुर थाना पुलिस ने पकड़ लिया। उसकी निशानदेही पर होटल झंकार में ठहरे उसके दूसरे साथी जयपुर के कोटपुतली स्थित हम्बोरीवास गांव निवासी कमलेश गुर्जर (३९ वर्ष) को भी गिरफ्तार कर लिया गया। कमलेश भी अपने आपको आर्मी से सेवानिवृत्त बता रहा है।

अब सीकर में होगी कार्रवाही

सीकर और झुंझनूं बेल्ट के कई युवा आर्मी में है। एेसे में कुछ दलाल अपने आपको शेखावटी का बताकर अभ्यर्थियों को आसानी से ठग लेते हैं। कई दलाल शेखावटी के भी है जो अपना उल्लू सीधा करते हैं। अपने आपको रिटायर्ड कर्नल बताने वाले ओमसिंह के विरुद्ध अब आर्मी व पुलिस कार्यवाही करेगी। गौरतलब है कि हर साल सेना भर्ती के दौरान दलाल सक्रिय रहते हैं और अभ्यर्थियों को आर्मी में सेवानिवृत्त अधिकारी बताकर पैसे एंठे लेते हैं। न तो अभ्यर्थी का चयन होता है और न ही पैसे वापस मिलते हैं।

Gajendrasingh Dahiya Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned